Asianet News Hindi

10 वीं पास लड़के खेत में बैठकर MBA वालों को बना देते थे बेवकूफ, चुटकियों कमा लेते थे करोड़ों रुपए

फर्जी फाइनेंस कंपनी बनाकर लोन दिलाने के नाम पर भोले भाले लोगों को अपने जाल में फंसा कर चूना लगा रहीं हैं। ऐसा ही एक ठगी की वारदात छत्तसीगढ़ से सामने आई है। पुलिस ने यूपी के बुलंदशहर से तीन युवकों को गिरफ्तार किया है। 

chhattisgarh news mudra loan raipur police arrested three youths from uttar pradesh  fake finance company kpr
Author
Raipur, First Published Sep 8, 2020, 8:07 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

रायपुर. फर्जी फाइनेंस कंपनी बनाकर लोन दिलाने के नाम पर भोले भाले लोगों को अपने जाल में फंसा कर चूना लगा रहीं हैं। ऐसा ही एक ठगी की वारदात छत्तसीगढ़ से सामने आई है। पुलिस ने यूपी के बुलंदशहर से तीन युवकों को गिरफ्तार किया है। जो पिछले दिनों से देश के कई राज्यों में लोगों से करोड़ों रुपए लोन दिलाने के नाम पर ठग रहे थे।

10 वीं पास लड़के MBA को लगाते थे चूना
इन तीन बदमाशों ने छत्तीसगढ़ के एक युवक को अपनी बातों में फंसाकर उसे लाखों रुपए का चूना लगाया था। पुलिस पूछताछ में बताया कि वह 10वीं पास हैं लेकिन फोन पर लोगों से ऐसे बात करते थे जैसे वह एमबीए पास  हैं। वह अबत क देश के सैंकड़ों लोगों से बैठे-बैठे लाखों रुपए उड़ा लिया करते थे।

ऐसे लोगों को लगाते थे चूना
आरोपियों ने बताया कि वह मुद्रा लोन दिलाने का विज्ञापन गूगल, यूट्यूब और फेसबुक जैसे प्लेटफॉर्म पर देते हैं। कोई व्यक्ति लिंक को ओपन करता है तो उनका मोबाइल नंबर का डाटा हमार पास आ जाता था। ऐसे लोगों को फोन करके उन्हें लोन देने का ऑफर देते थे। जिसके नाम पर हम उनसे फाइल चार्ज के नाम पर रुपया वसूलते थे। इतना ही नहीं आरोपी यूपी के बुलंदशहर में मैक्स लाइफ इंश्योरेंस, मुद्रा लोन, इंडिया बुल्स, गणेश फाइनेंस, लक्ष्मी फाइनेंस, गणपति फाइनेंस, उज्जीवन फाइनेंस, श्रीराम फाइनेंस, साई राम फाइनेंस के नाम पर लाखों रुपए के फर्जी स्टांप पेपर तैयार करवाते थे।

खेत में बैठकर लोगों को लगाते थे चूना
तीनों आरोपियों ने बताया कि वह फर्जी पेपर, फर्जी चेक, लोन सर्टिफिकेट, तैयार कर लोगों को वीडियो बनाकर भेजते । जिससे उनको हम पर यकीन हो जाता था और वह हमारे जाल में फंस जाते थे। पुलिस ने बताया कि इन आरोपियों ने कई राज्यों के लोगों को उनकी मात्र भाषा का उपयोग कर फंसाते थे। इसके लिए वह किसी ऑफिस में नहीं बल्कि अपने खेत, नदी किनारे और  गांव में बैठकर चूना लगाते थे।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios