Asianet News HindiAsianet News Hindi

Makar Sankranti 2022: इस बार हरिद्वार और ऋषिकेश की गंगा में नहीं लगा सकेंगे आस्था की डुबकी, जानें क्यों..

हरिद्वार में 14 जनवरी को मकर संक्रांति पर गंगा स्नान पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया है। डीएम विनय शंकर पांडेय ने इसकी जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि बाहरी राज्यों और अन्य जिलों से आने वाले श्रद्धालुओं को भी इजाजत नहीं दी गई है।

Makar Sankranti 2022 Uttarakhand Haridwar Rishikesh corona protocol guideline ganga snan stb
Author
Dehradun, First Published Jan 11, 2022, 9:33 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

देहरादून : इस बार मकर संक्रांति (Makar Sankranti 2022) कोरोना संक्रमण का साया मंडराने लगा है। बढ़ते संक्रमण को देखते हुए उत्तराखंड सरकार ने मकर संक्रांति पर गंगा स्नान पर रोक लगा दी है। 14 जनवरी को मनाए जाने वाले मकर संक्रांति पर्व पर आस्था की डुबकी लगाने की पुरानी परंपरा है। देश के कोने-कोने से श्रद्धालु गंगा में आस्था की डुबकी लगाने आते हैं। लेकिन इस बार इस पर रोक लगा दी गई है।

हरिद्वार में नहीं कर सकेंगे गंगा स्नान
इस बार क्योंकि कोरोना की तीसरी लहर का खतरा बना हुआ है। संक्रमण ज्यादा न फैले इसको लेकर हर तरह के प्रयास किए जा रहे हैं। इसी कारण से प्रशासन की तरफ से कई प्रतिबंध लगा दिए गए हैं। कही पर स्नान पर ही रोक लग गई है तो कही पर दूसरी पाबंदियां लगा दी गई हैं। हरिद्वार में 14 जनवरी को मकर संक्रांति पर गंगा स्नान पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया है। डीएम विनय शंकर पांडेय ने इसकी जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि बाहरी राज्यों और अन्य जिलों से आने वाले श्रद्धालुओं को भी इजाजत नहीं दी गई है। लोगों को सामूहिक रूप में एकत्र होने से रोकने के लिए ही मकर संक्रांति के मौके पर स्नान को प्रतिबंधित किया गया है।

ऋषिकेश में भी लगाई गई रोक
हरिद्वार के साथ-साथ ही ऋषिकेश में भी बढ़ते कोरोना केस को देखते हुए प्रशासन ने भी सभी घाटों पर स्नान पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया है। यहां भी 14 जनवरी को कोई भी श्रद्धालु गंगा स्नान नहीं कर पाएगा। बता दें कि कोरोना के बीच व्यवस्था बनाए रखना प्रशासन के लिए सबसे बड़ी चुनौती है। कोरोना के नए केस भी बढ़ रहे हैं। ऐसे में इतनी संख्या में जब लोग शहर में पहुंचेंगे तो कोरोना विस्फोट बढ़ने की आशंका है। यही कारण है कि प्रशासन और सरकार मिलकर इस दिन की हर तैयारी पर नजर रख रहे हैं ताकि​ लोगों को इस आयोजन ​के दौरान सुरक्षित रखा जा सके।

घरों में ही त्‍योहार मनाने की अपील
वहीं, निरंजन पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी कैलाशनंद गिरि महाराज ने लिखित बयान जारी कर कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सभी से अपील की है कि वे घरों में ही मकर संक्रांति का त्योहार मनाएं. उन्होंने भारत के सनातनी श्रद्धालुओं से अपने-अपने घरों में रहकर मकर संक्राति का त्योहार मनाने और मानसिक रूप से मां गंगा का स्नान करने की अपील की है।

इसे भी पढ़ें-हरिद्वार धर्म संसद में विवादित भाषण देने वालों की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, जांच के लिए बनाई गई पांच सदस्यीय SIT

इसे भी पढ़ें-Lohri 2022 : त्योहार एक, नाम अनेक..जानिए देश के अलग-अलग राज्यों में कैसे मनाई जाती है लोहड़ी..

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios