New Parliament House: तोड़ दिया जाएगा या म्यूजियम में होगा तब्दील- जानें पुराने संसद भवन का क्या होगा?

| May 28 2023, 06:38 AM IST

PM Modi cisit new parliament building
New Parliament House: तोड़ दिया जाएगा या म्यूजियम में होगा तब्दील- जानें पुराने संसद भवन का क्या होगा?
Share this Article
  • FB
  • TW
  • Linkdin
  • Email

सार

नए संसद भवन (New Parliament House) का उद्घाटन 28 मई 2023 को है। मौजूदा संसद भवन का क्या होगा, यह सवाल भी लोगों द्वारा पूछा जा रहा है। आइए जानते हैं कि पुराना संसद भवन अब किस काम में उपयोग किया जाएगा।

 

Old Parliament Building Now. नए संसद भवन का उद्घाटन 28 मई को होगा और देश की सत्ता का नया शक्ति केंद्र नया संसद भवन बन जाएगा। अब सवाल यह उठता है कि पुराने संसद भवन का क्या होगा? कई लोग चर्चा कर रहे हैं कि अब पुराना संसद भवन किसी काम का नहीं है। जबकि सरकार का नजरिया कुछ और है। आइए जानते हैं कि आखिर पुराने संसद भवन को तोड़ दिया जाएगा या फिर इसका रिनोवेशन कराकर उपयोगिता बरकरार रखी जाएगी।

पुरातात्विक महत्व की है पुरानी संसद भवन इमारत

यूनियन हाउसिंग एंड अर्बन अफेयर्स मिनिस्टर हरदीप सिंह पुरी ने 2021 में राज्यसभा में कहा था कि जब नया संसद भवन तैयार हो जाएगा तब पुराने संसद भवन को रिपेयर कराया जाएगा। रिपेयरिंग के बाद इसका दूसरे कार्यों में उपयोग किया जाएगा। हालांकि इसके बाद इस विषय पर सरकार ने कोई ठोस पहल नहीं की लेकिन सरकार यह कहती है कि पुराने संसद भवन को नहीं गिराया जाएगा। पुराने संसद भवन को संरक्षित किया जाएगा क्योंकि यह भारत के लिए आर्कियोलॉजिकल महत्व की इमारत है। सरकार का मत यह भी है कि संसद के कार्यक्रमों के लिए नए संसद भवन के साथ पुरानी इमारत का भी उपयोग किया जाएगा।

पुराने संसद भवन की ऐतिहासिक चीजें सहेजी जाएंगी

पुराने संसद भवन की पेटिंग्स, मनुस्किप्ट्स इसके अलावा ऐतिहासिक महत्व, हेरिटेज से जुड़ी कलाकृतियों आदि को नेशनल म्यूजियम यानि नेशनल आर्काइव ऑफ इंडिया एंड इंदिरा गांधी नेशनल सेंटर फॉर आर्ट्स में रखी जाएंगी। 2022 में कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि पुराने संसद भवन को म्यूजियम में तब्दील किया जाएगा।

28 मई को देश को समर्पित होगा नया संसद भवन

सरकार कहती है कि मौजूदा संसद भवन आज की जरूरतों को पूरा नहीं कर पाता। इसके कई हिस्सों का सही से सदुपयोग भी नहीं हो पा रहा है। हालांकि यह प्रस्ताव काफी पुराना और कांग्रेस सरकार के समय का है लेकिन इसे मूर्त रूप देने का काम वर्तमान की मोदी सरकार ने किया है। करीब 60,000 श्रमिकों ने मिलकर नए संसद भवन की आधारशिला रखी है और 28 मई 2023 को पीएम मोदी इसे देश के नाम समर्पित कर देंगे।

यह भी पढ़ें

New Parliament Building: कब और कैसे होगा नए संसद भवन का उद्घाटन? यहां से पाएं पूरी जानकारी