Asianet News HindiAsianet News Hindi

ये हैं छत्तसीगढ़ के CM के पिता: जिन्होंने पानी में किया चौंकाने वाला योग, जल में ही PM Modi से की यह मांग

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के पिता नंद कुमार बघेल ने पानी में चौंकाने वाला योग किया। जो दिखने में बेहद सरल लगता है, लेकिन इसे करना बेहद कठिन है। क्योंकि बिना किसी हलचल किए पानी में अपने शरीर को इस तरह स्थिर रखना कोई योगा गुरु ही कर सकता है। फिर बघेल की उम्र 86 साल है, उन्होंने इस आयु में भी इस तरह का योग करके सबको चौंका दिया है। वह हाथ-पैर भी नहीं हिला रहे थे।

cm Bhupesh Baghel father 86 year old nand kumar baghel  yoga  in water demand from pm modi
Author
Raipur, First Published Nov 22, 2021, 8:32 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

रायपुर. छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (cm Bhupesh Baghel) के पिता नंद कुमार बघेल ( nand kumar baghel) का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें नंदकुमार पानी में बिना डूबे योग करते दिख रहे हैं। उनके साथ मौजदू लोगों ने कहा कि उन्होंने जल सामाधि ली है। क्योंकि वह केंद्र सरकार से धान से एथेनॉल बनाने की अनुमति की मांग कर रहे हैं।

जिसने भी देखा यह अंदाज वह देखता रह गया
दरअसल, नंदकुमार बघेल सोमवार सुबह अपने समर्थकों के साथ रायपुर के महादेव घाट पर पहुंचे हुए थे। जहां उन्होंने पानी की सतह पर योग किया। वह पानी में करीब 10 मिनट बिना डूबे योग करते रहे। इसके बाद वह बाहर आए और मीडिया के सामने इस तरह से पानी में योग करने की वजह बताई और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से  धान से एथेनॉल बनाने की अनुमति मांगी।

86 साल की उम्र में सीएम के पिता ने किया कमाल
बता दें कि पानी की सतह पर यूं बिना डूबे इस तरह रहना जल योग कहलाता है। जो दिखने में बेहद सरल लगता है, लेकिन इसे करने बेहद कठिन है। क्योंकि बिना किसी हलचल किए पानी में अपने शरीर को इस तरह 10 मिनट तक स्थिर रखना कोई योगा गुरु ही कर सकता है। फिर मुख्यमंत्री के पिता की उम्र 86 साल है, उन्होंने इस आयु में भी इस तरह का योग करके सबको चौंका दिया है। वह हाथ-पैर भी नहीं हिला रहे थे। हालांकि कोई गड़बड़ी न हो इसके लिए गोताखोर और पुलिस भी वहां पर तैनात थी। नंदकुमार बघेल पिछले सप्ताह तबीयत बिगड़ने की वजह से उन्हें रायपुर के एक अस्पताल में भर्ती थे।

एथेनॉल बनाने से प्रदेश के लोगों को मिलेगी पेट्रोल से निजात
बता दें कि छत्तीसगढ़ सरकार और यहां के लोग करीब एक साल से धान से पेट्रोल की तरह बायो फ्यूल एथेनॉल बनाने की कोशिश में लगे हुए हैं। लेकिन मोदी सरकार ने इसकी प्रदेश वासियों को अनुमति नहीं दी है। नंद कुमार बघेल चाहते हैं कि केंद्र सरकार इसकी इजाजत दे ताकि प्रदेश के किसान और समृद्ध हों और लोगों को पेट्रोल से निजात मिल सके।  
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios