Zero Covid Policy: क्या है चीन की जीरो कोविड पॉलिसी, आखिर क्यों जिनपिंग के खिलाफ खड़े हो रहे लोग

| Nov 28 2022, 07:03 PM IST

Zero Covid Policy: क्या है चीन की जीरो कोविड पॉलिसी, आखिर क्यों जिनपिंग के खिलाफ खड़े हो रहे लोग

सार

चीन में इन दिनों लोग जीरो कोविड पॉलिसी के खिलाफ सड़कों पर उतर आए हैं। राजधानी बीजिंग से शुरू हुए विरोध-प्रदर्शन धीरे-धीरे अब देश के अन्य बड़े शहरों में भी फैलता जा रहा है। आखिर क्या है जीरो कोविड पॉलिसी, जिसके खिलाफ एक बार फिर सुलग उठा है चीन? आइए जानते हैं। 

China Zero Covid Policy: चीन में इन दिनों लोग जीरो कोविड पॉलिसी के खिलाफ सड़कों पर उतर आए हैं। राजधानी बीजिंग से शुरू हुए विरोध-प्रदर्शन धीरे-धीरे अब देश के अन्य बड़े शहरों में भी फैलता जा रहा है। पुलिस इस विरोध-प्रदर्शन को कुचलने के लिए लोगों पर लाठियां बरसाने के साथ ही बेहद सख्ती से पेश आ रही है। हालांकि, बावजूद इसके लोगों का गुस्सा खत्म होने के बजाय बढ़ता ही जा रहा है। आखिर क्या है जीरो कोविड पॉलिसी, जिसके खिलाफ एक बार फिर सुलग उठा है चीन? आइए जानते हैं। 

क्या है जीरो कोविड पॉलिसी?
चीन में एक बार फिर कोरोना के केस बहुत तेजी से बढ़ने लगे हैं। रविवार यानी 27 नवंबर को कोरोना के 40 हजार से ज्यादा केस सामने आए हैं। वहीं, एक्टिव केस का आंकड़ा भी 3 लाख से ज्यादा हो गया है। ऐसे में राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने पूरे देश में कई तरह के प्रतिबंध लागू कर दिए हैं। चीन में कोरोना पर काबू पाने के लिए वहां की सरकार जीरो कोविड पॉलिसी के तहत बेहद सख्त रवैया अपना रही है। 

Subscribe to get breaking news alerts

क्यों जीरो कोविड पॉलिसी के खिलाफ पनपा गुस्सा?
बता दें कि चीन में पिछले 10 महीनों से जीरो कोविड पॉलिसी लागू है। इसके चलते पहले से ही कई तरह की पाबंदियां लागू हैं। हालांकि, 25 नवंबर को  शिंजियांग में एक मल्टीस्टोरी बिल्डिंग के 15वें माले पर भीषण आग लगी गई, जिसमें 10 से ज्यादा लोगों की जान चली गई। लॉकडाउन के चलते वक्त रहते मदद नहीं मिल पाई, जिसे लेकर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा। 

क्या है थियानमेन चौक नरसंहार, जानें 33 साल पहले चीनी सेना के कत्लेआम की बर्बर कहानी

सारे नियम दरकिनार कर सड़कों पर उतरे लोग : 
समय रहते राहत न मिल पाने की वजह से हुई मौतों के बाद लोग सड़कों पर उतर आए और सरकार के खिलाफ प्रदर्शन और नारेबाजी करने लगे। लोगों का आरोप है कि प्रशासन और सरकार की लापरवाही के चलते लोगों की जान गई है। बता दें कि चीन में कोरोना के बढ़ते केस को देखकर प्रशासन लोगों से सख्त नियमों का पालन करवा रहा है। 

60 लाख से ज्यादा लोग फिर घरों में कैद : 
कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए चीन में राज्यों और शहरों में लॉकडाउन लग चुका है, जिसके चलते लोग एक बार फिर अपने घरों में कैद होने को मजबूर हैं। 60 लाख से ज्यादा लोग घरों में बंद हैं। इसके साथ ही  जो लोग कोरोना के नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं, उनके साथ चीन की पुलिस सख्ती से निपट रही है। 

13 शहरों में भड़की हिंसा की आग : 
चीन की राजधानी बीजिंग से शुरू हुआ विरोध प्रदर्शन धीरे-धीरे पूरे देश में फैलता जा रहा है। अब तक 13 शहरों में लोग सड़कों पर उतर आए हैं। ये शहर लॉन्चो, वुहान, झेंगझोऊ, शियान, चोंगकिंग, ल्हासा, उरुमकी, शंघाई, नानजिंग, कोरला, होटन, शिजियाझुआंग हैं। पिछले कई दिनों से लोग यहां शी जिनपिंग के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर रहे हैं। लोग लॉकडाउन हटाने की मांग के साथ ही राष्ट्रपति शी जिनपिंग के इस्तीफे की भी मांग कर रहे हैं। 

ये भी देखें : 

लंदन-पेरिस जैसे शहरों को पलक झपकते तबाह कर सकती है रूस की ये मिसाइल, जानें क्यों है दुनिया का सबसे घातक हथियार