Asianet News HindiAsianet News Hindi

IPL ऑक्शन 2020 में दिखा विदेशी खिलाड़ियों का जलवा, पैंट कमिंस सहित ये 5 खिलाड़ी बने करोड़पति

IPL 2020 के लिए खिलाड़ियों की नीलामी पूरी हो चुकी है। हमेशा की तरह इस साल भी नीलामी में विदेशी खिलाड़ियों का जलवा देखने को मिला। ऑस्ट्रेलिया के तोज गेंदबाज पैट कमिंस इस सीजन के सबसे मंहगे खिलाड़ी बने, जबकि ग्लेन मैक्सवेल दूसरे और क्रिस मॉरिस तीसरे स्थान पर रहे। 

Most Expevsive player in IPL auction 2020  KPB
Author
Mumbai, First Published Dec 19, 2019, 11:23 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई. IPL 2020 के लिए खिलाड़ियों की नीलामी पूरी हो चुकी है। हमेशा की तरह इस साल भी नीलामी में विदेशी खिलाड़ियों का जलवा देखने को मिला। ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज पैट कमिंस इस सीजन के सबसे मंहगे खिलाड़ी बने, जबकि ग्लेन मैक्सवेल दूसरे और क्रिस मॉरिस तीसरे स्थान पर रहे। हम आपको ऐसे ही पांच खिलाडियों के बारे में बता रहे हैं, जिन पर फ्रेंचाइजीस ने जमकर पैसा खर्च किया।   

खिलाड़ी कीमत टीम
पैट कमिंस 15.5 करोड़

कोलकाता नाइटराइडर्स

ग्लेन मैक्सवेल 10.5 कोरड़ किंग्स इलेवन पंजाब
क्रिस मॉरिस 10 करोड़ आरसीबी
शेल्डन कॉट्रेल 8.5 करोड़ किंग्स इलेवन पंजाब
नेथन कुल्टर नाइल 8 करोड़ मुंबई इंडियंस

 

1. पैट कमिंस
ऑस्ट्रेलिया के इस तेज गेंदबाज को IPL 2020 में कोलकाता नाइट राइडर्स ने 15 करोड़ 50 लाख में अपनी टीम में शामिल किया है। कमिंस इससे पहले भी शानदार प्रदर्शन कर चुके हैं, पर IPL में 15.5 करोड़ की अपनी कीमत को सही साबित करना भी उनके लिए एक बड़ी चुनौती होगी। कमिंस बेशक टेस्ट में शानदार गेंदबाज हैं और बल्ले के साथ भी उपयोगी पारियां खेल सकते हैं, पर T-20 में इन पर 15 करोड़ 50 लाख रुपये खर्च करना KKR का चौकाने वाला फैसला था। T-20 में कमिंस का प्रदर्शन भी कुछ खास नहीं रहा है। ऑस्ट्रेलिया के लिए 25 T-20 मैचों में कमिंस ने 32 विकेट लिए हैं और उनकी इकोनाॉमी भी 7 के करीब रही है। इसके अलावा 16 IPL मैचों में कमिंस ने 8 से भी ज्यादा इकोनॉमि रेट के साथ 17 विकेट चटकाए हैं। समय के साथ कमिंस बेहतर गेंदबाज जरूर हुए हैं, पर ना तो उनके पास बुमराह जैसी यॉर्कर है और ना ही उनकी स्लोअर गेंद ज्यादा प्रभावी रही है। भारतीय पिचों पर कमिंस के लिए शुरुआती झटके देना भी आसान बात नहीं होगी। टीम में तेज गेंदबाज की कमी के चलते कोलकाता की मजबूरी को समझा जा सकता है, लेकिन कमिंस अपनी कीमत के साथ न्याय कर पाएंगे, यह कहना मुश्किल है। ऐसे में यही कहा जा सकता है कि कोलकाता के लिए कमिंस मंहगा सौदा साबित हो सकते हैं। वहीं उनके चोटिल होने पर टीम में कोई सबस्टीट्यूट भी नहीं है। इसलिए अगर कमिंस टूर्नामेंट के बीच में चोटिल हो जाते हैं तो कोलकाता को यह सौदा और भी मंहगा पड़ सकता है। 

2. ग्लेन मैक्सवेल
बिग शो के नाम से मशहूर ग्लेन मैक्सवेल शुरुआत से ही IPL में अपना जलवा बिखेर रहे हैं। मैक्सवेल  T-20 फॉर्मेट के सबसे बेहतरीन बल्लेबाजों में से एक हैं और अपने दम परमैच पलटने की काबीलियत रखते हैं। पहले भी मैक्सवेल पर कई टीमें मोटी रकम खर्च कर चुकी हैं। इस बार भी उनका मंहगा बिकना लगभग तय था। मैक्सवेल ने इससे पहले भी पंजाब के लिए शानदार प्रदर्शन किया है और प्रीति जिंटा की टीम को अक बार फिर उनसे ऐसे ही प्रदर्शन की उम्मीद होगी। यही वजह है कि उन्हें 10.5 करोड़ में पंजाब ने अपनी टीम के साथ जोड़ा है। मैक्सवेल ने अपने 69 IPL मैचों में 161.13 के स्ट्राइक रेट से 1397 रन बनाए हैं। इस दौरान उनका औसत 22.9 का रहा है। ऑस्ट्रेलिया का यह खिलाड़ी तेज गेंदबाजों के साथ-साथ स्पिन के खिलाफ भी शानदार बल्लेबाजी करता है। इसी वजह से हर टीम उनको अपने साथ जोड़ना चाहती है। 

3. क्रिस मॉरिस
क्रिस मॉरिस को RCB ने 10 करोड़ देकर अपनी टीम में शामिल किया है। दक्षिण अफ्रीका का यह खिलाड़ी अच्छा तेज गेंदबाज होने के साथ-साथ विस्फोटक बल्लेबाजी भी करता है, पर निरंतरता की कमी मॉरिस का नकारात्मक पहलू है। मॉरिस एक दो मैचों में अच्छा खेल दिखाने के बाद अपनी लय खो देते हैं और उन्हें टीम से बाहर भी होना पड़ता है। RCB ने 10 करोड़ देकर मॉरिस को खरीदा जरूर है, पर उनका अब तक का प्रदर्शन इस कीमत को सही नहीं ठहराता। मॉरिस ने IPL के 61 मैचों में 7.99 की इकोनॉमी से 69 विकेट चटकाए हैं और 39 पारियों में 517 रन भी बनाए हैं। 

4. शेल्डन कॉट्रेल
शेल्डन कॉट्रेल को किंग्स इलेवन पंजाब की टीम ने  8 करोड़ 50 लाख रुपये देकर खरीदा। पंजाब का यह फैसला भी चौकाने वाला रहा। बाएं हाथ का यह कैरेबियाई तेज गेंदबाज अच्छी पेस के साथ गेंदबाजी करता है, पर इसके लिए साढ़े 8 करोड़ खर्च करना वाकई चौकाने वाला फैसला था। हाल ही में कॉट्रेल ने भारत के खिलाफ कुछ खास प्रदर्शन नहीं किया है। और ना ही उनके पास T-20 मैचों में गेंदबाजी का ज्यादा अनुभव है। वेस्टइंडीज के लिए 22 T-20 खेलने वाले कॉट्रेल ने 8 से ज्यादा कई इकोनॉमी से रन खर्चे हैं। और सिर्फ 30 विकेट निकाले हैं। इसके अलावा वनडे मैचों में भी उनकी इकॉनोमी 6 के करीब ही रही है। कॉट्रेल ना तो डेथ ओवर स्पेशलिस्ट हैं और ना ही उन्होंने शुरुआती ओवरों में हमेशा विकेट निकाले हैं। भारत की विकटें आमतौर पर बल्लेबाजों को मदद करती है। ऐसे में कॉट्रेल की पेस भी उनकी दुश्मन बन जाती है। छोटे मैदानों पर बल्लेबाजों के मिस हिट और एज भी बाउंड्री के बाहर जाते हैं। इसलिए पंजाब का यह फैसला टूर्मानेंट को दौरान उनको भी चौंका सकता है और टीम मैनेजमेंट को अपने निर्णय पर पछतावा हो सकता है। 

5. नेथन कुल्टर नाइल  
नेथन कुल्टर नाइल को मुंबई इंडियंस की टीम ने 8 करोड़ देकर अपनी टीम में शामिल किया है। कुल्टर नाइल ऑस्ट्रलिया के लिए लगातार शानदार प्रदर्शन करते रहे हैं और  IPL में भी उन्होंने निराश नहीं किया है। शुरुआती झटके देने के साथ-साथ यह गेंदबाज डेथ ओवरों में भी अच्छी गेंदबाजी करता है। यहा वजह है कि RCB ने इस गेंदबाज के लिए 10 करोड़ खर्च कर दिए। यदि कुल्टर नाइल इस सीजन भी अच्छी फॉर्म में रहते हैं तो  RCB की कमजोर गेंदबाजी में नई जान फूंक सकते हैं। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios