स्पोर्ट्स डेस्क। 29 मार्च से शुरू होने वाला आईपीएल कोरोना महामारी की वजह से टल गया था। उसके बाद से इस साल सीजन होने न होने की चर्चा थी। यह भी सामने आया कि भारत पहले की तरह आईपीएल के सीजन को विदेशी जमीन पर भी करा सकता है। यूएई की ओर से ऑफर भी मिला। लेकिन आईपीएल को लेकर अनिश्चितता बनी रही। पर अब एक बात तो साफ है कि आईपीएल इसी साल होगा। बीसीसीआई प्रेसिडेंट सौरव गांगुली ने इसके संकेत दिए हैं। 

कहा जा रहा है कि आईपीएल के सीजन पर करीब 4 हजार करोड़ रुपये दांव पर लगे हैं। अगर इस साल आयोजन नहीं हुआ तो बोर्ड समेत आईपीएल से जुड़ी तमाम संस्थाओं को भारी नुकसान होगा। गुरुवार को सौरव ने सबकुछ साफ तो नहीं किया मगर उन्होंने बताया कि बोर्ड के पास आईपीएल के लिए कई ऑप्शन हैं जिस पर चर्चा हो रही है। संकेतों में यह भी साफ हो गया कि टूर्नामेंट भारत में ही कराया जाएगा। 

आईसीसी के फैसले के बाद घोषणा 
आईपीएल के सीजन पर टी-20 वर्ल्ड कप की वजह से भी खतरा था। अक्टूबर-नवंबर में विश्वकप होना था। मगर उसके टलने की चर्चाएं हैं। हालांकि आईसीसी ने अभी इस पर फैसला नहीं लिया है। टी 20 विश्वकप के शेड्यूल का उपयोग आईपीएल के लिए किए जाने की संभावना है।

गांगुली ने क्या कहा? 
गुरुवार को गांगुली ने कहा, "आईपीएल को कराने के लिए सभी तरह के विकल्पों पर बोर्ड काम कर रहा है। इसमें टूर्नामेंट को बिना दर्शकों के कराए जाने का विकल्प भी है। जल्द ही बोर्ड आईपीएल के आयोजन पर कोई फैसला लेगा।" सौरव ने यह भी कहा कि आईपीएल में खेलने वाले भारतीय और विदेशी खिलाड़ी भी इसे कराए जाने के पक्ष में हैं। फ्रेंचाइजी, ब्रॉडकास्टर, प्रायोजकों और स्टैकहोल्डर्स को भी इस साल आईपीएल होने की उम्मीद है। बीसीसीआई प्रेसिडेंट ने कहा- इस पर जल्द ही कोई फैसला लिया जाएगा। 

दो महीने में शुरू हो जाएंगे सभी तरह के क्रिकेट 
सौरव गांगुली ने बताया कि क्रिकेट से जुड़ी भारत की सभी संबंधित संस्थाओं, राज्य क्रिकेट एसोसिएशनों के लिए गाइडलाइन तैयार की जा रही है ताकि क्रिकेट को फिर से शुरू किया जा सकेगा। उन्होंने संकेत दिया कि दो महीने के अंदर घरेलू क्रिकेट और ट्रेनिंग को शुरू किया जाएगा। चर्चा यह भी है कि इस बार आईपीएल 50 की बजाय 37 दिनों का हो सकता है।