Asianet News HindiAsianet News Hindi

BJP ने लगाया केंद्र सरकार की योजनाओं में अड़ंगा डालने का आरोप, कहा, केजरीवाल को 'मोदी फोबिया'

व्यापारियों के साथ यहां बैठक में रेल मंत्री गोयल ने भागीदारों से दिल्ली में सरकार बनाने के लिए भाजपा का समर्थन करने का अनुरोध किया ताकि उनके हितों का खयाल रखा जा सके

bjp accuse kejriwal goverment for stopping central welfare scheme kpm
Author
New Delhi, First Published Dec 31, 2019, 11:03 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर केंद्र की विभिन्न योजनाओं में अड़ंगा डालने और 'मोदी फोबिया' होने के कारण प्रधानमंत्री आवास योजना और आयुष्मान योजना के लाभों से दिल्लीवालों को वंचित रखने का आरोप लगाया।

व्यापारियों के साथ यहां बैठक में रेल मंत्री गोयल ने भागीदारों से दिल्ली में सरकार बनाने के लिए भाजपा का समर्थन करने का अनुरोध किया ताकि उनके हितों का खयाल रखा जा सके। केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी और वहां मौजूद भाजपा के अन्य नेताओं ने भी कारोबारियों को राष्ट्रीय राजधानी में सीलिंग अभियान से बचाने के लिए समाधान तलाशने का आश्वासन दिया।

व्यापारीयों को डरा रही भाजपा

तालकटोरा स्टेडियम में आयोजित 'विशाल व्यापारी सम्मेलन' को पीयूष गोयल ने संबोधित किया। उनके आने तक काफी लोग जा चुके थे । वह ढाई घंटे देर से पहुंचे। भाजपा पर कटाक्ष करते हुए दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि बैठक में कारोबारी इसलिए नहीं आए क्योंकि उन्हें डर है कि भाजपा शासन वाली एमसीडी उनकी दुकानों और फैक्टरियों को सील कर सकती है।

केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमन का नाम भी सम्मेलन में आने वाले अतिथियों की सूची में था, लेकिन वह नहीं आयीं। पीयूष गोयल ने विभिन्न मुद्दों पर आप सुप्रीमो पर निशाना साधा और 'मोदी फोबिया' के कारण केंद्र की विभिन्न योजनाओं में अडंगा डालने का आरोप लगाया।

विधानसभा चुनावों के लिए दिल्ली भाजपा के सह प्रभारी पुरी ने आरोप लगाया कि केजरीवाल सरकार अनधिकृत कॉलोनियों को नियमित करने के काम, झुग्गियों के विकास और दिल्ली मेट्रो के चौथे चरण की परियोजना में देरी कर रही है।

दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने व्यापारियों को आश्वस्त किया कि उनकी पार्टी प्रभावित लोगों की संपत्तियों को सील मुक्त कराने के लिए काम करेगी।

(यह खबर समाचार एजेंसी भाषा की है, एशियानेट हिंदी टीम ने सिर्फ हेडलाइन में बदलाव किया है।)

(फाइल फोटो)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios