Asianet News Hindi

इंटरनेशनल सोलर एलाएंस में शामिल हुआ ग्रीस, विदेश मंत्री ने कहा- मजबूत होंगे दोनों देशों के संबंध

एस जयशंकर ने 26 जून को एथेंस में महात्मा गांधी की प्रतिमा का भी अनावरण किया। यह प्रतिमा दोनों देशों के बीच दोस्ती के मजबूत प्रतीक के रूप में काम करेगी।

Greece joins India-led International Solar Alliance pwa
Author
New Delhi, First Published Jun 26, 2021, 8:48 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. ग्रीस ने शनिवार को अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन ( International Solar Alliance) पर भारत के साथ साइन किया। विदेश मंत्री एस जयशंकर की ग्रीस यात्रा के दौरान समझौते पर हस्ताक्षर किए गए। इस दौरान, विदेश मंत्री ने ग्रीस के प्रधानमंत्री किरियाकोस मित्सोटाकिस (Kyriakos Mitsotakis) से शिष्टाचार भेंट की और अपने समकक्ष निकोस डेंडियास के साथ द्विपक्षीय वार्ता की।

विदेश मंत्री ने किया ट्वीट
भारत-ग्रीस संयुक्त बयान के अनुसार, दोनों पक्षों के बीच द्विपक्षीय संबंधों को और मजबूत करने पर विचारों का व्यापक आदान-प्रदान हुआ, जो लगातार गहरा और तेजी से विस्तार कर रहा है। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ट्वीट कर कहा- अभी हाल ही में विदेश मंत्री निकोस डेंडियास के साथ आधिकारिक वार्ता हुई। कई क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर द्विपक्षीय रूप से उत्पादक और व्यावहारिक था। इंगेजमेंट की गति बढ़ाने और रणनीतिक साझेदारी की दिशा में काम करने पर सहमत हुए। 

महात्मा गांधी की प्रतिमा का किया अवानरण
एस जयशंकर ने 26 जून को एथेंस में महात्मा गांधी की प्रतिमा का भी अनावरण किया। यह प्रतिमा दोनों देशों के बीच दोस्ती के मजबूत प्रतीक के रूप में काम करेगी। "यूनानी विदेश मंत्री ने भारतीय पक्ष को अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए) पर समझौते पर हस्ताक्षर किए और सौंप दिया। एस जयशंकर ने आईएसए के परिवार में एथेंस का स्वागत किया और दोनों पक्षों ने सहमति व्यक्त की। दोनों देशों को संयुक्त बयान के अनुसार अक्षय ऊर्जा को ऊर्जा आपूर्ति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनाने के लिए संबंधित सरकारों द्वारा निर्धारित ऊर्जा लक्ष्यों को प्राप्त करने में सहायता करेगा।

ISA में 120 से ज्यादा एलाएंस
आईएसए 120 से अधिक का एलाएंस हैं। इसे भारत ने 2015 में भारत शुरू किया था। उनमें से अधिकतर या तो पूरी तरह से या आंशिक रूप से कर्क रेखा और मकर रेखा के बीच स्थित हैं। इस दौरान कहा गया कि अपने समृद्ध प्राचीन अतीत को ध्यान में रखते हुए, दोनों पक्ष संस्कृति के क्षेत्र में अपने संबंधों को जारी रखने के लिए सहमत हुए। दोनों पक्षों ने जल्द से जल्द 2021-2025 की अवधि के लिए सांस्कृतिक आदान-प्रदान कार्यक्रम पर हस्ताक्षर करने के महत्व को दोहराया।

कई मुद्दों पर चर्चा
विदेश मंत्रालय ने कहा कि दोनों पक्षों ने हिंद-प्रशांत सहित नई भू-राजनीतिक और भू-आर्थिक वास्तविकताओं के संदर्भ में आपसी हित के क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर भी विचार साझा किए। MEA ने कहा कि भारत और ग्रीस के बीच घनिष्ठ और मैत्रीपूर्ण संबंध हैं, जो लोकतंत्र, कानून के शासन, बहुलवाद, समानता, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और मानवाधिकारों के सम्मान के साझा मूल्यों से मजबूत हुए हैं। दोनों पक्षों ने वैश्विक स्तर पर COVID-19 स्थिति और आर्थिक सुधार की प्रक्रिया पर चर्चा की। 

तीन दिन के दौरे पर हैं विदेश मंत्री
बयान के अनुसार, मुक्त, समावेशी एवं सहयोगात्मक हिन्द प्रशांत को लेकर समान दृष्टि होने पर दोनों पक्षों ने संतोष प्रकट किया। इसके अनुसार दोनों पक्षों का मानना है कि ऐसा होने पर क्षेत्र में सभी के लिये सम्पर्क एवं विकास सुनिश्चित किया जा सकता है। जयशंकर तीन दिवसीय यात्रा पर शुक्रवार को यूनान गए थे। दिल्ली में विदेश मंत्रालय के बयान के अनुसार,  दोनों पक्षों ने द्विपक्षीय संबंधों को और मजबूत बनाने को लेकर विचारों का व्यापक आदान प्रदान किया। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios