लॉकडाउन में हर रोज लोग होते रहे कंगाल, दोनों हाथ से दौलत बटोरते रहे मुकेश अंबानी; टाटा-बजाज पिछड़े

First Published 5, Jun 2020, 2:51 PM

मुंबई: कोरोना वायरस के चुनौतीपूर्ण काल में जियो प्लेटफॉर्म के लिए एक के एक बाद बड़ी डील हासिल करने वाले मुकेश अंबानी के समूह के शेयरों में जोरदार तेजी देखने को मिली है। मार्च तिमाही के निचले स्तरों से कंपनी ने जबरदस्त वापसी की है। मुकेश अंबानी के छोटे भाई अनिल अंबानी की कंपनियों के शेयरों ने भी 24 मार्च के बाद 32 फीसदी तक की छलांग लगाई है। यह बीएसई सेंसेक्स की 33 फीसदी तक वृद्धि जितनी है। अनिल अंबानी की कंपनियों को आमतौर पर कमजोर शेयर के रूप में देखा जाता है।
 

<p>गौतम अडानी समूह की कंपनियों के शेयरों में भी तेजी दर्ज की गई है। मगर टाटा और बजाज समूह के शेयर पिछड़ गए, यह पूरी जानकारी ऐस इक्विटी के आंकड़ों से मिलती है।</p>

<p>देशभर में कोरोना के मामलों की संख्या 2 लाख पार होने के बाद सरकार ने अर्थव्यवस्था को अनलॉक करने का फैसला किया है। कारोबारी गतिविधियां शुरू होने की उम्मीद से बाजार का सेंटिमेंट बेहतर हुआ है। प्रमुख सूचकांकों में तेजी नजर आ रही है। नोमुरा इंडिया ने कहा, "वैश्विक स्तर पर बाजारों को लिक्विडिटी बढ़ने और राहत पैकेज से सहारा मिला हुआ है। निवेशक निकट भविष्य में कंपनियों की कमाई में गिरावट के बाद के समय को देख रहे हैं। उन्हें उम्मीद है कि वित्त वर्ष 2021-22 में कंपनियों की कमाई में फिर से ग्रोथ आएगी।"</p>

गौतम अडानी समूह की कंपनियों के शेयरों में भी तेजी दर्ज की गई है। मगर टाटा और बजाज समूह के शेयर पिछड़ गए, यह पूरी जानकारी ऐस इक्विटी के आंकड़ों से मिलती है।

देशभर में कोरोना के मामलों की संख्या 2 लाख पार होने के बाद सरकार ने अर्थव्यवस्था को अनलॉक करने का फैसला किया है। कारोबारी गतिविधियां शुरू होने की उम्मीद से बाजार का सेंटिमेंट बेहतर हुआ है। प्रमुख सूचकांकों में तेजी नजर आ रही है। नोमुरा इंडिया ने कहा, "वैश्विक स्तर पर बाजारों को लिक्विडिटी बढ़ने और राहत पैकेज से सहारा मिला हुआ है। निवेशक निकट भविष्य में कंपनियों की कमाई में गिरावट के बाद के समय को देख रहे हैं। उन्हें उम्मीद है कि वित्त वर्ष 2021-22 में कंपनियों की कमाई में फिर से ग्रोथ आएगी।"

<p>24 मार्च के बाद से ही रिलायंस समूह के पांच शेयरों ने 112 फीसदी तक की छलांग लगाई है। दिलचस्प बात यह है कि रिलायंस इंडस्ट्रीज इनमें से टॉप तीन में भी शामिल नहीं है। हैथवे केबल एंड डेटाकॉम के शेयरों ने 112 फीसदी का रिटर्न दिया है, जबकि हैथवे भवानी केबलटेल एंड डेटाकॉम 96 फीसदी तक चढ़ा है।</p>

<p> </p>

<p>इसके बाद, डेन नेटवर्क्स (88 फीसदी ऊपर), रिलायंस इंडस्ट्रीज (73 फीसदी ऊपर) और रिलायंस इंडस्ट्रीयल इंफ्रास्ट्रक्चर (68 फीसदी ऊपर) का नंबर आता है। इस वजह से इस समूह का मार्केटकैप 24 मार्च के 6,01,424 करोड़ रुपये हो जाएगा।  गौतम अडानी के अडानी ग्रुप के छह शेयरों ने 93 फीसदी तक की तेजी दिखाई है। इस समूह का मार्केटकैप 44 फीसदी बढ़कर 1.23 लाख करोड़ रुपये से 1.78 लाख करोड़ रुपये हो गया है। अडानी ग्रीन एनर्जी ने सबसे बढ़िया प्रदर्शन करते हुए 93.41 फीसदी की तेजी दिखाई। <br />
 </p>

24 मार्च के बाद से ही रिलायंस समूह के पांच शेयरों ने 112 फीसदी तक की छलांग लगाई है। दिलचस्प बात यह है कि रिलायंस इंडस्ट्रीज इनमें से टॉप तीन में भी शामिल नहीं है। हैथवे केबल एंड डेटाकॉम के शेयरों ने 112 फीसदी का रिटर्न दिया है, जबकि हैथवे भवानी केबलटेल एंड डेटाकॉम 96 फीसदी तक चढ़ा है।

 

इसके बाद, डेन नेटवर्क्स (88 फीसदी ऊपर), रिलायंस इंडस्ट्रीज (73 फीसदी ऊपर) और रिलायंस इंडस्ट्रीयल इंफ्रास्ट्रक्चर (68 फीसदी ऊपर) का नंबर आता है। इस वजह से इस समूह का मार्केटकैप 24 मार्च के 6,01,424 करोड़ रुपये हो जाएगा।  गौतम अडानी के अडानी ग्रुप के छह शेयरों ने 93 फीसदी तक की तेजी दिखाई है। इस समूह का मार्केटकैप 44 फीसदी बढ़कर 1.23 लाख करोड़ रुपये से 1.78 लाख करोड़ रुपये हो गया है। अडानी ग्रीन एनर्जी ने सबसे बढ़िया प्रदर्शन करते हुए 93.41 फीसदी की तेजी दिखाई। 
 

<p>अडानी गैस के शेयर 51.77 फीसदी, अडानी पोर्ट्स के शेयर 46 फीसदी और अडानी पावर के शेयर 44 फीसदी तक चढ़े. हालांकि, कंपनी के दो शेयर अडानी एंटरप्राइजेज (15 फीसदी ऊपर) और अडानी ट्रांसमिशन (1 फीसदी ऊपर) ने निवेशकों को आकर्षित नहीं किया।</p>

<p> </p>

<p>आदित्य बिड़ला ग्रुप की दो कंपनियों-वोडाफोन आइडिया (130 फीसदी ऊपर) और कम चर्चित तेन्फाक इंडस्ट्रीज (105 फीसदी उपर) ने निवेशकों के पैसा दो गुना कर दिया। श्री दिग्विजस सीमेंट, हिंडाल्को, आदित्य बिड़ला मनी और ग्रासिम के शेयरों ने 50-66 फीसदी की तेजी दिखाई। समूह की मार्केटकैप को 2.27 लाख करोड़ रुपये तक पहुंचाया।</p>

अडानी गैस के शेयर 51.77 फीसदी, अडानी पोर्ट्स के शेयर 46 फीसदी और अडानी पावर के शेयर 44 फीसदी तक चढ़े. हालांकि, कंपनी के दो शेयर अडानी एंटरप्राइजेज (15 फीसदी ऊपर) और अडानी ट्रांसमिशन (1 फीसदी ऊपर) ने निवेशकों को आकर्षित नहीं किया।

 

आदित्य बिड़ला ग्रुप की दो कंपनियों-वोडाफोन आइडिया (130 फीसदी ऊपर) और कम चर्चित तेन्फाक इंडस्ट्रीज (105 फीसदी उपर) ने निवेशकों के पैसा दो गुना कर दिया। श्री दिग्विजस सीमेंट, हिंडाल्को, आदित्य बिड़ला मनी और ग्रासिम के शेयरों ने 50-66 फीसदी की तेजी दिखाई। समूह की मार्केटकैप को 2.27 लाख करोड़ रुपये तक पहुंचाया।

<p>अनिल अंबानी कंपनियों की बात करें, तो रिलायंस पावर (95 फीसदी ऊपर), रिलायंस कैपिटल (89 फीसदी ऊपर), रिलायंस इंफ्रा (88 फीसदी ऊपर) और रिलायंस होम फाइनेंस (45 फीसदी ऊपर) ने भी समहू के मार्केटकैप को 31 फीसदी बढ़ाया है। रिलायंस नवल ने इस दौरान 35 फीसदी तक का गोता लगाया। </p>

अनिल अंबानी कंपनियों की बात करें, तो रिलायंस पावर (95 फीसदी ऊपर), रिलायंस कैपिटल (89 फीसदी ऊपर), रिलायंस इंफ्रा (88 फीसदी ऊपर) और रिलायंस होम फाइनेंस (45 फीसदी ऊपर) ने भी समहू के मार्केटकैप को 31 फीसदी बढ़ाया है। रिलायंस नवल ने इस दौरान 35 फीसदी तक का गोता लगाया। 

<p>बजाज समूह के 10 से में पांच शेयरों ने सेंसेक्स से बेहतर प्रदर्शन किया। बजाज हिंदुस्तान शुगर ने 84 फीसदी, बजाज इलेक्ट्रिकल्स ने 46 फीसदी, बजाज ऑटो ने 44 फीसदी, बजाज होल्डिंग्स ने 44 फीसदी और हर्कुलेज होइस्ट्स ने 37 फीसदी तक की तेजी दिखाई है। हालांकि, मार्केटकैप के आधार पर समूह की सबसे बड़ी कंपनी बजाज फाइनेंस का शेयर इस दौरान 5 फीसदी तक लुढ़का है। इसका असर समूह की मार्केटकैप पर भी बड़ा है, जो सिर्फ 12 फीसदी बढ़कर 3.01 लाख करोड़ रुपये से 3.39 लाख करोड़ रुपये हो गया।</p>

बजाज समूह के 10 से में पांच शेयरों ने सेंसेक्स से बेहतर प्रदर्शन किया। बजाज हिंदुस्तान शुगर ने 84 फीसदी, बजाज इलेक्ट्रिकल्स ने 46 फीसदी, बजाज ऑटो ने 44 फीसदी, बजाज होल्डिंग्स ने 44 फीसदी और हर्कुलेज होइस्ट्स ने 37 फीसदी तक की तेजी दिखाई है। हालांकि, मार्केटकैप के आधार पर समूह की सबसे बड़ी कंपनी बजाज फाइनेंस का शेयर इस दौरान 5 फीसदी तक लुढ़का है। इसका असर समूह की मार्केटकैप पर भी बड़ा है, जो सिर्फ 12 फीसदी बढ़कर 3.01 लाख करोड़ रुपये से 3.39 लाख करोड़ रुपये हो गया।

<p>टाटा ग्रुप की 28 कंपनियां शेयर बाजार में सूचीबद्ध हैं। इनमें से सिर्फ एक ही शेयर ने निवेशकों का पैसा दोगुना किया. कोरोना वायरस से दौर में यह समूह काफी फीका नजर आया है। इसका कुल मार्केटकैप 10.61 लाख करोड़ रुपये था, जो मुकेश अंबानी के रिलायंस ग्रुप से अधिक है।</p>

<p> </p>

<p>टाटा समहू की टायो रोल्स, टाटा केमिकल्स, नेल्को, टीआरएफ, टाटा कॉफी, टिनप्लेट कंपनी ऑफ इंडिया, रैलीज इंडिया, टाटा एल्क्सी, टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट, टाटा टेलिसर्विसेज (महाराष्ट्र) और टाटा मोटर्स ने 40 से 80 फीसदी तक की तेजी दिखाई है। टाटा ग्रुप की सबसे मूल्यवान कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) की मार्केटकैप भी 7.68 लाख करोड़ रुपयये रही, कंपनी ने महज 20 फीसदी तक की तेजी दिखाई, जिसकी वजह से पूरे ग्रुप का मार्केटकैप 22 फीसदी तक बढ़ा है। </p>

टाटा ग्रुप की 28 कंपनियां शेयर बाजार में सूचीबद्ध हैं। इनमें से सिर्फ एक ही शेयर ने निवेशकों का पैसा दोगुना किया. कोरोना वायरस से दौर में यह समूह काफी फीका नजर आया है। इसका कुल मार्केटकैप 10.61 लाख करोड़ रुपये था, जो मुकेश अंबानी के रिलायंस ग्रुप से अधिक है।

 

टाटा समहू की टायो रोल्स, टाटा केमिकल्स, नेल्को, टीआरएफ, टाटा कॉफी, टिनप्लेट कंपनी ऑफ इंडिया, रैलीज इंडिया, टाटा एल्क्सी, टाटा कंज्यूमर प्रोडक्ट, टाटा टेलिसर्विसेज (महाराष्ट्र) और टाटा मोटर्स ने 40 से 80 फीसदी तक की तेजी दिखाई है। टाटा ग्रुप की सबसे मूल्यवान कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) की मार्केटकैप भी 7.68 लाख करोड़ रुपयये रही, कंपनी ने महज 20 फीसदी तक की तेजी दिखाई, जिसकी वजह से पूरे ग्रुप का मार्केटकैप 22 फीसदी तक बढ़ा है। 

loader