World news

भारत ने अपने दोस्त इजराइल के खिलाफ किया वोट, जानें क्या है मामला?

Image credits: Getty

भारत ने फिलिस्तीन का किया समर्थन

भारत वैसे तो हर मामले में अपने पुराने दोस्त इजराइल का समर्थन करता है, लेकिन अब एक ऐसा मुद्दा सामने आया है, जिसमें भारत ने इजराइल के खिलाफ वोट किया है।

Image credits: Getty

फिलिस्तीन में इजराइली कब्जे को लेकर UN में लाया गया प्रस्ताव

दरअसल, UN में एक प्रस्ताव लाया गया, जिसमें फिलिस्तीन के ईस्ट यरूशलम, सीरियाई गोलन हाइट्स समेत फिलिस्तीनी इलाकों पर इजराइली कब्जे की निंदा की गई थी।

Image credits: Getty

भारत ने फिलिस्तीन पर इजराइली कब्जे के खिलाफ की वोटिंग

भारत समेत 145 देशों ने फिलिस्तीन पर इजराइली कब्जे के खिलाफ वोटिंग की। वहीं करीब 7 देशों ने इसके पक्ष में तो वहीं 18 देश वोटिंग से दूर यानी तटस्थ रहे।

Image credits: Getty

इजरायल के अलावा सिर्फ 6 देशों ने किया प्रस्ताव का समर्थन

संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव का इजरायल के अलावा सिर्फ 6 देशों कनाडा, हंगरी, नाउरू, मार्शल द्वीप, माइक्रोनेशिया और अमेरिका ने समर्थन किया।

Image credits: Getty

नेतन्याहू कह चुके, गाजा पर अब हमारा कंट्रोल होगा

इससे पहले इजराइल के प्रधानमंत्री नेतन्याहू ने साफ कहा था कि अब गाजा पर हमारी सेना का कंट्रोल होगा और हम इसे फिलिस्तीनी अथॉरिटी को नहीं सौंपेंगे।

Image credits: Getty

नेतन्याहू ने कहा-अंतरराष्ट्रीय ताकतों पर हमें भरोसा नहीं

बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा था कि गाजा में सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के लिए हमें अंतरराष्ट्रीय ताकतों पर बिल्कुल भी भरोसा नहीं है।

Image credits: Getty

हम अब हमास को मिटाकर ही दम लेंगे

नेतन्याहू ने रक्षा मंत्री योव गैलेंट के साथ एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा- हम हमास को मिटाकर ही दम लेंगे, चाहे इसके लिए हमें दुनिया के खिलाफ ही क्यों न जाना पड़े।

Image credits: Getty

कोई दबाव हमें Hamas को खत्म करने से नहीं रोक सकता

नेतन्याहू ने कहा कि कोई अंतरराष्ट्रीय दबाव हमें हमास को खत्म करने से नहीं रोक सकता। इस जंग के बाद गाजा की तरफ से इजराइल को कोई खतरा नहीं होगा।

Image credits: Getty