महासमुंद (छत्तीसगढ़). आज के समय में काबिलियत होने के बावजूद यवाओं को नौकरी नहीं मिल पा रही है। लेकिन इस मामले में छत्तीसगढ़ में एक हैरानी वाली बात सामने आई है। जहां पुलिस ने ऐसे भाई-बहन को गिरफ्तार किया है जो गलत दस्तावेजों के सहारे सरकारी नौकरी कर रहे थे।

पुलिस दोनों से कर रही है पूछताछ
दरअसल, यह फर्जीवाड़े वाली खबर महासमुंद जिले की है। जहां राकेश सिन्हा और रजनी सिन्हा दोनों फर्जी तरीके से शिक्षक बनकर शिक्षाकर्मी की नौकरी कर रहे थे। मंगलवार को पिथौरा पुलिस ने दोनों को हिरासत में लेकर  पूछताछ कर रही है।

15 साल तक करते रहे सरकारी नौकरी
जानकारी के मुताबिक, साल 2005 के शिक्षाकर्मी भर्ती में दोनों ने विकलांगता का फर्जी प्रमाण पत्र लगाकर यह नौकरी हासिल की थी।  जहां वह 15 साल तक राजाडेरा और सरकड़ा स्कूल में नौकरी करते रहे और किसी को कोई शक तक नहीं होने दिया। लेकिन दो महीने पहले कुछ लोगों ने उनकी शिकायत पिथौरा थाने में की थी। जिसके चलते दोनों के दस्तावेजों की जांच की गई तो वह नकली निकले।