World news

बालाकोट वाले स्पाइस बम से हमास का साफ करेगा इजरायल, जानें क्यों है खास

इजरायल-हमास जंग 1 महीने से चल रही है। गाजा पर इजरायली हमले में 10,000 से अधिक लोग मारे गए हैं। आम लोगों की मौत कम हो इसके लिए US ने इजरायल को स्पाइस बम देने का फैसला किया है।

Image credits: Twitter

बालाकोट एयर स्ट्राइक में हुआ था स्पाइस बम का इस्तेमाल

स्पाइस बम का इस्तेमाल भारत ने पाकिस्तान के बालाकोट में हवाई हमले के लिए किया था। अमेरिका 320 मिलियन डॉलर के हथियार सौदे के साथ आगे बढ़ रहा है। इससे इजरायल को स्पाइस बम मिलेंगे।

Image credits: Twitter

सटीक हमला करता है स्पाइस बम

स्मार्ट बम को विमान की मदद से गिराया जाता है। यह बेहद सटीक हमला करता है। इससे आतंकियों के ठिकाने पर सटीक बमबारी होगी, जिससे आम लोगों की जान कम जाएगी।

Image credits: Twitter

इजरायली कंपनी राफेल ने बनाया है स्पाइस बम

स्पाइस बम को इजरायली कंपनी राफेल एडवांस्ड डिफेंस सिस्टम्स ने विकसित किया है। इस बम में आईएनएस/जीपीएस नेविगेशन और इलेक्ट्रो-ऑप्टिकल सीकर होता है।

Image credits: Twitter

पुलवामा हमले के बाद भारत ने किया था स्पाइस बम इस्तेमाल

पुलवामा हमले के बाद भारतीय वायु सेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादी शिविर को निशाना बनाने के लिए 26 फरवरी, 2019 को इन बमों का इस्तेमाल किया था।

Image credits: Twitter

स्पाइस फैमिली में हैं चार तरह के बम

स्पाइस फैमिली में चार तरह के बम हैं। स्पाइस 250 बम 250 पाउंड (113.39 किलो) का है। स्पाइस 1000 बम एक हजार पाउंड (453.59 किलो) का है। दोनों का रेंज करीब 100 किलोमीटर है।

Image credits: Twitter

907 किलो का है स्पाइस 2000 बम

स्पाइस 2000 बम दो हजार पाउंड (907.18 किलो) का है। इसका रेंज 60 किलोमीटर है। इंडियन एयरफोर्स ने बालाकोट एयर स्ट्राइक के लिए इसी बम का इस्तेमाल किया था।

Image credits: Twitter

1360 किलो का है स्पाइस 3000 बम

स्पाइस 3000 तीन हजार पाउंड (1360.77 किलो) का बम है। 100 किलोमीटर रेंज वाला यह बम बताए गए टारगेट के 3 मीटर से भी कम अंतर की दूरी पर गिरता है।

Image credits: Twitter