जानें टर्म इन्श्योरेंस लेना क्यों है फायदे का सौदा, परेशानी से बचने के लिए इन बातों का रखना होगा ध्यान

First Published 24, Oct 2020, 9:17 AM

बिजनेस डेस्क। आजकल ज्यादातर लोग लाइफ इन्श्योरेंस पॉलिसी जरूर लेते हैं। लाइफ इन्श्योरेंस पॉलिसी में निवेश करने से न सिर्फ मेच्योरिटी पर अच्छा-खासा रिटर्न मिलता है, वहीं किसी तरह की आकस्मिक आपदा की स्थिति में परिवार को भी फाइनेंशियल सिक्युरिटी मिलती है। इसलिए लाइफ इन्श्योरेंस करवाना एक बेहतर विकल्प है। लाइफ इन्श्योरेंस प्लान भी कई तरह के होते हैं। अपनी जरूरतों और उनमें मिलने वाले फायदे को देखते हुए इसका चुनाव करना चाहिए। आज हम आपको बताने जा रहे हैं टर्म इन्श्योरेंस के बारे में। टर्म इन्श्योरेंस की पॉलिसी लेने से भी काफी फायदा हो सकता है। जानें इसके बारे में।
(फाइल फोटो)
 

<p><strong>क्या है टर्म इन्श्योरेंस</strong><br />
किसी लाइफ इन्श्योरेंस कंपनी द्वारा दिया जाने वाला यह एक ऐसा इन्श्योरेंस है, जो पॉलिसीधारक को एक तय समय के लिए फाइनेंशियल कवरेज देता है। पॉलिसी अवधि में इन्श्योर किए गए व्यक्ति की मृत्यु होने की स्थिति में कंपनी डेथ बेनिफिट का भुगतान करती है। इससे परिवार को वित्तीय सुरक्षा मिलती है। इसके साथ ही इससे छोटे बच्चों की उच्च शिक्षा जैसी भविष्य की जरूरतों को भी पूरा किया जा सकता है।<br />
(फाइल फोटो)</p>

क्या है टर्म इन्श्योरेंस
किसी लाइफ इन्श्योरेंस कंपनी द्वारा दिया जाने वाला यह एक ऐसा इन्श्योरेंस है, जो पॉलिसीधारक को एक तय समय के लिए फाइनेंशियल कवरेज देता है। पॉलिसी अवधि में इन्श्योर किए गए व्यक्ति की मृत्यु होने की स्थिति में कंपनी डेथ बेनिफिट का भुगतान करती है। इससे परिवार को वित्तीय सुरक्षा मिलती है। इसके साथ ही इससे छोटे बच्चों की उच्च शिक्षा जैसी भविष्य की जरूरतों को भी पूरा किया जा सकता है।
(फाइल फोटो)

<p><strong>किसे लेना चाहिए टर्म इन्श्योरेंस</strong><br />
टर्म इन्श्योरेंस किसे लेना चाहिए, यह कई बातों पर निर्भर करता है। इसे लेने के पहले परिवार के वित्तीय लक्ष्यों और देनदारियों का ध्यान रखना जरूरी है। टर्म इन्श्योरेंस प्लान में कुछ गंभीर बीमारियों में रिस्क कवर मिलता है। इसलिए अगर किसी को दिल की बीमारी, कैंसर या&nbsp;जीवनशैली से जुड़ी किसी बीमारी का खतरा हो, तो टर्म प्लान लेना बेहतर होता है।<br />
(फाइल फोटो)<br />
&nbsp;</p>

किसे लेना चाहिए टर्म इन्श्योरेंस
टर्म इन्श्योरेंस किसे लेना चाहिए, यह कई बातों पर निर्भर करता है। इसे लेने के पहले परिवार के वित्तीय लक्ष्यों और देनदारियों का ध्यान रखना जरूरी है। टर्म इन्श्योरेंस प्लान में कुछ गंभीर बीमारियों में रिस्क कवर मिलता है। इसलिए अगर किसी को दिल की बीमारी, कैंसर या जीवनशैली से जुड़ी किसी बीमारी का खतरा हो, तो टर्म प्लान लेना बेहतर होता है।
(फाइल फोटो)
 

<p><strong>किस उम्र में लेना चाहिए टर्म इन्श्योरेंस&nbsp;</strong><br />
यह जानना जरूरी है कि किस उम्र में टर्म इन्श्योरेंस प्लान लेना बेहतर होता है। अगर किसी की उम्र 30 साल की और वह स्मोकिंग नहीं करता हो तो 60 साल की उम्र तक के लिए 1 करोड़ रुपए का टर्म इन्श्योरेंस ले सकता है। इसके लिए सालाना 7,400 रुपए देने होंगे। वहीं, अगर उम्र 45 साल है और व्यक्ति धूम्रपान नहीं करता है, तो सालाना प्रीमियम 14,700 रुपए हो जाएगा। टर्म इन्श्योरेंस में प्रीमियम की राशि में बदलाव नहीं होता है। यानी 30 साल या उससे ज्यादा उम्र के व्यक्ति के लिए अगले 30 साल के लिए सालाना किस्त एक जैसी &nbsp;रहती है।<br />
(फाइल फोटो)</p>

