भोपाल, मध्य प्रदेश. कोरोना संक्रमण को रोकने दुनियाभर में इसकी वैक्सीन को लेकर चल रही रिसर्च के बीच भोपाल से एक सकारात्मक खबर है। यहां के पीपुल्स अस्पताल में कोरोना वैक्सीन के तीसरे फेज की ट्रायल शुरू हो गई है। यह पहला मौका है, जब भोपाल को तीसरे फेज की ट्रायल के लिए चुना गया है। गांधी मेडिकल कॉलेज में भी ट्रायल की तैयारी पूरी हो गई है, हालांकि यहां अभी डोज का इंतजार है।

दैनिकभास्कर के हवाले से खबर मिली है कि भोपाल के पटेल नगर में रहने वाले एक टीचर को दोपहर करीब पौने तीन बजे पहली वैक्सीन लगाई गई। टीचर ने इसी अखबार से बातचीत में बताया कि उन्हें समाचार के जरिये वैक्सीन के बारे में जानकारी मिली थी। टीचर ने कहा कि उनके इस कदम से अगर लाखों लोगों का भला हो सकता है, तो यह अच्छी बात है। यही सोचकर वे टीक लगवाने आए हैं।

और भी लोग सामने आए..
टीचर का स्वास्थ्य परीक्षण करने के बाद उन्हें वैक्सीन का डोज दिया गया। इस दौरान पल-पल उनके स्वास्थ्य पर नजर रखी जा रही है। इस बीच भोपाल के ही एक नामी बिजनेसमैन भी वैक्सीन लगवाने पहुंचे। ट्रायल के पहले दिन 100 लोगों को वैक्सीन देने का लक्ष्य रखा गया था। वैक्सीन लगवाने आसपास के इलाकों जैसे-बागसेवनिया, कल्पना नगर, भवानी नगर और भानपुर के अलावा चूना भट्टी, होशंगाबाद रोड, सबरी नगर आदि से भी लोग पहुंचे।

जानें खास बिंदु
-पीपुल्स यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर राजेश कपूर ने बताया कि 2 हजार लोगों पर ट्रायल किया जाएगा
-ये कोवैक्सीन इंडियन काउंसलिंग ऑफ मेडिकल रिसर्च की लैब नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ बायोलॉजी ने बनाई है, टेक्नोलॉजी को आईसीएमआर ने भारत बायोटेक इंटर नेशनल को ट्रांसफर किया है, भारत बायोटेक इंटरनेशनल इसे तैयार कर रहा है। 
-10 मेडिकल कॉलेज के बाद ट्रायल का मौका पीपुल्स मेडिकल कॉलेज को मिला है। 

यह भी पढ़ें

राजकोट के एक कोविड सेंटर में आग से 5 की मौत, PHOTOS में देखिए कितना भयानक था मंजर 

देखिए- शादी में पीपीई किट पहने युवक का कोरोना डांस, पहली बार सामने आया ऐसा वीडियो

जिंदगी की जंग हार गया कोरोना वरियर, डॉक्टर को बचाने के लिए शिवराज ने किया था 1 करोड़ देने का एलान