Asianet News HindiAsianet News Hindi

भुवनेश्वर के बाद IPL में मेरठ का नाम करेगा यह खिलाड़ी, दूध बेचकर पिता ने पूरा किया सपना

IPL ऑक्शन में हैदराबाद की टीम ने भारतीय अंडर 19 टीम के कप्तान प्रियम गर्ग को 1.9 करोड़ में खरीदा तो किसी को हैरानी नहीं हुई। प्रियम IPL ऑक्शन लिस्ट में शामिल होने के साथ ही सभी की नजरों में थे। IPL की हर फ्रेंचाइजी इस युवा खिलाड़ी को अपने साथ जोड़ना चाहती थी। भारतीय तेज गेंदबाद भुवनेश्वर कुमार और स्पिनर कर्ण शर्मा के बाद प्रियम मेरठ के तीसरे खिलाड़ी हैं जो IPL का हिस्सा बनेंगे। 

This player will name Meerut in IPL after Bhubaneswar, father fulfills his dream by selling milk KPB
Author
New Delhi, First Published Dec 20, 2019, 12:14 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई. IPL ऑक्शन में हैदराबाद की टीम ने भारतीय अंडर 19 टीम के कप्तान प्रियम गर्ग को 1.9 करोड़ में खरीदा तो किसी को हैरानी नहीं हुई। प्रियम IPL ऑक्शन लिस्ट में शामिल होने के साथ ही सभी की नजरों में थे। IPL की हर फ्रेंचाइजी इस युवा खिलाड़ी को अपने साथ जोड़ना चाहती थी। भारतीय तेज गेंदबाद भुवनेश्वर कुमार और स्पिनर कर्ण शर्मा के बाद प्रियम मेरठ के तीसरे खिलाड़ी हैं जो IPL का हिस्सा बनेंगे। इसके अलावा जल्द ही प्रियम को भारतीय टीम में खेलते हुए भई देखा जा सकता है। प्रियम दाएं हाथ से शानदार बल्लेबाजी करने के अलावा कम उम्र में ही खेल की अच्छी समझ भी रखते हैं। इसी वजह से उन्हें भारतीय अंडर 19 टीम की कमान सौंपी गई है। 

मेरठ के रहने वाले प्रियम गर्ग का IPL और भारतीय अंडर 19 टीम तक का सफर बिल्कुल भी आसान नहीं रहा। प्रियम ने साल 2011 में अपनी मां को खो दिया था। यह वो समय था जब बच्चा बड़ा हो रहा होता है और सपने देखना शुरू करता है। इस उम्र में प्रियम अपने सपने को पूरा करने के लिए जी जान से मेहनत कर रहे थे। मां के निधन के बाद प्रियम को कुछ दिनों के लिए अपनी क्रिकेट प्रैक्टिस भी छोड़नी पड़ी। उस समय परिवार की हालत भीू बहुत अच्छी नहीं थी, पर उनके पिता ने हौसला दिया और बेटे का सपना पूरा करने के लिए खुद मेहनत करनी शुरू की। उनके पिता ने दूध बेचकर प्रियम की जरूरतें पूरी की और उनकी मेहनत अंततः रंग लाई। 

अब प्रियम भारतीय अंडर 19 टीम के कप्तान बन चुके हैं। उनके ऊपर टीम को जीत दिलाने का दारोमदार होगा। इसके साथ ही उन्हें अगले साल  IPL में भी खेलना है। प्रियम अगर इन दोनों मौकों पर शानदार खेल दिखाते हैं तो भारतीय टीम के दरवाजे भी उनके लिए खुल जाएंगे। भारतीय टीम के युवा एपनर पृथ्वी शॉ प्रियम के लिए सबसे सही उदाहरण हैं। 
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios