Asianet News Hindi

SIP क्या है, जानें इसमें Online कैसे कर सकते हैं निवेश; क्या हैं इसके खास फायदे

First Published Mar 24, 2021, 6:35 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बिजनेस डेस्क। सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (SIP) आजकल म्यूचुअल फंड  (Mutual Fund) में निवेश का सबसे पॉपुलर तरीका बन गया है। इसकी वजह यह है कि इसके जरिए अपनी पसंद के म्यूचुअल फंड में सुविधा के मुताबिक किस्तों में पैसा जमा किया जा सकता है। सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान उन लोगों के लिए बहुत ही बढ़िया है, जो एकमुश्त शेयर बाजार में पैसा लगाना नहीं चाहते। बता दें कि एसआईपी के जरिए निवेश करने में रिस्क कम होता है। अब एसआईपी में ऑनलाइन निवेश करने की सुविधा मिल रही है। ऐसी कई एसआईपी (SIP) स्कीम है, जिनमें घर बैठे सिर्फ 500 रुपए से निवेश की शुरुआत की जा सकती है। जानें इसके बारे में डिटेल्स।
(फाइल फोटो)

एसआईपी (SIP) में निवेश करने के लिए पैन कार्ड (PAN Card), ऐड्रेस प्रूफ, पासपोर्ट साइज के फोटोग्राफ और चेकबुक की जरूरत पड़ती है। किसी भी म्यूचुअल फंड में निवेश करने के लिए केवाईसी (KYC) की प्रक्रिया को पूरा करना जरूरी होता है। (फाइल फोटो)

एसआईपी (SIP) में निवेश करने के लिए पैन कार्ड (PAN Card), ऐड्रेस प्रूफ, पासपोर्ट साइज के फोटोग्राफ और चेकबुक की जरूरत पड़ती है। किसी भी म्यूचुअल फंड में निवेश करने के लिए केवाईसी (KYC) की प्रक्रिया को पूरा करना जरूरी होता है। (फाइल फोटो)

ऑनलाइन एसआईपी (Online SIP) शुरू करने के लिए किसी फंड हाउस की वेबसाइट पर जाकर अपने पसंद की एसआईपी का चुनाव किया जा सकता है। इसके लिए पहले केवाईसी (KYC) की प्रॉसेस को पूरा करना होगा। (फाइल फोटो)

ऑनलाइन एसआईपी (Online SIP) शुरू करने के लिए किसी फंड हाउस की वेबसाइट पर जाकर अपने पसंद की एसआईपी का चुनाव किया जा सकता है। इसके लिए पहले केवाईसी (KYC) की प्रॉसेस को पूरा करना होगा। (फाइल फोटो)

एसआईपी में निवेश के लिए अगर आप नया अकाउंट बना रहे हैं, तो सबसे पहले रजिस्टर नाऊ (Register Now) के लिंक पर जाना होगा। यहां फॉर्म सब्मिट करने के पहले सभी पर्सनल डिटेल्स और कॉन्टैक्ट से संबंधित जानकारी देनी होगी। (फाइल फोटो)

एसआईपी में निवेश के लिए अगर आप नया अकाउंट बना रहे हैं, तो सबसे पहले रजिस्टर नाऊ (Register Now) के लिंक पर जाना होगा। यहां फॉर्म सब्मिट करने के पहले सभी पर्सनल डिटेल्स और कॉन्टैक्ट से संबंधित जानकारी देनी होगी। (फाइल फोटो)

एसआईपी के लिए अकाउंट बनाने के बाद ट्रांजैक्शन के लिए एक यूजर नेम और पासवर्ड बनाना होगा। इसके साथ ही एसआईपी पेमेंट के डेबिट के लिए बैंक अकाउंट के डिटेल देने होंगे। इसके बाद आप अपने यूजर नेम के साथ लॉगइन करके अपने पसंद की स्कीम का चुनाव कर सकते हैं। (फाइल फोटो)

एसआईपी के लिए अकाउंट बनाने के बाद ट्रांजैक्शन के लिए एक यूजर नेम और पासवर्ड बनाना होगा। इसके साथ ही एसआईपी पेमेंट के डेबिट के लिए बैंक अकाउंट के डिटेल देने होंगे। इसके बाद आप अपने यूजर नेम के साथ लॉगइन करके अपने पसंद की स्कीम का चुनाव कर सकते हैं। (फाइल फोटो)

जब रजिस्ट्रेशन का काम पूरा हो जाता है, तो फंड हाउस से इसका कन्फर्मेशन आ जाता है। इसके बाद आप एसआईपी में इन्वेस्टमेंट शुरू कर सकते हैं। आम तौर पर इस पूरी प्रक्रिया में 14 से 40 दिन का समय लग जाता है। (फाइल फोटो)

जब रजिस्ट्रेशन का काम पूरा हो जाता है, तो फंड हाउस से इसका कन्फर्मेशन आ जाता है। इसके बाद आप एसआईपी में इन्वेस्टमेंट शुरू कर सकते हैं। आम तौर पर इस पूरी प्रक्रिया में 14 से 40 दिन का समय लग जाता है। (फाइल फोटो)

एसआईपी (SIP) इक्विटी या डेट फंड में निवेश शुरू करने वाले ऐसे लोगों के लिए एक बेहतर ऑप्शन है, जो बाजार की जोखिम से बचना चाहते हैं। इसके जरिए बाजार में कम अमाउंट के साथ किस्तों में निवेश कर अच्छा-खासा रिटर्न लिया जा सकता है। निवेश के लिए फंड हाउस को स्टैंडिंग इंस्ट्रक्शन (SI) देकर बैंक से ऑटो डेबिट की सुविधा भी ली जा सकती है। इससे हर महीने बैंक अकाउंट से अपने आप किस्त कट जाती है। (फाइल फोटो)

एसआईपी (SIP) इक्विटी या डेट फंड में निवेश शुरू करने वाले ऐसे लोगों के लिए एक बेहतर ऑप्शन है, जो बाजार की जोखिम से बचना चाहते हैं। इसके जरिए बाजार में कम अमाउंट के साथ किस्तों में निवेश कर अच्छा-खासा रिटर्न लिया जा सकता है। निवेश के लिए फंड हाउस को स्टैंडिंग इंस्ट्रक्शन (SI) देकर बैंक से ऑटो डेबिट की सुविधा भी ली जा सकती है। इससे हर महीने बैंक अकाउंट से अपने आप किस्त कट जाती है। (फाइल फोटो)

एसआईपी के जरिए निवेश करने पर कम्पाउंडिंग इंटरेस्ट (चक्रवृद्धि ब्याज) का फायदा मिलता है। अगर आप किसी म्यूचुअल फंड में 1000 रुपए 10 फीसदी के रिटर्न रेट पर इन्वेस्ट करते हैं, तो एक साल में 100 रुपए ब्याज मिलेगा। इसके बाद अगले साल से आपको 1100 रुपए के आधार पर ब्याज मिलेगा। इस तरह, इसमें ब्याज की रकम पर लाभ लगातार बढ़ता जाता है। (फाइल फोटो)

एसआईपी के जरिए निवेश करने पर कम्पाउंडिंग इंटरेस्ट (चक्रवृद्धि ब्याज) का फायदा मिलता है। अगर आप किसी म्यूचुअल फंड में 1000 रुपए 10 फीसदी के रिटर्न रेट पर इन्वेस्ट करते हैं, तो एक साल में 100 रुपए ब्याज मिलेगा। इसके बाद अगले साल से आपको 1100 रुपए के आधार पर ब्याज मिलेगा। इस तरह, इसमें ब्याज की रकम पर लाभ लगातार बढ़ता जाता है। (फाइल फोटो)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios