Asianet News Hindi

महागठबंधन के 55 तो एनडीए के 48 प्रत्याशियों की संपत्ति 1 करोड़ से ज्यादा, क्रिमिनल केस वाले 60% कैंडिडेट्स

First Published Oct 11, 2020, 10:30 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

पटना (Bihar) । बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) तीन चरणों में होगा। 28 अक्टूबर को होने वाले पहले चरण के चुनाव के लिए नामांकन का दौर समाप्त हो गया। 71 सीटों पर होने वाले इस चुनाव के लिए 1,057 कैंडिडेट्स ने नामांकन किया है। लेकिन,जो सीधी लड़ाई है, वो है महागठबंधन और एनडीए के बीत होनी बताई जा रही है।। ऐसे में इनके कैंडिडेट्स के शपथ देखने पर यह बात सामने आई कि दोनों तरफ से करोड़पतियों को मैदान में उतारने पर जोर दिया गया, ऐसा इसलिए कि 103 प्रत्याशी की संपत्ति एक करोड़ से ज्यादा है, जिनमें महागठबंधन से 55 तो एनडीए से 48 उम्मीदवार शामिल हैं।

पहले फेज की 71 सीटों पर एनडीए और महागठबंधन के जो 142 कैंडिडेट्स खड़े हुए हैं, उनमें से 103 ऐसे हैं, जिनके पास 1 करोड़ रुपए से ज्यादा की संपत्ति है। इनमें एनडीए की ओर से 71 प्रत्याशी उतारे गए हैं, जिनमें शामिल भाजपा ने 29 में 17, जदयू ने 35 में 29 , हम के 6 में 1, वीआईपी ने एक में एक ऐसे प्रत्याशी को उतारा है,जिसकी संपत्ति एक करोड़ से अधिक हैं। 

पहले फेज की 71 सीटों पर एनडीए और महागठबंधन के जो 142 कैंडिडेट्स खड़े हुए हैं, उनमें से 103 ऐसे हैं, जिनके पास 1 करोड़ रुपए से ज्यादा की संपत्ति है। इनमें एनडीए की ओर से 71 प्रत्याशी उतारे गए हैं, जिनमें शामिल भाजपा ने 29 में 17, जदयू ने 35 में 29 , हम के 6 में 1, वीआईपी ने एक में एक ऐसे प्रत्याशी को उतारा है,जिसकी संपत्ति एक करोड़ से अधिक हैं। 

महागठबंधन की इस मामले में बात करें तो उसने भी सभी सीटों पर अपने प्रत्याशियों को उतारे हैं, जिनमें शामिल आरजेडी ने 41 में 38, कांग्रेस ने 22 में 15 और लेफ्ट ने 8 में 2 ऐसे प्रत्याशियों शामिल हैं, जिनकी संपत्ति एक करोड़ से अधिक है।

महागठबंधन की इस मामले में बात करें तो उसने भी सभी सीटों पर अपने प्रत्याशियों को उतारे हैं, जिनमें शामिल आरजेडी ने 41 में 38, कांग्रेस ने 22 में 15 और लेफ्ट ने 8 में 2 ऐसे प्रत्याशियों शामिल हैं, जिनकी संपत्ति एक करोड़ से अधिक है।

दूसरी ओर पहले फेज के इन सभी 142 कैंडिडेट्स के क्रिमिनल केस की बात करें तो 84, यानी 60% कैंडिडेट्स के ऊपर कोई न कोई क्रिमिनल केस जरूर दर्ज है। फिर भले ही वो आचार संहिता के उल्लंघन का मामला ही क्यों न हो।

दूसरी ओर पहले फेज के इन सभी 142 कैंडिडेट्स के क्रिमिनल केस की बात करें तो 84, यानी 60% कैंडिडेट्स के ऊपर कोई न कोई क्रिमिनल केस जरूर दर्ज है। फिर भले ही वो आचार संहिता के उल्लंघन का मामला ही क्यों न हो।

यह भी बात सामाने आई कि मोकामा सीट से मौजूदा विधायक अनंत सिंह के ऊपर सबसे ज्यादा 38 मामले दर्ज हैं। इनमें हत्या, जान से मारने की धमकी, हत्या की कोशिश, किडनैपिंग जैसे मामले शामिल हैं। 

(फाइल फोटो)

यह भी बात सामाने आई कि मोकामा सीट से मौजूदा विधायक अनंत सिंह के ऊपर सबसे ज्यादा 38 मामले दर्ज हैं। इनमें हत्या, जान से मारने की धमकी, हत्या की कोशिश, किडनैपिंग जैसे मामले शामिल हैं। 

(फाइल फोटो)

अपराधिक छवि वाले प्रत्याशियों में दूसरे नंबर पर आरा सीट से भाकपा (माले) के कैंडिडेट्स मनोज मंजिल हैं, जिनके ऊपर 30 केस दर्ज हैं। जिन्हें नामांकन के बाद ही गिरफ्तार कर लिया था।

अपराधिक छवि वाले प्रत्याशियों में दूसरे नंबर पर आरा सीट से भाकपा (माले) के कैंडिडेट्स मनोज मंजिल हैं, जिनके ऊपर 30 केस दर्ज हैं। जिन्हें नामांकन के बाद ही गिरफ्तार कर लिया था।

बात अगर इसी तरह एनडीए की करें तो उनके 37 कैंडिडेट्स ऐसे हैं, जिनके ऊपर कोई न कोई क्रिमिनल केस दर्ज है। इनमें भाजपा के  18 जेडीयू के 14, हम के 4 और वीआईपी के 1 प्रत्याशी शामिल है, जबकि, महागठबंधन के 43 कैंडिडेट्स के ऊपर केस चल रहे हैं। जिनमें आरजेडी ने 26, कांग्रेस ने 11 और लेफ्ट ने 5 क्रिमिनल केस वाले उम्मीदवारों को टिकट दिया है।

 

बात अगर इसी तरह एनडीए की करें तो उनके 37 कैंडिडेट्स ऐसे हैं, जिनके ऊपर कोई न कोई क्रिमिनल केस दर्ज है। इनमें भाजपा के  18 जेडीयू के 14, हम के 4 और वीआईपी के 1 प्रत्याशी शामिल है, जबकि, महागठबंधन के 43 कैंडिडेट्स के ऊपर केस चल रहे हैं। जिनमें आरजेडी ने 26, कांग्रेस ने 11 और लेफ्ट ने 5 क्रिमिनल केस वाले उम्मीदवारों को टिकट दिया है।

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios