Asianet News Hindi

अब आगे क्या : धोखेबाज चीन को सबक सिखाने के लिए ये 8 बड़े कदम उठा सकता है भारत

भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प पर डॉक्टर वेदप्रताप वैदिक ने टिप्पणी की है। उन्होंने लिखा, मैंने कल ही लिखा था कि गलवान घाटी में हुए हमारे सैनिकों के हत्याकांड पर हमारी सरकार चुप क्यों है? वह अभी तक चुप है। देर रात सिर्फ यह बताया गया कि हमारे 20 फौजी मारे गए और कुछ घायल भी हुए।  

India can take this 8 action against China to avenge martyrs kpn
Author
New Delhi, First Published Jun 18, 2020, 11:30 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प पर डॉक्टर वेदप्रताप वैदिक ने टिप्पणी की है। उन्होंने लिखा, मैंने कल ही लिखा था कि गलवान घाटी में हुए हमारे सैनिकों के हत्याकांड पर हमारी सरकार चुप क्यों है? वह अभी तक चुप है। देर रात सिर्फ यह बताया गया कि हमारे 20 फौजी मारे गए और कुछ घायल भी हुए। चीनी सैनिक कितने हताहत हुए, इसके बारे में कोई आधिकारिक आंकड़ा अभी तक सामने नहीं आया है लेकिन भारतीय चैनल और अखबार अंदाज लगा रहे हैं कि चीन के 40 से अधिक फौजी मारे गए हैं। 

भारत को उठाने चाहिए यह 8 बड़े कदम 
1- डॉक्टर वेदप्रताप वैदिक ने कहा, "यदि सरकार यह मानती है कि गलवान घाटी के इस कांड के पीछे चीन के शीर्ष नेतृत्व का हाथ है और उसे इसका कोई पश्चाताप नहीं है तो अब उसे विदेश नीति पर एक नई धार चढ़ाने की जरूरत है। 
2- "चीन से सरकारी स्तर पर व्यापारिक और कूटनीतिक संबंध तो ज्यों के त्यों बनाए रखे जाएं लेकिन जनता सोच-समझकर चीनी माल का बहिष्कार शुरू करे।" 
3- "हम हांगकांग, तिब्बत, ताइवान और सिंक्यांग (उइगर मुसलमानों) का मामला भी उठाएं।" 
4- "ब्रिक्स, एससीओ और आरआईसी जैसे तीन-चार राष्ट्रों के संगठनों में भी, जहां भारत और चीन उनके सदस्य हैं, भारत अपना तेवर तीखा रखे।"
5- "पड़ोसी राष्ट्रों को 'रेशम महापथ' के जाल में फंसने और चीन के कर्जदार होने से बचाए।" 
6- "दलाई लामा पर लगे सभी प्रतिबंध हटाए।" 
7- "चीन यदि अरुणाचल को खुद का बताता है तो हम तिब्बत, सिंक्यांग और इनर मंगोलिया को आजाद करने की बात क्यों नहीं कहें? चीन यदि हमारे अरुणाचलियों को वीजा नहीं देता है तो हम तिब्बत, सिंक्यांग और इनर मंगोलिया के हान चीनियों को वीजा देना बंद करें।" 
8- "भारत में चीन ने 26 बिलियन डॉलर की पूंजी लगा रखी है। उसे हतोत्साहित किया जाए। लेकिन इस तरह के उग्र कदम उठाने के पहले हमारे विदेश मंत्रालय को चीन के असली इरादों की पहचान जरूर होनी चाहिए"

"मरने वाले चीनियों की संख्या दुगुनी है"
उन्होंने लिखा, "मरने वाले चीनियों की संख्या दुगुनी है, इस खबर से हमारे घावों पर थोड़ा मरहम जरुर लग सकता है लेकिन एक बात पक्की है। वह यह कि सीमांत पर डटे हुए दोनों देशों के फौजियों के सोच में और दोनों देशों के नेताओं के सोच में काफी फर्क मालूम पड़ रहा है। हमारे नेता तो चुप हैं लेकिन चीनी नेता भी कुछ नहीं बोल रहे हैं। दोनों तरफ के प्रवक्ता जरुर बोल रहे हैं।" 

Image

 

"दोनों देश के प्रधानमंत्रियों के कल ही बात करने चाहिए थी"
"दोनों एक-दूसरे के फौजियों पर सीमा के उल्लंघन का आरोप लगा रहे हैं। यदि यह घटना बिल्कुल ऐसी ही है तो दोनों देशों की सरकारें इसे दुर्भाग्यपूर्ण दुःसंयोग कह कर आपस में बातचीत शुरु कर सकती हैं। यह मामला इतना गंभीर है कि भारत के प्रधानमंत्री और चीन के राष्ट्रपति को कल ही बात कर लेनी चाहिए थी।"

"यह मुद्दा ऐसा है कि पूरा भारत उबलने लगा है"
"यदि कोरोना या अन्य छोटे-मोटे अवसरों के बहाने विदेशी नेताओं से हमारी बातें होती रहती हैं तो यह मुद्दा ऐसा है कि इस पर पूरा भारत उबलने लगा है। कोरोना के संकट में सरकार पहले से ही बेहाल है अब विपक्ष को 56 इंच के सीने पर हमला बोलने का नया बहाना मिल गया है।" 

Image

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios