गर्भ में पल रहा था प्रेमी का प्यार,गलती छिपाने को युवती के साथ झोलाछाप के पास पहुंचा प्रेमी - हो गया ये हादसा

| Dec 01 2022, 03:23 PM IST

गर्भ में पल रहा था प्रेमी का प्यार,गलती छिपाने को युवती के साथ झोलाछाप के पास पहुंचा प्रेमी - हो गया ये हादसा

सार

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में एक दर्दनाक घटना सामने आई है। यहां झोलाछाप डॉक्टर के पास गर्भपात करवाने गई एक युवती की मौत के बाद हंगामा हो गया। बताया जा रहा है की युवती अविवाहित थी और उसके गर्भ में उसके प्रेमी का बच्चा पल रहा था।

रायपुर(Chhattisgarh). छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में एक दर्दनाक घटना सामने आई है। यहां झोलाछाप डॉक्टर के पास गर्भपात करवाने गई एक युवती की मौत के बाद हंगामा हो गया। बताया जा रहा है की युवती अविवाहित थी और उसके गर्भ में उसके प्रेमी का बच्चा पल रहा था। इसी लिए लोकलाज के डर से वह डॉक्टर के पास गर्भपात करवाने गई थी। हंगामे के बाद पुलिस ने आरोपी डॉक्टर और युवती के प्रेमी को गिरफ्तार कर लिया है। 

जानकारी के अनुसार, मंदिर हसौद थाना अंतर्गत एक गांव की 18 साल की युवती का इसी गांव के युवक से प्रेम-संबंध था। प्रेमी-प्रेमिका के बीच बने शारीरिक संबंध से युवती गर्भवती हो गई। इसके बाद घबराई युवती ने ये बात अपने प्रेमी को बताई तो लोक लज्जा के कारण प्रेमी युवक प्रेमिका का गर्भपात कराने झोलाछाप डाक्टर के यहां पहुंचा। बता दें कि झोलाछाप डाक्टर अपने ही घर पर गर्भवती युवती को तीन दिनों से रखकर गर्भपात कर रहा था। इसी दौरान, युवती की तबीयत बिगड़ गई और उसकी मौत हो गई। घटना की जानकारी मिलते ही युवती के परिजन आक्रोशित हो गए और जमकर बवाल काटा।

Subscribe to get breaking news alerts

डॉक्टर पर शराब पीकर इलाज करने का आरोप 
मृतक युवती के आक्रोशित परिजनों ने झोलाछाप डाक्टर तपन दास गंभीर आरोप लगाए हैं। परिजनों का आरोप है की डॉक्टर तपन दास ने शराब पीकर युवती का गर्भपात किया था। परिजनों ने इस बात की शिकायत पुलिस में की। इसके बाद, पुलिस ने झोलाछाप डाक्टर तपन दास और मृतका के प्रेमी ईश्वर ध्रुव को हिरासत में ले लिया है। पुलिस युवती की मौत के मामले में गहन छानबीन कर रही है।

झोलाछाप डॉक्टरों के इलाज से आए दिन होती हैं मौतें 
गौरतलब है आए दिन इस तरह के मामले चर्चा में आते रहते हैं जब झोलाछाप अप्रशिक्षित डॉक्टरों के इलाज से मौतें होती रहती हैं। लेकिन स्वास्थ्य महकमा ऐसे डॉक्टरों पर शिकंजा कसने के बजाय उन्हें प्रश्रय देता है। नतीजन आए दिन लोगों की गलत इलाज के कारण गंभीर बीमारियां लग रही हैं और उनकी मौते हो रहीं हैं।