Education

Yoga टीचर बन लाखों में करें कमाई, ये हैं भारत के टॉप योगा स्कूल

Image credits: freepik

21 जून को विश्व योग दिवस

आज 21 जून को विश्व योग दिवस मनाया जा रहा है। योग सेहतमंद रहने का प्राचीन तरीका है। लेकिन हेल्थ बेनिफिट्स के लिए योग को सही तरीके से किया जाना भी जरूरी है।

Image credits: facebook

योग में करियर के ढेरों ऑप्शन

योग के बढ़ते ट्रेंड से योग में करियर के कई ऑप्शन सामने आये हैं। भारत ही नहीं विश्व भर में अब योग सीखा कर लोग लाखों रुपये की कमाई कर रहे हैं। 

Image credits: Pinterest

भारत के टॉप योगा स्कूल्स

योग सीखाने के लिए भारत में कई योगा स्कूल्स हैं। जहां से योग का ज्ञान लेकर आप भी एक अच्छे, ट्रेंड योग टीचर बन सकते हैं और अपने करियर के साथ लोगों को सेहतमंद भी बना सकते हैं।

Image credits: facebook

योग संस्थान मुंबई

श्री योगेंद्रजी द्वारा 1918 में स्थापित इस योग केंद्र में शिक्षार्थियों के लिए कई कोर्स हैं। इस योग केंद्र का उद्देश्य सांस, डायबिटीज, बीपी, स्ट्रेस समस्याओं को दूर करना है।

Image credits: facebook

राममणि अयंगर मेमोरियल योग संस्थान

महाराष्ट्र, पुणे स्थित इस संस्थान की शुरुआत 1975 में योग गुरु बीकेएस अयंगर ने की थी। यह गंभीर योगा प्रैक्टिस के लिए वर्ल्ड फेमस है। यहां अयंगर योग शैली की ट्रेनिंग होती है।

Image credits: facebook

बिहार योग विद्यालय

पूर्ण योग शैली सिखाने के उद्देश्य से स्वामी सत्यानंद सरस्वती ने इसकी स्थापना 1964 में थी। संस्थान अपने कोर्स में पारंपरिक योग आसन और ध्यान अभ्यास को शामिल करता है।

Image credits: Freepik

कृष्णमाचार्य योग मंदिरम

चेन्नई में इसकी स्थापना 1976 में टी के एस देसिकाचार कृष्णमाचार्य के बेटे ने की थी। यह विनियोग, अष्टांग योग, योग चिकित्सा पर जोर देता है। यहां योग के विभिन्न रूप सीख सकते हैं।

Image credits: facebook

शिवानंद योग वेदांत धन्वंतरि

संस्थान की स्थापना 1959 में स्वामी विष्णुदेवानंद ने की थी। इस योग केंद्र के कोर्स में संस्कृत, पतंजलि, दर्शन, शरीर रचना विज्ञान और शरीर विज्ञान जैसे विषयों पर फोकस किया जाता है।

Image credits: Freepik

अष्टांग संस्थान

कर्नाटक, मैसूर स्थित इस संस्थान का मैनेजमेंट गुरु श्री कृष्ण पट्टाभि जोइस की फैमिली करती है। यहां अष्टांग और हठ योग अभ्यासों पर कोर्स कराये जाते हैं। गहन अध्ययन कराये जाते हैं।

Image credits: Freepik