Education

रद्द हुआ NEET UG तो कैंडिडेट से लेकर एकेडमिक कैलेंडर तक क्या होगा असर

Image credits: social media

NEET-UG 2024 फिर से आयोजित करने के मामले में सुनवाई आज

सुप्रीम कोर्ट सोमवार, 8 जुलाई को कथित पेपर लीक और अन्य कदाचार का हवाला देते हुए NEET-UG 2024 को फिर से आयोजित करने की मांग करने वाली याचिकाओं पर सुनवाई करेगा।

Image credits: social media

2.3 मिलियन से अधिक कैंडिडेट पर पड़ेगा असर

सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई का असर उन 2.3 मिलियन से अधिक कैंडिडेट पर पड़ेगा जिन्होंने परीक्षा दी थी। परीक्षा अधर में लटकी तो इन सभी कैंडिडेट को बड़े मेंटल प्रेशर से गुजरना होगा।

Image credits: social media

सीजेआई धनंजय वाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता में सुनवाई

नीट यूजी पुन: परीक्षा का विरोध करने वाली केंद्र सरकार और एनटीए की प्रतिक्रियाओं की सुनवाई मुख्य न्यायाधीश सीजेआई धनंजय वाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता में 3 न्यायाधीशों की पीठ करेगी।

Image credits: social media

नीट परीक्षा रद्द हुई तो एकेडमिक कैलेंडर होगा बाधित

शुक्रवार को केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में एक हलफनामा दायर कर NEET-UG 2024 के दोबारा आयोजन का विरोध किया है। सरकार ने तर्क दिया है कि ऐसे कदम से शैक्षणिक कैलेंडर बाधित होगा।

Image credits: social media

नीट परीक्षा रद्द करना तर्कसंगत नहीं

शिक्षा मंत्रालय के हलफनामे में कहा गया है, कि अखिल भारतीय परीक्षा में बड़े पैमाने पर गोपनीयता के उल्लंघन के सबूत के अभाव में, पूरी परीक्षा और रिजल्ट रद्द करना तर्कसंगत नहीं होगा।

Image credits: social media

एनटीए ने कहा एनईईटी रद्द करना अनप्रोडक्टिव होगा

शिक्षा मंत्रालय का सपोर्ट करते हुए एनईईटी आयोजित करने वाली एनटीए ने भी शीर्ष अदालत में अलग से एक हलफनामा दायर किया। इसमें तर्क दिया गया कि परीक्षा रद्द करना अनप्रोडक्टिव होगा।

Image credits: social media

मेधावी छात्रों के करियर पर खतरा

परीक्षा रद्द करना नीट यूजी में कदाचार के छोटे, छिटपुट और बिखरे हुए मामले होने के बावजूद मेधावी छात्रों के करियर की संभावनाओं को खतरे में डाल देगा।

Image credits: social media

कदाचार में शामिलों के खिलाफ सख्त कार्रवाई फिर क्यों रद्द करनी परीक्षा

एनटीए ने इस बात पर जोर दिया कि विशिष्ट स्थानों पर इन कदाचारों में शामिल पहचाने जाने योग्य व्यक्तियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जा रही है। ऐसे में परीक्षा रद्द करना सही नहीं होगा।

Image credits: social media

एनटीए का दावा कदाचार ने पूरी परीक्षा की पवित्रता को प्रभावित नहीं किया

एनटीए डेटा एनालिसिस के अनुसार कथित कदाचार ने पूरी परीक्षा की पवित्रता को प्रभावित नहीं किया है या उससे उपरोक्त केंद्रों पर उपस्थित होने वाले छात्रों को कोई अनुचित लाभ नहीं हुआ है।

Image credits: social media