Asianet News HindiAsianet News Hindi

तमिलनाडु के अन्नामलाई पर्वत पर है महादेव का मंदिर, मान्यता है कि यहीं दिया था शिवजी ने ब्रह्माजी को श्राप

इन दिनों सावन मास चल रहा है, जो भगवान शिव को विशेष रूप से प्रिय है। इस दिनों में शिव मंदिरों में भक्तों की भारी भीड़ उमड़ती है।

Sawan 2021, facts about Arunachaleswarar Temple of Tamilnadu KPI
Author
Ujjain, First Published Jul 28, 2021, 10:13 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. हमारे देश में अनेक शिव मंदिर हैं, लेकिन इनमें से कुछ मंदिर बहुत ही विशेष है। ऐसा ही एक मंदिर है तमिलनाडु के तिरुवनमलाई जिले में स्थित अरुणाचलेश्वर शिव मंदिर। यह मंदिर अन्नामलाई पर्वत की तराई में निर्मित है। इस मंदिर के बारे में मान्यता है कि इसी स्थान पर शिवजी ने ब्रह्मा को श्राप दिया था।

ये हैं मंदिर से जुड़ी खास बातें…
- वैसे तो इस मंदिर में हर पूर्णिमा फऱ् श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है, लेकिन खासतौर पर कार्तिक पूर्णिमा पर विशाल मेला लगता है।
- श्रद्धालु यहां अन्नामलाई पर्वत की 14 किलोमीटर लंबी परिक्रमा कर शिव से कल्याण की मन्नत मांगते हैं। माना जाता है कि यह शिव का विश्व में सबसे बड़ा मंदिर है।
- वास्तव में यहां अन्नामलाई पर्वत ही शिव का प्रतीक है। पर्वत की ऊंचाई 2668 फीट है। यह पर्वत अग्नि का प्रतीक है।
- तिरुवनमलाई शहर में कुल आठ दिशाओं में आठ शिवलिंग- इंद्र, अग्नि, यम, निरूथी, वरुण, वायु, कुबेर, इशान लिंगम स्थापित हैं।
- मान्यता है कि हर लिंगम के दर्शन के अलग-अलग लाभ प्राप्त होते हैं। कार्तिक पूर्णिमा पर इस मंदिर में शानदार उत्सव होता है। इसे कार्तिक दीपम कहते हैं।
- इस मौके पर विशाल दीपदान किया जाता है। हर पूर्णिमा को परिक्रमा करने का विधान है, जिसे गिरिवलम कहा जाता है।
- मंदिर सुबह 5.30 बजे खुलता है और रात्रि 9 बजे तक खुला रहता है। मंदिर में नियमित अन्नदानम भी चलता है।

ये है मंदिर से जुड़ी कथा
- एक बार ब्रह्माजी ने हंस का रूप धारण किया और शिवजी के शीर्ष को देखने के लिए उड़ान भरी। उसे देखने में असमर्थ रहने पर ब्रह्माजी ने एक केवड़े के पुष्प से, जो शिवजी के मुकुट से नीचे गिरा था, शिखर के बारे में पूछा।
- फूल ने कहा कि वह तो चालीस हजार साल से गिरा पड़ा है। ब्रह्माजी को लगा कि वे शीर्ष तक नहीं पहुंच पाएंगे, तब उन्होंने फूल को यह झूठी गवाही देने के लिए राजी कर लिया कि ब्रह्माजी ने शिवजी का शीर्ष देखा था।
- शिवजी इस धोखे पर गुस्सा हो गए और ब्रह्माजी को शाप दिया कि उनका कोई मंदिर धरती पर नहीं बनेगा। वहीं केवड़े के फूल को शाप दिया कि वह कभी भी शिव पूजा में इस्तेमाल नहीं होगा। जहां शिवजी ने ब्रह्माजी को शाप दिया था, वह स्थल तिरुवनमलाई है।

कैसे पहुंचें?
चेन्नई से तिरुवनमलाई की दूरी 200 किलोमीटर है। चेन्नई से यहां बस से भी पहुंचा जा सकता है। ट्रेन से जाने के लिए चेन्नई से वेल्लोर होकर या फिर चेन्नई से विलुपुरम होकर जाया जा सकता है। आप विलुपुरम या वेल्लोर में भी ठहर सकते हैं और तिरुवनमलाई मंदिर के दर्शन करके वापस लौट सकते हैं।

सावन मास के बारे में ये भी पढ़ें

सावन के हर सोमवार को बन रहे हैं खास योग, इस दिन पूजा के साथ खरीदारी भी रहेगी शुभ

सावन में 17 दिन बनेंगे शुभ योग, इसके अलावा शिव पूजा के लिए 8 दिन रहेंगे खास

सावन में राशि अनुसार करें ये आसान उपाय, जीवन में बनी रहेगी सुख-समृद्धि

श्रावण मास में पेड़-पौधे लगाने और दान करने से प्रसन्न होते हैं पितृ और देवता

श्रवण नक्षत्र से बना सावन, स्कंद पुराण से जानिए शुभ फल पाने के लिए इस महीने में क्या करना चाहिए

सावन के पहले दिन करिए उज्जैन के महाकालेश्वर भगवान के अद्भुत श्रृंगारों के दर्शन

सावन स्पेशल: इस मंदिर में शिवजी के अंगूठे की होती है पूजा, दिन में 3 बार रंग बदलता है शिवलिंग

25 जुलाई से शुरू होगा सावन मास, जानिए इस महीने से कौन-से काम करने से बचें व अन्य खास बातें

सावन आज से: भगवान शिव को चढाएं ये 5 खास चीजें, हर परेशानी हो सकती है दूर

सावन मास में इस आसान विधि से रोज करें शिवजी की पूजा, जीवन में बनी रहेगी सुख-समृद्धि

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios