कोरोना ने हज पर लगाया ग्रहण, युद्ध और महामारी के कारण अब तक 40 बार कैंसिल हो चुकी है यात्रा

First Published 24, Jun 2020, 9:59 AM

हटके डेस्क: कोरोना वायरस ने दुनिया में ऐसा कोहराम मचाया कि सबकी जिंदगी में उथल-पुथल मच गई। इस वायरस के कारण कई देशों को लॉकडाउन कर दिया गया। साथ ही वायरस ने हर किसी को अपने ही घर में कैद रहने पर मजबूर कर दिया। कोरोना काल में ही 28 जुलाई से 2 अगस्त तक हज होना है। लेकिन इस साल कोरोना के कहर को देखते हुए बड़ा फैसला लिया गया। इस साल दूसरे देश से कोई भी मुस्लिम हज करने मक्का नहीं आ सकता है। इस फैसले से मुस्लिम समुदाय में मायूसी छा गई है। लेकिन आपको बता दें कि ये पहली दफा नहीं है जब हज यात्रा कैंसिल की गई है। इतिहास के पन्नों को पलटें तो इससे पहले युद्ध से लेकर अन्य महामारी के कारण भी हज यात्रा पर रोक लगाईं जा चुकी है। कुल मिलाकर अब तक चालीस बार इस यात्रा पर रोक लगाई जा चुकी है। आज हम आपको  बताने जा रहे हैं कि इससे पहले कब-कब हज यात्रा कैंसिल की गई थी... 
 

<p>2020 में कोरोना के कारण हज यात्रा कैंसिल कर दी गई है। इस साल 28 जुलाई से 2 अगस्त तक हज होना है। लेकिन कोरोना की वजह से अब इस यात्रा पर बाहर से आए मुसलमानों &nbsp;पर रोक लगा दी गई है। बता दें कि इस वक्त सऊदी में कोरोना के कुल 1 लाख 61 हजार केस हैं। जिसमें से 1 हजार 307 लोगों की मौत हो चुकी है। &nbsp;<br />
&nbsp;</p>

2020 में कोरोना के कारण हज यात्रा कैंसिल कर दी गई है। इस साल 28 जुलाई से 2 अगस्त तक हज होना है। लेकिन कोरोना की वजह से अब इस यात्रा पर बाहर से आए मुसलमानों  पर रोक लगा दी गई है। बता दें कि इस वक्त सऊदी में कोरोना के कुल 1 लाख 61 हजार केस हैं। जिसमें से 1 हजार 307 लोगों की मौत हो चुकी है।  
 

<p>2017 में क़तर के 18 लाख मुस्लिमों के हज यात्रा पर रोक लगाई गई थी। ऐसा विभिन्न भू-राजनीतिक मुद्दों पर राय के मतभेदों को लेकर क़तर का देश के साथ राजनयिक संबंधों को गंभीर बनाने के लिए सऊदी अरब और तीन अन्य अरब देशों से विवाद के कारण हुआ था।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

2017 में क़तर के 18 लाख मुस्लिमों के हज यात्रा पर रोक लगाई गई थी। ऐसा विभिन्न भू-राजनीतिक मुद्दों पर राय के मतभेदों को लेकर क़तर का देश के साथ राजनयिक संबंधों को गंभीर बनाने के लिए सऊदी अरब और तीन अन्य अरब देशों से विवाद के कारण हुआ था। 
 

<p>2012 और 2013 में सऊदी अधिकारियों ने बीमार और बुजुर्गों को मध्य पूर्व श्वसन सिंड्रोम या MERS के कारण तीर्थयात्रा नहीं करने के लिए प्रोत्साहित किया था।&nbsp;</p>

2012 और 2013 में सऊदी अधिकारियों ने बीमार और बुजुर्गों को मध्य पूर्व श्वसन सिंड्रोम या MERS के कारण तीर्थयात्रा नहीं करने के लिए प्रोत्साहित किया था। 

<p>1831 में भारत में हैजा के प्रकोप ने हजारों तीर्थयात्रियों को हज के लिए मक्का नहीं जाने दिया था। उस समय भारतीयों के यात्रा पर रोक लगा दी गई थी।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

1831 में भारत में हैजा के प्रकोप ने हजारों तीर्थयात्रियों को हज के लिए मक्का नहीं जाने दिया था। उस समय भारतीयों के यात्रा पर रोक लगा दी गई थी। 
 

<p>ऐसी कहा जाता है कि पहली बार किसी भी तरह की महामारी के कारण हज यात्रा पर रोक ए.डी. 967 में लगाई गई थी। उस समय दुनिया में प्लेग महामारी फैली थी। सूखे और अकाल के कारण फातिम शासक ने ए डी 1048 में हज यात्रा कैंसिल कर दी थी।&nbsp;</p>

ऐसी कहा जाता है कि पहली बार किसी भी तरह की महामारी के कारण हज यात्रा पर रोक ए.डी. 967 में लगाई गई थी। उस समय दुनिया में प्लेग महामारी फैली थी। सूखे और अकाल के कारण फातिम शासक ने ए डी 1048 में हज यात्रा कैंसिल कर दी थी। 

<p>नेपोलियन की सेना में ब्रिटिश औपनिवेशिक प्रभाव की जांच के उद्देश्य से कई तीर्थयात्रियों को ए.डी. 1798 और 1801 के बीच हज से रोका गया था।&nbsp;</p>

नेपोलियन की सेना में ब्रिटिश औपनिवेशिक प्रभाव की जांच के उद्देश्य से कई तीर्थयात्रियों को ए.डी. 1798 और 1801 के बीच हज से रोका गया था। 

<p>A.D. 1168 में फातिम के पतन के दौरान, मिस्रवासी को हज के लिए मक्का में प्रवेश नहीं दिया गया। यह भी कहा जाता है कि A.D 1258 में मंगोल आक्रमण के बाद बगदाद के किसी भी नागरिक ने हज नहीं किया।</p>

A.D. 1168 में फातिम के पतन के दौरान, मिस्रवासी को हज के लिए मक्का में प्रवेश नहीं दिया गया। यह भी कहा जाता है कि A.D 1258 में मंगोल आक्रमण के बाद बगदाद के किसी भी नागरिक ने हज नहीं किया।

<p>A.D 983 में बगदाद और मिस्र के शासक युद्ध में थे। मिस्र के फातिम शासकों ने इस्लाम के सच्चे नेता होने का दावा किया और इराक और सीरिया में अब्बासिद वंश के शासन का विरोध किया। उनके राजनीतिक रस्साकशी ने कई हज कई नागरिकों को आठ साल तक मक्का और मदीना से दूर रखा।&nbsp;</p>

A.D 983 में बगदाद और मिस्र के शासक युद्ध में थे। मिस्र के फातिम शासकों ने इस्लाम के सच्चे नेता होने का दावा किया और इराक और सीरिया में अब्बासिद वंश के शासन का विरोध किया। उनके राजनीतिक रस्साकशी ने कई हज कई नागरिकों को आठ साल तक मक्का और मदीना से दूर रखा। 

<p>इन सबके बीच दर्ज रिकार्ड्स के मुताबिक, सबसे पहले हज यात्रा में व्यवधान AD 930 में आया था। जब इस्माइलियों के एक संप्रदाय, एक अल्पसंख्यक शिया समुदाय, जिसे कर्माटियन कहा जाता था, मक्का पर छापा मारते थे क्योंकि वे मानते थे कि हज एक बुतपरस्त अनुष्ठान है।</p>

इन सबके बीच दर्ज रिकार्ड्स के मुताबिक, सबसे पहले हज यात्रा में व्यवधान AD 930 में आया था। जब इस्माइलियों के एक संप्रदाय, एक अल्पसंख्यक शिया समुदाय, जिसे कर्माटियन कहा जाता था, मक्का पर छापा मारते थे क्योंकि वे मानते थे कि हज एक बुतपरस्त अनुष्ठान है।

<p>कहा जाता है कि कुरमातियों ने उस समय कई तीर्थयात्रियों को मार दिया था और काबा के काले पत्थर के साथ फरार हो गए थे - जो मुसलमानों का मानना ​​था कि स्वर्ग से नीचे भेजा गया था। वे पत्थर को आधुनिक गढ़ बहरीन में अपने गढ़ में ले गए।<br />
&nbsp;</p>

कहा जाता है कि कुरमातियों ने उस समय कई तीर्थयात्रियों को मार दिया था और काबा के काले पत्थर के साथ फरार हो गए थे - जो मुसलमानों का मानना ​​था कि स्वर्ग से नीचे भेजा गया था। वे पत्थर को आधुनिक गढ़ बहरीन में अपने गढ़ में ले गए।
 

loader