Post Office की ये हैं 9 बचत योजनाएं, बेहतर मुनाफा मिलने साथ पैसा रहेगा 100 फीसदी सुरक्षित

First Published 9, Aug 2020, 11:12 AM

बिजनेस डेस्क। अच्छे मुनाफे और पैसे की सुरक्षा के लिहाज से पोस्ट ऑफिस की बचत योजनाओं को बेहतर माना जाता है। पोस्ट ऑफिस की सेविंग्स स्कीम में लगया गया पैसा कभी डूब नहीं सकता। इनके सुरक्षित रहने की 100 फीसदी गारंटी होती है। यही वजह है कि अब ज्यादातर लोग पोस्ट ऑफिस की बचत योजनाओं में निवेश करना ज्यादा बढ़िया मानने लगे हैं। आज हम आपको बताने जा रहे हैं पोस्ट ऑफिस की 9 बचत योजनाओं के बारे में, जिनमें निवेश करके आप बेहतर रिटर्न हासिल कर सकते हैं। इन बचत योजनाओं में 7.6 फीसदी तक सालाना ब्याज मिलता है।
 

<p><strong>सेविंग्स अकाउंट</strong><br />
पोस्ट ऑफिस मे सेविंग्स अकाउंट खुलवाना बेहद आसान है। 500 रुपए में पोस्ट ऑफिस में बचत खाता खुल जाता है। इस समय सेविंग्स अकाउंट पर सालाना 4 फीसदी की दर से ब्याज मिलता है। बचत खाता सिंगल या जॉइंट खुलवाया जा सकता है। बैंकों की तरह पोस्ट ऑफिस के अकाउंट में भी मिनिमम बैलेंस रखना जरूरी है। यह राशि 500 रुपए है। पोस्ट ऑफिस सेविंग्स अकाउंट पर चेक, एटीएम कार्ड सुविधा, नॉमिनेशन की सुविधा, अकाउंट ट्रासंफर कराने की सुविधा मिलती है। इसमें नेट बैंकिंग की भी सुविधा मिलती है। अकाउंट को एक्टिव रखने के लिए तीन वित्त वर्ष में कम से कम एक बार डिपॉजिट या विद्ड्रॉल कराना जरूरी है।&nbsp;</p>

सेविंग्स अकाउंट
पोस्ट ऑफिस मे सेविंग्स अकाउंट खुलवाना बेहद आसान है। 500 रुपए में पोस्ट ऑफिस में बचत खाता खुल जाता है। इस समय सेविंग्स अकाउंट पर सालाना 4 फीसदी की दर से ब्याज मिलता है। बचत खाता सिंगल या जॉइंट खुलवाया जा सकता है। बैंकों की तरह पोस्ट ऑफिस के अकाउंट में भी मिनिमम बैलेंस रखना जरूरी है। यह राशि 500 रुपए है। पोस्ट ऑफिस सेविंग्स अकाउंट पर चेक, एटीएम कार्ड सुविधा, नॉमिनेशन की सुविधा, अकाउंट ट्रासंफर कराने की सुविधा मिलती है। इसमें नेट बैंकिंग की भी सुविधा मिलती है। अकाउंट को एक्टिव रखने के लिए तीन वित्त वर्ष में कम से कम एक बार डिपॉजिट या विद्ड्रॉल कराना जरूरी है। 

<p><strong>5 साल का रिकरिंग डिपॉजिट</strong><br />
पोस्ट ऑफिस में न्यूनतम 100 रुपए &nbsp;प्रति माह डिपॉजिट पर रिकरिंग अकाउंट (RD) खोला जा सकता है। इसका मेच्योरिटी पीरियड 5 साल का होता है। पोस्ट ऑफिस में रिकरिंग अकाउंट पर 5.8 फीसदी सालाना की दर से ब्याज मिलता है। अकाउंट सिंगल और जॉइंट खुलवाया जा सकता है। 10 साल से कम उम्र के नाबालिग और दिमागी रूप से कमजोर व्यक्ति के नाम भी यह अकाउंट खुलवाया जा सकता है। इस अकाउंट को 3 साल के बाद बंद भी कराया जा सकता है। वहीं, मेच्योरिटी पीरियड पूरा हो जाने पर 5 साल के लिए इसे और भी बढ़ाया जा सकता है। रिकरिंग डिपॉजिट अकाउंट से 1 साल के बाद मौजूद 50 फीसदी तक लोन भी लिया जा सकता है।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

5 साल का रिकरिंग डिपॉजिट
पोस्ट ऑफिस में न्यूनतम 100 रुपए  प्रति माह डिपॉजिट पर रिकरिंग अकाउंट (RD) खोला जा सकता है। इसका मेच्योरिटी पीरियड 5 साल का होता है। पोस्ट ऑफिस में रिकरिंग अकाउंट पर 5.8 फीसदी सालाना की दर से ब्याज मिलता है। अकाउंट सिंगल और जॉइंट खुलवाया जा सकता है। 10 साल से कम उम्र के नाबालिग और दिमागी रूप से कमजोर व्यक्ति के नाम भी यह अकाउंट खुलवाया जा सकता है। इस अकाउंट को 3 साल के बाद बंद भी कराया जा सकता है। वहीं, मेच्योरिटी पीरियड पूरा हो जाने पर 5 साल के लिए इसे और भी बढ़ाया जा सकता है। रिकरिंग डिपॉजिट अकाउंट से 1 साल के बाद मौजूद 50 फीसदी तक लोन भी लिया जा सकता है। 
 

<p><strong>पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट</strong><br />
पोस्स्ट ऑफिस मे 1 साल से 5 साल तक के लिए टाइम डिपॉजिट अकाउंट (TD) खोला जा सकत है। इसे न्यूनतम 1000 रुपए में खुलवाया जा सकता है। इसमें कोई अधिकतम सीमा नहीं है टाइम डिपॉजिट पर मौजूदा ब्याज दर 5.5 फीसदी से 6.7 फीसदी सालाना है। यह अकाउंट भी सिंगल और जॉइंट रूप में खोला जा सकता है। टाइम डिपॉजिट स्कीम में 6 माह के पहले प्रीमेच्योर इनकैशमेंट नहीं कराया जा सकता है। अगर 12 महीने पूरे होने पर कोई अकाउंट बंद करना चाहता है तो उसे सेविंग्स अकाउंट की दर से ब्याज मिलेगा। इस स्कीम में निवेश करने पर इनकम टैक्स के सेक्शन 80C के तहत टैक्स में छूट मिलती है।</p>

पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट
पोस्स्ट ऑफिस मे 1 साल से 5 साल तक के लिए टाइम डिपॉजिट अकाउंट (TD) खोला जा सकत है। इसे न्यूनतम 1000 रुपए में खुलवाया जा सकता है। इसमें कोई अधिकतम सीमा नहीं है टाइम डिपॉजिट पर मौजूदा ब्याज दर 5.5 फीसदी से 6.7 फीसदी सालाना है। यह अकाउंट भी सिंगल और जॉइंट रूप में खोला जा सकता है। टाइम डिपॉजिट स्कीम में 6 माह के पहले प्रीमेच्योर इनकैशमेंट नहीं कराया जा सकता है। अगर 12 महीने पूरे होने पर कोई अकाउंट बंद करना चाहता है तो उसे सेविंग्स अकाउंट की दर से ब्याज मिलेगा। इस स्कीम में निवेश करने पर इनकम टैक्स के सेक्शन 80C के तहत टैक्स में छूट मिलती है।

<p><strong>पीपीएफ अकाउंट</strong><br />
पोस्ट ऑफिस में पीपीएफ अकाउंट न्यूनतम 500 रुपए से खोला जा सकता है। इस अकाउंट पर सालाना ब्याज दर 7.1 फीसदी है। अकाउंट में हर वित्त वर्ष में 500 रुपए जमा करना जरूरी है। एक साल में अधिकतम 1.5 लाक रुपए जमा किए जा सकते हैं। पीपीएफ का मेच्योरिटी पीरियड 15 साल है। हालांकि, कुछ मामलों जैसे खाताधारक या उसके आश्रितों को जानलेवा बीमारी हो जाने के बाद, पीपीएफ खाताधारक या उसके बच्चों के हायर एजुकेशन के लिए और खाताधारक के विदेश में बस जाने के बाद खाता 5 साल के बाद &nbsp;बंद कराया जा सकता है। पीपीएफ में निवेश, मिलने वाले ब्याज और मेच्योरिटी पर मिलने वाली रकम पर आयकर कानून के तहत टैक्स में छूट मिलती है। इस अकाउंट को मेच्योरिटी के बाद 5 साल के ब्लॉक में आगे बढ़ाया जा सकता है।</p>

पीपीएफ अकाउंट
पोस्ट ऑफिस में पीपीएफ अकाउंट न्यूनतम 500 रुपए से खोला जा सकता है। इस अकाउंट पर सालाना ब्याज दर 7.1 फीसदी है। अकाउंट में हर वित्त वर्ष में 500 रुपए जमा करना जरूरी है। एक साल में अधिकतम 1.5 लाक रुपए जमा किए जा सकते हैं। पीपीएफ का मेच्योरिटी पीरियड 15 साल है। हालांकि, कुछ मामलों जैसे खाताधारक या उसके आश्रितों को जानलेवा बीमारी हो जाने के बाद, पीपीएफ खाताधारक या उसके बच्चों के हायर एजुकेशन के लिए और खाताधारक के विदेश में बस जाने के बाद खाता 5 साल के बाद  बंद कराया जा सकता है। पीपीएफ में निवेश, मिलने वाले ब्याज और मेच्योरिटी पर मिलने वाली रकम पर आयकर कानून के तहत टैक्स में छूट मिलती है। इस अकाउंट को मेच्योरिटी के बाद 5 साल के ब्लॉक में आगे बढ़ाया जा सकता है।

<p><strong>मंथली इनकम स्कीम&nbsp;</strong><br />
पोस्ट ऑफिस के मंथली इनकम स्कीम अकाउंट (MIS) पर मौजूदा ब्याज दर 6.6 फीसदी सालाना है। इसमें न्यूनतम 1000 रुपए से खाता खोला जा सकता है। सिंगल अकाउंट में अधिकतम निवेश 4.5 लाख और जॉइंट अकाउंट में 9 लाख रुपए किया जा सकता है। अकाउंट खोलने के 1 साल बाद इसे बंद भी कराया जा सकता है। 3 साल पूरा होने पर प्रीमेच्योर इनकैशमेंट कराने पर डिपॉजिट का 2 फीसदी काट लिया जाता है। इस अकाउंट को एक पोस्ट ऑफिस से दूसरे पोस्ट ऑफिस मे ट्रांसफर कराया जा सकता है। इसके अलावा, सिंगल अकाउंट को जॉइंट और जॉइंट को सिंगल में बदलवाया भी जा सकता है।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

मंथली इनकम स्कीम 
पोस्ट ऑफिस के मंथली इनकम स्कीम अकाउंट (MIS) पर मौजूदा ब्याज दर 6.6 फीसदी सालाना है। इसमें न्यूनतम 1000 रुपए से खाता खोला जा सकता है। सिंगल अकाउंट में अधिकतम निवेश 4.5 लाख और जॉइंट अकाउंट में 9 लाख रुपए किया जा सकता है। अकाउंट खोलने के 1 साल बाद इसे बंद भी कराया जा सकता है। 3 साल पूरा होने पर प्रीमेच्योर इनकैशमेंट कराने पर डिपॉजिट का 2 फीसदी काट लिया जाता है। इस अकाउंट को एक पोस्ट ऑफिस से दूसरे पोस्ट ऑफिस मे ट्रांसफर कराया जा सकता है। इसके अलावा, सिंगल अकाउंट को जॉइंट और जॉइंट को सिंगल में बदलवाया भी जा सकता है। 
 

<p><strong>सुकन्या समृद्धि स्कीम&nbsp;</strong><br />
सुकन्या समृद्धि स्कीम पोस्ट ऑफिस की खास योजनाओं में एक है। इसमें पेरेंट्स अपनी लड़की के लिए खाता खोल सकते हैं। इस स्कीम में खाता न्यूनतम 250 रुपए का राशि से खोला जा सकता है। इसमें सालाना कम से कम 250 रुपए और अधिकतम 1.5 लाख रुपए जमा किए जा सकते हैं। इस स्कीम में फिलहाल 7.6 फीसदी की दर से ब्याज मिल रहा है। इस योजना में 15 साल तक निवेश किया जा सकता है। 21 साल की उम्र में लड़की की शादी होने पर इस अकाउंट को बंद किया जा सकता है। 18 साल की उम्र हो जाने पर लड़की इस अकाउंट से आंशिक निकासी कर सकती है। निकासी की सीमा मौजूद बैलेंस का 50 फीसदी तक है। इस स्कीम में निवेश करने पर इनकम टैक्स के सेक्शन 80C के तहत 1.5 साख रुपए के टैक्स डिडिक्शन का क्लेम किया जा सकत है। जमा रकम पर मिलने वाला ब्याज और मेच्योरिटी पीरियड पूरा होने पर मिलने वाली रकम पर टैक्स नहीं लगता है।&nbsp;</p>

सुकन्या समृद्धि स्कीम 
सुकन्या समृद्धि स्कीम पोस्ट ऑफिस की खास योजनाओं में एक है। इसमें पेरेंट्स अपनी लड़की के लिए खाता खोल सकते हैं। इस स्कीम में खाता न्यूनतम 250 रुपए का राशि से खोला जा सकता है। इसमें सालाना कम से कम 250 रुपए और अधिकतम 1.5 लाख रुपए जमा किए जा सकते हैं। इस स्कीम में फिलहाल 7.6 फीसदी की दर से ब्याज मिल रहा है। इस योजना में 15 साल तक निवेश किया जा सकता है। 21 साल की उम्र में लड़की की शादी होने पर इस अकाउंट को बंद किया जा सकता है। 18 साल की उम्र हो जाने पर लड़की इस अकाउंट से आंशिक निकासी कर सकती है। निकासी की सीमा मौजूद बैलेंस का 50 फीसदी तक है। इस स्कीम में निवेश करने पर इनकम टैक्स के सेक्शन 80C के तहत 1.5 साख रुपए के टैक्स डिडिक्शन का क्लेम किया जा सकत है। जमा रकम पर मिलने वाला ब्याज और मेच्योरिटी पीरियड पूरा होने पर मिलने वाली रकम पर टैक्स नहीं लगता है। 

<p><strong>सीनियर सिटिजन सेविंग्स स्कीम</strong><br />
सीनियर सिटिजन सेविंग्स स्कीम (SCSS) में सिर्फ एक बार ही निवेश किया ज सकता है। निवेश की राशि न्यूतनतम 1000 रुपए से लेकर अधिकतम 15 लाख रुपए तक है। इस पर मौजूदा ब्याज दर सालाना 7.4 फीसदी है। इस स्कीम के तहत 60 साल या इससे ज्यादा उम्र का व्यक्ति ही खाता खुलवा सकता है। अगर कोई 55 साल का है और वॉलियन्टरी रिटायरमेंट ले चुका है, तो वह भी इस स्कीम में खाता खोल सकता है। लेकिन उसे रिटायरमेंट बेनिफिट्स मिलने के एक महीने के अंदर खाता खोलना होगा और जमा राशि रिटायरमेंट बेनिफिट्स के अमाउंट से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। इसमें सिंगल और जॉइंट, दोनों तरह का खाता खोला जा सकता है। मेच्योरिटी पीरियड पूरा हो जाने के बाद इसे 3 साल के लिए बढ़ाया जा सकता है, लेकिन ब्याज राशि 50 हजार रुपए सालाना से ज्यादा हो जाने पर &nbsp;टीडीएस कटने लगता है। इसमें इन्वेस्टमेंट पर इनकम टैक्स के सेक्शन 80C के तहत टैक्स में छूट मिलती है।</p>

सीनियर सिटिजन सेविंग्स स्कीम
सीनियर सिटिजन सेविंग्स स्कीम (SCSS) में सिर्फ एक बार ही निवेश किया ज सकता है। निवेश की राशि न्यूतनतम 1000 रुपए से लेकर अधिकतम 15 लाख रुपए तक है। इस पर मौजूदा ब्याज दर सालाना 7.4 फीसदी है। इस स्कीम के तहत 60 साल या इससे ज्यादा उम्र का व्यक्ति ही खाता खुलवा सकता है। अगर कोई 55 साल का है और वॉलियन्टरी रिटायरमेंट ले चुका है, तो वह भी इस स्कीम में खाता खोल सकता है। लेकिन उसे रिटायरमेंट बेनिफिट्स मिलने के एक महीने के अंदर खाता खोलना होगा और जमा राशि रिटायरमेंट बेनिफिट्स के अमाउंट से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। इसमें सिंगल और जॉइंट, दोनों तरह का खाता खोला जा सकता है। मेच्योरिटी पीरियड पूरा हो जाने के बाद इसे 3 साल के लिए बढ़ाया जा सकता है, लेकिन ब्याज राशि 50 हजार रुपए सालाना से ज्यादा हो जाने पर  टीडीएस कटने लगता है। इसमें इन्वेस्टमेंट पर इनकम टैक्स के सेक्शन 80C के तहत टैक्स में छूट मिलती है।

<p><strong>किसान विकास पत्र</strong><br />
किसान विकास पत्र (KVP) को न्यूनतम 1000 रुपए में लिया जा सकता है। अधिकतम निवेश की कोई सीमा नहीं है। इस पर मौजूदा सालाना ब्याज दर 6.9 फीसदी है। किसान विकास पत्र को सिंगल और जॉइंट, दोनों तरीके से लिया जा सकता है। इसे नाबालिग या दिमागी तौर पर कमजोर व्यक्ति के नाम पर भी लिया जा सकता है। इसे किसी भी पोस्ट ऑफिस से खरीदा जा सकता है। इस पर नॉमिनेशन की सुविधा भी मिलती है। इसे किसी दूसरे व्यक्ति के नाम ट्रांसफर भी किया जा सकता है। किसान विकास पत्र को जारी होने के ढाई साल के बाद भुनाया जा सकता है।&nbsp;</p>

किसान विकास पत्र
किसान विकास पत्र (KVP) को न्यूनतम 1000 रुपए में लिया जा सकता है। अधिकतम निवेश की कोई सीमा नहीं है। इस पर मौजूदा सालाना ब्याज दर 6.9 फीसदी है। किसान विकास पत्र को सिंगल और जॉइंट, दोनों तरीके से लिया जा सकता है। इसे नाबालिग या दिमागी तौर पर कमजोर व्यक्ति के नाम पर भी लिया जा सकता है। इसे किसी भी पोस्ट ऑफिस से खरीदा जा सकता है। इस पर नॉमिनेशन की सुविधा भी मिलती है। इसे किसी दूसरे व्यक्ति के नाम ट्रांसफर भी किया जा सकता है। किसान विकास पत्र को जारी होने के ढाई साल के बाद भुनाया जा सकता है। 

<p><strong>नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट</strong><br />
नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट (NSC) का मेच्योरिटी पीरियड 5 साल है। इस पर मौजूदा सालाना ब्याज दर 6.8 फीसदी है। इसमें न्यूनतम 1000 रुपए से निवेश शुरू किया जा सकता है। निवेश की अधिकतम कोई सीमा नहीं है। इसमें निवेश को इनकम टैक्स के सेक्शन &nbsp;80C के तहत टैक्स से छूट हासिल है। मेच्योरिटी के पहले इसे एक बार किसी दूसरे व्यक्ति के नाम ट्रांसफर भी किया जा सकता है।&nbsp;</p>

नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट
नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट (NSC) का मेच्योरिटी पीरियड 5 साल है। इस पर मौजूदा सालाना ब्याज दर 6.8 फीसदी है। इसमें न्यूनतम 1000 रुपए से निवेश शुरू किया जा सकता है। निवेश की अधिकतम कोई सीमा नहीं है। इसमें निवेश को इनकम टैक्स के सेक्शन  80C के तहत टैक्स से छूट हासिल है। मेच्योरिटी के पहले इसे एक बार किसी दूसरे व्यक्ति के नाम ट्रांसफर भी किया जा सकता है। 

<p><strong>पोस्ट ऑफिस में &nbsp;निवेश है 100 फीसदी सुरक्षित</strong><br />
पोस्ट ऑफिस के जमा पैसों पर सॉवरेन गारंटी होती है। इसका मतलब यह है कि कि पोस्ट ऑफिस में निवेशकों के पैसों की गारंटी सरकार लेती है। किसी स्थिति में यहां पैसा फंस नहीं सकता है। पोस्ट ऑफिस की स्कीम्स में जमा पैसों का इस्तेमाल सरकार अपने कामों के लिए करती है। इसी वजह से इन पैसों पर सरकार गारंटी भी देती है। वहीं, &nbsp;बैंक में जमा आपका पैसा 100 फीसदी सुरक्षित नहीं होता है। अगर कोई बैंक डिफॉल्‍ट कर जाता है तो उस स्थिति में DICGC यानी डिपॉजिट इन्श्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन बैंक में कस्टमर्स के सिर्फ 5 लाख रुपए की सुरक्षा की गारंटी देता है। &nbsp;&nbsp;<br />
&nbsp;&nbsp;</p>

पोस्ट ऑफिस में  निवेश है 100 फीसदी सुरक्षित
पोस्ट ऑफिस के जमा पैसों पर सॉवरेन गारंटी होती है। इसका मतलब यह है कि कि पोस्ट ऑफिस में निवेशकों के पैसों की गारंटी सरकार लेती है। किसी स्थिति में यहां पैसा फंस नहीं सकता है। पोस्ट ऑफिस की स्कीम्स में जमा पैसों का इस्तेमाल सरकार अपने कामों के लिए करती है। इसी वजह से इन पैसों पर सरकार गारंटी भी देती है। वहीं,  बैंक में जमा आपका पैसा 100 फीसदी सुरक्षित नहीं होता है। अगर कोई बैंक डिफॉल्‍ट कर जाता है तो उस स्थिति में DICGC यानी डिपॉजिट इन्श्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन बैंक में कस्टमर्स के सिर्फ 5 लाख रुपए की सुरक्षा की गारंटी देता है।   
  

loader