किस उम्र में लेना चाहिए टर्म इन्श्योरेंस 
यह जानना जरूरी है कि किस उम्र में टर्म इन्श्योरेंस प्लान लेना बेहतर होता है। अगर किसी की उम्र 30 साल की और वह स्मोकिंग नहीं करता हो तो 60 साल की उम्र तक के लिए 1 करोड़ रुपए का टर्म इन्श्योरेंस ले सकता है। इसके लिए सालाना 7,400 रुपए देने होंगे। वहीं, अगर उम्र 45 साल है और व्यक्ति धूम्रपान नहीं करता है, तो सालाना प्रीमियम 14,700 रुपए हो जाएगा। टर्म इन्श्योरेंस में प्रीमियम की राशि में बदलाव नहीं होता है। यानी 30 साल या उससे ज्यादा उम्र के व्यक्ति के लिए अगले 30 साल के लिए सालाना किस्त एक जैसी  रहती है।
(फाइल फोटो)

<p><strong>कैसे चुनें बढ़िया प्लान</strong><br />
फाइनेंशियल एक्सपर्ट्स का कहना है कि &nbsp;45 साल से कम उम्र में लाइफ कवर सालाना आय का 20 गुना होना चाहिए। अगर किसी की उम्र 45 साल से ज्यादा है, तो यह आपकी सालाना आय के 15 गुना होना चाहिए। इसके बाद बात आती है प्रीमियम पेमेंट फ्रीक्वेंसी की। इन दिनों टर्म प्लान में मासिक, तिमाही या सालाना आधार पर भुगतान की सुविधा मिलती है।<br />
(फाइल फोटो)<br />
&nbsp;</p>

कैसे चुनें बढ़िया प्लान
फाइनेंशियल एक्सपर्ट्स का कहना है कि  45 साल से कम उम्र में लाइफ कवर सालाना आय का 20 गुना होना चाहिए। अगर किसी की उम्र 45 साल से ज्यादा है, तो यह आपकी सालाना आय के 15 गुना होना चाहिए। इसके बाद बात आती है प्रीमियम पेमेंट फ्रीक्वेंसी की। इन दिनों टर्म प्लान में मासिक, तिमाही या सालाना आधार पर भुगतान की सुविधा मिलती है।
(फाइल फोटो)
 

<p><strong>जानें राइडर के बारे में</strong><br />
टर्म इन्श्योरेंस में एड ऑन फीचर्स को राइडर कहा जाता है। ये बेसिक टर्म प्लान में वैल्यू एड करते हैं। ये प्लान का हिस्सा नहीं होते हैं और इन्हें अलग से खरीदना पड़ता है। अगर कोई गंभीर बीमारी के लिए राइडर खरीदता है तो वह बीमारी होने पर बीमा कंपनी की ओर से इन्श्योरेंस पेआउट पाने का हकदार होगा। रेग्युलर टर्म प्लान में बीमित व्यक्ति की मौत के बाद नॉमिनी को ही पैसा मिलता है, लेकिन किसी ने अगर क्रिटिकल इलनेस राइडर खरीद रखा है तो इन पैसों का इस्तेमाल बीमारी के इलाज में किया जा सकता है।<br />
(फाइल फोटो)<br />
&nbsp;</p>

जानें राइडर के बारे में
टर्म इन्श्योरेंस में एड ऑन फीचर्स को राइडर कहा जाता है। ये बेसिक टर्म प्लान में वैल्यू एड करते हैं। ये प्लान का हिस्सा नहीं होते हैं और इन्हें अलग से खरीदना पड़ता है। अगर कोई गंभीर बीमारी के लिए राइडर खरीदता है तो वह बीमारी होने पर बीमा कंपनी की ओर से इन्श्योरेंस पेआउट पाने का हकदार होगा। रेग्युलर टर्म प्लान में बीमित व्यक्ति की मौत के बाद नॉमिनी को ही पैसा मिलता है, लेकिन किसी ने अगर क्रिटिकल इलनेस राइडर खरीद रखा है तो इन पैसों का इस्तेमाल बीमारी के इलाज में किया जा सकता है।
(फाइल फोटो)
 

<p><strong>कहां से खरीद सकते हैं टर्म इन्श्योरेंस</strong><br />
टर्म इन्श्योरेंस &nbsp;के बारे में अच्छी तरह समझने के बाद ही इसे खरीदना चाहिए। सभी इन्श्योरेंस कंपनियां टर्म प्लान ऑफर करती हैं। इसे ऑनलाइन ऑफलाइन खरीदा जा सकता है। इसे ऑनलाइन खरीदें या ऑफलाइन, इससे प्रोडक्ट में कोई फर्क नहीं पड़ता है। ऑनलाइन खरीदने की प्रॉसेस आसान है, इसमें समय की भी बचत होती है।&nbsp;<br />
(फाइल फोटो)</p>

कहां से खरीद सकते हैं टर्म इन्श्योरेंस
टर्म इन्श्योरेंस  के बारे में अच्छी तरह समझने के बाद ही इसे खरीदना चाहिए। सभी इन्श्योरेंस कंपनियां टर्म प्लान ऑफर करती हैं। इसे ऑनलाइन ऑफलाइन खरीदा जा सकता है। इसे ऑनलाइन खरीदें या ऑफलाइन, इससे प्रोडक्ट में कोई फर्क नहीं पड़ता है। ऑनलाइन खरीदने की प्रॉसेस आसान है, इसमें समय की भी बचत होती है। 
(फाइल फोटो)