नई दिल्ली. कोरोना संक्रमण ने सारी दुनिया को बेहाल कर दिया है। खासकर, बुजुर्ग और बीमार लोगों के लिए यह समय चिंताजनक साबित हो रहा है। यह जाहिर-सी बात है कि एक्सरसाइज से व्यक्ति दिनभर तरोताजा रहता है। जो लोग ऊर्जा से भरे रहते हैं, उनके बीमार पड़ने की आशंका बाकियों से कम होती है। कोरोना संक्रमण से बचने में भी यही फॉर्मूला काम आएगा। अमेरिका के कैलिफोर्निया में हुई एक स्टडी से साबित हुआ कि एक्टिव लोगों की तुलना में निष्क्रिय लोगों पर संक्रमण तेजी से अटैक करता है। इसलिए आप दिन में थोड़ी-सी एक्सरसाइज करें और 2-3 घंटे दूसरे फिजिकल वर्क्स में एक्टिव रहें।

रिसर्च का दावा
अमेरिका के कैलिफोर्निया में 48 हजार लोगों पर एक स्टडी की गई। इसका मकसद यह पता लगाना था कि एक्टिव(सक्रिय) और इनेक्टिव(निष्क्रिय) में किस पर संक्रमण ज्यादा असर करता है। इस स्टडी में सामने आया कि जो लोग दिन में 2-3 घंटे फिजिकल वर्क्स में एक्टिव रहते हैं और थोड़ी-बहुत एक्सरसाइज करते हैं, उन पर कोरोना संक्रमण का असर कम होता है। जो लोग आलसी होते हैं, वे संक्रमण की चपेट में जल्दी आते हैं। यह स्टडी कोरोना मरीजों के बीच ही की गई थी। इसमें तीन कैटेगरी बनाई थी। यानी जो लोग हफ्ते में सिर्फ 10 मिनट एक्सरसाइज करते हैं, जो लोग 149 मिनट तक एक्टिव रहते हैं और तीसरे वे लोग जो इससे अधिक एक्सरसाइज करते हैं। यह स्टडी जनवरी से अक्टूबर तक की गई थी। इस स्टडी से साबित हुआ कि जो लोग हफ्ते में अगर 2 से ढाई घंटे भी एक्टिव रहते हैं, उनके बीमार होकर अस्पताल में जाने की आशंका निष्क्रिय लोगों की तुलना में दोगुनी कम होती है।

इन लोगों को अधिक खतरा 
जो लोग किसी गंभीर बीमारी जैसे-दिल के रोग, डाइबिटीज, किडनी, हाई ब्लड प्रेशर आदि से पीड़ित होते हैं, उन्हें सक्रिय रहना चाहिए। बता दें कि कोरोना संक्रमण फेफड़ों पर असर करता है। इससे ऑक्सीजन की कमी होने लगती है। जो लोग एक्सरसाइज करते हैं, उनके फेफड़े मजबूत होते हैं। ऐसे में उनके लिए खतरा कम होता है। कोरोना संक्रमण से बचने आप हल्की-फुल्की एक्सरसाइज कर सकते हैं। जैसे- रस्सी कूदना, योगा, वाकिंग आदि। ये ऐसी एक्सरसाइज हैं, जो आप घर में रहकर भी कर सकते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) भी सलाह देता है कि हर व्यक्ति को हफ्ते में 150-300 मिनट एक्सरसाइज करना चाहिए।