हैदराबाद. पीएम मोदी ने हैदराबाद की भारत बायोटेक लैब का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने रिसर्चर से बात की। भारत बायोटेक ने भी पीएम मोदी का धन्यवाद किया और कहा कि इससे वैज्ञानिक खोज के प्रति प्रतिबद्धता को और मजबूत मिलेगी।

भारत बायोटेक ने क्या कहा?
भारत बायोटेक ने स्टेटमेंट जारी कर बताया, भारत बायोटेक कोरोना महामारी की वैक्सीन बनाने में सबसे आगे है। प्रधानमंत्री मोदी का यह दौरा हमारी टीम के लिए एक बड़ी प्रेरणा का काम करेगा। इससे वैज्ञानिक खोज के प्रति हमारी प्रतिबद्धता को और मजबूत मिलेगी। COVAXIN भारत की पहली ऐसी वैक्सीन है जो तीसरे चरण में पहुंच चुकी है। यह भारत की पहली स्वदेशी वैक्सीन है। इस वैक्सीन के ट्रायल में बड़ी संख्या में वॉलिंटियर शामिल हैं। COVAXIN के तीसरे चरण का ट्रायल पूरे भारत में 26,000 लोगों पर किया जा रहा है। हम इस मौके पर भारत सरकार, नियामकों, वैक्सीन बनाने के सहयोगी और डॉक्टर्स को धन्यवाद देते हैं।

मुलाकात के बाद पीएम मोदी ने क्या कहा?
भारत बायोटेक में शोधकर्ताओं से मुलाकात के बाद पीएम ने ट्वीट किया। उन्होंने कहा, यहां के वैज्ञानिकों को स्वदेसी कोरोना वैक्सीन के डेवलपमेंट में अब मिली प्रगति के लिए बधाई। भारत बायोटेक की टीम आईसीएमआर के साथ मिलकर तेजी से काम कर रही है। 

देश में जहां 3 जगहों पर वैक्सीन बन रही है पीएम वहां का दौरा कर रहे हैं

पीएम मोदी देश में उन तीन जगहों का दौरा कर रहे हैं जहां पर कोरोना वैक्सीन बन रही है। सबसे पहले बात अहमदाबाद की। यहां पर जायकोव-डी नाम की कोरोना वैक्सीन बन रही है। बनाने वाली कंपनी का नाम जायडस बायोटेक है। यह गुजरात के चांगोदर इंडस्ट्रियल एरिया में है। वैक्सीन का फेज-3 का ट्रायल्स शुरू हो चुका है। अब बात हैदराबाद की। यहां के प्लांट में भारत बायोटेक नाम की कंपनी कोवैक्सिन बना रही है। तीसरे फेज का काम जारी है। उम्मीद है कि जनवरी तक नतीजे आ जाएंगे। पुणे में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया कोवीशील्ड नाम की वैक्सीन बना रही है। ट्रायल आखिरी दौर में है।