Asianet News HindiAsianet News Hindi

COP26 शिखर सम्मेलन: पीएम मोदी बोले-वैश्विक जलवायु बहस में अनुकूलन को भी उतना महत्व नहीं मिला, जो शमन को मिला

रोम में G20 शिखर सम्मेलन के बाद पीएम मोदी ग्लासगो पहुंचें। यहां उनका भारतीयों ने जोरदार स्वागत किया। मोदी ग्लासगो और एडिनबर्ग के लगभग 45 भारतीय प्रवासी प्रतिनिधियों के साथ एक बैठक की जिसमें प्रमुख चिकित्सक, शिक्षाविद और व्यवसायी शामिल रहे।

COP26 summit in Glasgow, PM Modi climate change agenda for world
Author
Glasgow, First Published Nov 1, 2021, 8:04 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

ग्लासगो। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) सोमवार को ग्लासगो (Glasgow) में COP26 शिखर सम्मेलन में भारत के जलवायु कार्रवाई एजेंडे पर औपचारिक स्थिति पेश किया। वर्ल्ड लीडर्स समिट (World Leaders Summit) के हाई-प्रोफाइल सेगमेंट COP26 शिखर सम्मेलन में पीएम मोदी ने कहा कि जलवायु संकट के प्रति दुनिया की रणनीति में अनुकूलन भी शामिल होना चाहिए, न कि केवल शमन। उन्होंने कहा कि वैश्विक जलवायु बहस में अनुकूलन को उस तरह का महत्व नहीं मिला है जो शमन को मिला है। यह उन विकासशील देशों के साथ अन्याय है जो जलवायु परिवर्तन से अधिक प्रभावित हैं। हमें अनुकूलन को अपनी विकास नीतियों और परियोजनाओं का प्रमुख घटक बनाने की आवश्यकता होगी।

पीएम मोदी ने कहा, "भारत की तरह ही, अधिकांश विकासशील देशों के लिए जलवायु कृषि क्षेत्र के लिए एक बड़ी चुनौती है। फसल के पैटर्न में बदलाव, बेमौसम बारिश और बाढ़, या नियमित आंधी से फसलें नष्ट हो जाती हैं।" उन्होंने सूचीबद्ध किया कि कैसे भारत सरकार की सभी के लिए नल का पानी, स्वच्छ भारत मिशन और सभी के लिए स्वच्छ खाना पकाने के ईंधन जैसी परियोजनाओं ने "हमारे नागरिकों को न केवल अनुकूलन लाभ प्रदान किया है, बल्कि उनके जीवन की गुणवत्ता में भी सुधार किया है"।

पीएम मोदी ने कहा, "कई पारंपरिक समुदायों के पास प्रकृति के साथ तालमेल बिठाने का ज्ञान है। इस तरह की पारंपरिक प्रथाओं को हमारी अनुकूलन नीतियों में उचित ध्यान देना चाहिए।"

उन्होंने कहा, "यह सुनिश्चित करने के लिए कि यह ज्ञान हमारी युवा पीढ़ियों तक पहुंचे, हमें इसे अपने स्कूल पाठ्यक्रम के हिस्से के रूप में शामिल करना चाहिए। स्थानीय परिस्थितियों के अनुसार जीवन शैली का संरक्षण अनुकूलन का एक महत्वपूर्ण स्तंभ हो सकता है।" उन्होंने कहा "भले ही अनुकूलन के तरीके स्थानीय हों, कमजोर देशों को प्रदान की जाने वाली सहायता वैश्विक होनी चाहिए।" 

ग्लासगो पहुंचने पर हुआ जोरदार स्वागत

रोम में G20 शिखर सम्मेलन के बाद पीएम मोदी ग्लासगो पहुंचें। यहां उनका भारतीयों ने जोरदार स्वागत किया। ग्लासगो में अपने होटल पहुंचने पर पीएम मोदी को स्कॉटिश बैगपाइप के नोट्स मिले, जहां उनका स्वागत "भारत माता की जय" के नारों के साथ भारतीय प्रवासी प्रतिनिधियों के एक बड़े समूह ने किया।

यह भी पढ़ें: PM Modi Scotland Visit: भारतीय समुदाय अपने प्रधानमंत्री से मिलकर हुआ मुरीद

प्रवासी भारतीयों के प्रतिनिधियों से की मुलाकात

सोमवार की सुबह, पीएम मोदी ग्लासगो और एडिनबर्ग के लगभग 45 भारतीय प्रवासी प्रतिनिधियों के साथ एक बैठक की जिसमें प्रमुख चिकित्सक, शिक्षाविद और व्यवसायी शामिल रहे।

सोमवार को वर्ल्ड लीडर्स समिट के पहले दिन पीएम मोदी स्कॉटलैंड के सबसे लोकप्रिय आगंतुक आकर्षणों में से एक केल्विंग्रोव आर्ट गैलरी और संग्रहालय में एक विशेष वीवीआईपी रिसेप्शन में 120 से अधिक शासनाध्यक्षों और राष्ट्राध्यक्षों के साथ शामिल हुए।

 

इसे भी पढ़ें:

यूपी में महाघोटाला: 15 हजार करोड़ रुपये के स्कैम में सीबीआई ने दर्ज किया एफआईआर, मेहुल चौकसी और नीरव मोदी की तरह विदेश भागा आरोपी

पाकिस्तान और तुर्की को जोरदार झटका, FATF की ग्रे लिस्ट में दोनों संग-संग, मारीशस और बोत्सवाना को राहत

क्रूरता की हद: शादी समारोह में म्यूजिक बजाने पर 13 लोगों को उतारा मौत के घाट

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios