Asianet News Hindi

PMAY को भुनाने के लिये BJP ने झुग्गी झोपड़ी कॉलोनियों में लगाए PM मोदी के होर्डिंग

झुग्गी झोपड़ी (जेजे) के वासियों के बीच मोदी सरकार की आवास योजना को भुनाने के लिए दिल्ली भाजपा ने शहर में जे जे कॉलोनियों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बड़े-बड़े होर्डिंग लगाने शुरू कर दिये

BJP installed PM Modi hoardings in slum colonies To redeem PMAY kpm
Author
New Delhi, First Published Jan 3, 2020, 12:08 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली: झुग्गी झोपड़ी (जेजे) के वासियों के बीच मोदी सरकार की आवास योजना को भुनाने के लिए दिल्ली भाजपा ने शहर में जे जे कॉलोनियों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बड़े-बड़े होर्डिंग लगाने शुरू कर दिये हैं। आगामी दिल्ली विधानसभा चुनाव के मद्देनजर जे जे कॉलोनी वासियों का दिल जीतने के लिए भाजपा और सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) के बीच भीषण संघर्ष है।

दिल्ली भाजपा की जे जे क्लस्टर शाखा ने ये होर्डिंग लगाये हैं। हर होर्डिंग में प्रधानमंत्री की तस्वीर है और उसमें बड़े-बड़े अक्षरों में लिखा है, 'जहां झुग्गी, वहीं मकान।' इन होर्डिंगों में लोगों से पानी, बिजली और सीवर की सुविधा के साथ ही दो कमरे का अपना मकान पाने के लिए पंजीकरण कराने का निमंत्रण दिया गया है।

सहायता केंद्र खोलेगी दिल्ली भाजपा

दिल्ली भाजपा की जे जे क्लस्टर मोर्चा के अध्यक्ष उमेश वर्मा ने कहा कि पार्टी इस येाजना के तहत लोगों को पंजीकरण में मदद पहुंचाने के लिए सहायता केंद्र खोलने जा रही है।

वर्मा ने कहा, ''हमारा लक्ष्य शहर के 700 जे जे क्लस्टरों में पीएमएवाई के बड़े-बड़े होर्डिंग लगाना है जहां करीब 20 लाख लोग रहते हैं।'' उन्होंने कहा कि चंद्रशेखर आजाद कॉलोनी (वजीरपुर), संजय बस्ती (तुगलकाबाद), कर्पूरी ठाकुर कैंप (कालकाजी), बेला रोड बस्ती (जंगपुरा) और संत रविवाद कैंप (आर के पुरम) समेत शहर के विभिन्न हिस्सों में पहले ही 1000 से अधिक होर्डिंग लगाये जा चुके हैं।

सत्तारूढ आप भी झुग्गी वासियों का समर्थन जुटाने की जुगत में लगी है। पार्टी प्रमुख और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पिछले महीने झुग्गी झोपड़ियों के बाशिंदों के लिए मुख्यमंत्री आवास योजना शुरू की थी। इस योजना के तहत केजरीवाल ने झुग्गी झोपड़ियों में रहने वाले 65000 परिवारों के बीच स्वामित्व प्रमाणपत्र वितरित किये।

(यह खबर समाचार एजेंसी भाषा की है, एशियानेट हिंदी टीम ने सिर्फ हेडलाइन में बदलाव किया है।)

(प्रतीकात्मक फोटो)
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios