Asianet News Hindi

CBSE Board Exam Tips: इस एक महीने में रिवीजन की स्पीड बढ़ाएं CBSE बोर्ड स्टूडेंट्स, अपनाएं टॉपर्स के टिप्स

First Published Apr 2, 2021, 5:53 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

करियर डेस्क.  CBSE Board Exam Tips: सीबीएसई बोर्ड परीक्षा (CBSE Board Exam 2021) की तारीख जैसे-जैसे करीब आती है, छात्रों में तनाव और डर का माहौल देखने को मिलने लगता है। परीक्षा को लेकर अब सिर्फ एक महीना ही बच गया है। ऐसे में छात्र तनाव ले सकते हैं। पर बिना टेंशन लिए कैंडिडेट्स को पढ़ाई और रिवीजन पर ध्यान देना है। इन्हीं परेशानियों को ध्यान में रखते हुए यहां हम टॉपर्स की सुझाव से तैयार किए कुछ टिप्स (Board Exam Tips) देंगे, जिसकी मदद से छात्र बिलकुल तनावमुक्त होकर बोर्ड की तैयारी भी कर सकते हैं। इससे बेहतर रिजल्ट भी हासिल कर सकते हैं। इस बार सीबीएसई बोर्ड की परीक्षाएं (CBSE Board Exam 2021) 4 मई से शुरू होंगी और 7 जून को 10वीं की परीक्षाएं खत्म होंगी, जबकि 12वीं की परीक्षाएं 14 जून को खत्म होंगी। बोर्ड परीक्षा के लिए सिर्फ 2 महीने का समय है। ऐसे में टॉपर्स के दिए ये टिप्स (Board Exam Tips) छात्रों के लिए काफी कारगर साबित होने वाले हैं। इसलिए हम आपको कुछ जबरदस्त स्टडी टिप्स बता रहे हैं- 

1. नर्वस ना हो

 

परीक्षा के समय स्टूडेंट्स का परेशान और नर्वस होना स्वाभाविक है। किसी ही परीक्षा से पहले छात्र नर्वस हो जाते हैं। छात्रों के मन में परीक्षा को लेकर घबराहट की भावनाएं तेज हो जाती हैं। हालांकि आपको ध्यान देना होगा कि घबराहट याद करने की शक्ति और एकाग्रता को काफी प्रभावित कर सकती है, इसलिए इससे जल्द से जल्द छुटकारा पाएं। आर्मी पब्लिक स्कूल, देहरादून के धर्मेश नेगी जिन्होंने बोर्ड परीक्षा में 99.2% रिजल्ट हासिल किए थे वो कहते हैं की घबराहट को दूर करने के लिए स्वस्थ खाने और एक अच्छी दिनचर्या बनाएं। आपको अपने क्षमता पर विश्वास रखना होगा, जितना ज्यादा हो सके तनाव से बचने की कोशिश करें।

1. नर्वस ना हो

 

परीक्षा के समय स्टूडेंट्स का परेशान और नर्वस होना स्वाभाविक है। किसी ही परीक्षा से पहले छात्र नर्वस हो जाते हैं। छात्रों के मन में परीक्षा को लेकर घबराहट की भावनाएं तेज हो जाती हैं। हालांकि आपको ध्यान देना होगा कि घबराहट याद करने की शक्ति और एकाग्रता को काफी प्रभावित कर सकती है, इसलिए इससे जल्द से जल्द छुटकारा पाएं। आर्मी पब्लिक स्कूल, देहरादून के धर्मेश नेगी जिन्होंने बोर्ड परीक्षा में 99.2% रिजल्ट हासिल किए थे वो कहते हैं की घबराहट को दूर करने के लिए स्वस्थ खाने और एक अच्छी दिनचर्या बनाएं। आपको अपने क्षमता पर विश्वास रखना होगा, जितना ज्यादा हो सके तनाव से बचने की कोशिश करें।

2. एक टाइम टेबल बनाएं

 

परीक्षा की तैयारी एक क्रमबद्ध और आसान तरीके से करने के लिए सबसे ज्यादा जरुरी है एक प्रॉपर रूटीन बनाना। बिना टाइम मैनेजमेंट के पढ़ाई करने से तैयारी पक्की नहीं हो सकती है। इस बारे केंद्रीय विद्यालय, एर्नाकुलम के छात्र साईकृप सेतुरमन कहते हैं कि सबसे पहले एक प्रॉपर टाइम टेबल बनाएं। इसमें रोज की पढ़ाई का एक टारगेट सेट करें। उतने ही देर की पढाई करें। इस स्टडी रूटीन में रिवीजन के लिए अलग से समय दें। साईकृपा का कहना है कि बोर्ड परीक्षा की तैयारी के दौरान उनको जो प्रश्न अच्छा लगता है उसके आगे ‘G’ (Good Question) लिख देते थे, ताकि इस प्रश्न को कई बार रिवीजन किया जा सके। 

2. एक टाइम टेबल बनाएं

 

परीक्षा की तैयारी एक क्रमबद्ध और आसान तरीके से करने के लिए सबसे ज्यादा जरुरी है एक प्रॉपर रूटीन बनाना। बिना टाइम मैनेजमेंट के पढ़ाई करने से तैयारी पक्की नहीं हो सकती है। इस बारे केंद्रीय विद्यालय, एर्नाकुलम के छात्र साईकृप सेतुरमन कहते हैं कि सबसे पहले एक प्रॉपर टाइम टेबल बनाएं। इसमें रोज की पढ़ाई का एक टारगेट सेट करें। उतने ही देर की पढाई करें। इस स्टडी रूटीन में रिवीजन के लिए अलग से समय दें। साईकृपा का कहना है कि बोर्ड परीक्षा की तैयारी के दौरान उनको जो प्रश्न अच्छा लगता है उसके आगे ‘G’ (Good Question) लिख देते थे, ताकि इस प्रश्न को कई बार रिवीजन किया जा सके। 

3. स्मार्ट स्टडी करें

 

कई बार ऐसा होता है कि छात्र बहुत ज्यादा पढाई करते हैं, लेकिन अपनी क्षमता का आकलन नहीं करते हैं। इसके लिए छात्रों को रोजाना कम से कम एक सैंपल पेपर सॉल्व करना चाहिए। कोलकाता के हैरिटेज स्कूल की अनन्या मैत्री जिन्होंने बोर्ड परीक्षा में 99.5% रिजल्ट किया था, कहती हैं कि वो रोजाना गणित, अकाउंट और इकोनॉमिक्स के साथ-साथ इंग्लिश जैसे विषय के पुराने प्रश्न पपत्र सॉल्व करती थी। इससे उनकी तैयारी और पक्की हो जाती थी। 

3. स्मार्ट स्टडी करें

 

कई बार ऐसा होता है कि छात्र बहुत ज्यादा पढाई करते हैं, लेकिन अपनी क्षमता का आकलन नहीं करते हैं। इसके लिए छात्रों को रोजाना कम से कम एक सैंपल पेपर सॉल्व करना चाहिए। कोलकाता के हैरिटेज स्कूल की अनन्या मैत्री जिन्होंने बोर्ड परीक्षा में 99.5% रिजल्ट किया था, कहती हैं कि वो रोजाना गणित, अकाउंट और इकोनॉमिक्स के साथ-साथ इंग्लिश जैसे विषय के पुराने प्रश्न पपत्र सॉल्व करती थी। इससे उनकी तैयारी और पक्की हो जाती थी। 

4. रट्टा ना मारें, बल्कि समझ के पढ़ाई करें

 

अक्सर छात्रों का स्वभाव होता है कि उन्होंने जब कोई टॉपिक समझ नहीं आती है तो उसे रट जाते हैं। रटा हुआ ज्ञान ज्यादा देर टिकता नहीं है, परीक्षा से ठीक पहले भूल जाते हैं। बोर्ड परीक्षा में 99.8 % रिजल्ट हासिल करने वाली स्टेप बाई स्टेप स्कूल, नोएडा की स्टूडेंट मेघना श्रीवास्तव कहती हैं कि वो ज्यादातर प्रश्नों को बेसिक से समझने की कोशिश करती थी। रटने से स्ट्रेस बढ़ता है और तैयार अधूरी रह जाती है।

 

4. रट्टा ना मारें, बल्कि समझ के पढ़ाई करें

 

अक्सर छात्रों का स्वभाव होता है कि उन्होंने जब कोई टॉपिक समझ नहीं आती है तो उसे रट जाते हैं। रटा हुआ ज्ञान ज्यादा देर टिकता नहीं है, परीक्षा से ठीक पहले भूल जाते हैं। बोर्ड परीक्षा में 99.8 % रिजल्ट हासिल करने वाली स्टेप बाई स्टेप स्कूल, नोएडा की स्टूडेंट मेघना श्रीवास्तव कहती हैं कि वो ज्यादातर प्रश्नों को बेसिक से समझने की कोशिश करती थी। रटने से स्ट्रेस बढ़ता है और तैयार अधूरी रह जाती है।

 

5. नींद पूरी करें

 

एक गलती जो आज कल के छात्र सबसे ज्यादा करते हैं कि पढ़ाई के टेंशन में नींद पूरा नहीं करते है। परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों को कम से कम 7-8 घंटे की नींद लेनी जरुरी है। एर्नाकुलम के भवन वरुणा विद्यालय की स्टूडेंट श्रीलक्ष्मी जी जिन्होंने बोर्ड परीक्षा में 99.8% हासिल किया था वो कहती हैं कि दिमाग को आराम देने की बहुत जरुरत होती है। वो पढ़ाई के साथ-साथ एक बेहतर नींद जरूर लेती थी।
 

 

5. नींद पूरी करें

 

एक गलती जो आज कल के छात्र सबसे ज्यादा करते हैं कि पढ़ाई के टेंशन में नींद पूरा नहीं करते है। परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों को कम से कम 7-8 घंटे की नींद लेनी जरुरी है। एर्नाकुलम के भवन वरुणा विद्यालय की स्टूडेंट श्रीलक्ष्मी जी जिन्होंने बोर्ड परीक्षा में 99.8% हासिल किया था वो कहती हैं कि दिमाग को आराम देने की बहुत जरुरत होती है। वो पढ़ाई के साथ-साथ एक बेहतर नींद जरूर लेती थी।
 

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios