Asianet News Hindi

पापा की तबियत को लेकर परेशान थे चिराग, नहीं आ पा रहे थे बिहार; निधन पर इस फोटो को साझा कर हुए भावुक

First Published Oct 8, 2020, 10:10 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

पटना। लोकजनशक्ति पार्टी (एलजेपी) के संस्थापक और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का 74 साल की उम्र में निधन हो गया। उनके इकलौते बेटे और एलजेपी के अध्यक्ष चिराग पासवान ने निधन की जानकारी ट्विटर पर साझा की। चिराग ने पापा संग बचपन की तस्वीर साझा करते हुए भावुक लाइनें भी लिखीं। एलजेपी चीफ ने लिखा- "पापा....अब आप इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन मुझे पता है आप जहां भी हैं हमेशा मेरे साथ हैं। Miss you Papa..."
 

5 जुलाई 1946 को जन्मे पासवान की तबियत पिछले कई दिनों से खराब चल रही थी। उन्हें पिछले दिनों ही इलाज के लिए दिल्ली के अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बिहार में चुनाव की वजह से चिराग नहीं आ पा रहे थे। कई बार ट्विटर पर उन्होंने इस बात को साझा भी किया था। 

5 जुलाई 1946 को जन्मे पासवान की तबियत पिछले कई दिनों से खराब चल रही थी। उन्हें पिछले दिनों ही इलाज के लिए दिल्ली के अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बिहार में चुनाव की वजह से चिराग नहीं आ पा रहे थे। कई बार ट्विटर पर उन्होंने इस बात को साझा भी किया था। 

चिराग ने कहा था कि चुनाव है, लेकिन पापा की तबियत की वजह से उन्हें छोड़कर बिहार नहीं आ पा रहा हूं। कई मीटिंग भी उन्हें रद्द करने पड़े। इसी हफ्ते पार्टी संसदीय दल की बैठक थी, लेकिन चिराग को पिता के खराब तबियत की जानकारी मिली और उन्हें मीटिंग छोड़कर जाना पड़ा। उनके साथ उनके चचेरे भाई प्रिंस राज भी थे। 

चिराग ने कहा था कि चुनाव है, लेकिन पापा की तबियत की वजह से उन्हें छोड़कर बिहार नहीं आ पा रहा हूं। कई मीटिंग भी उन्हें रद्द करने पड़े। इसी हफ्ते पार्टी संसदीय दल की बैठक थी, लेकिन चिराग को पिता के खराब तबियत की जानकारी मिली और उन्हें मीटिंग छोड़कर जाना पड़ा। उनके साथ उनके चचेरे भाई प्रिंस राज भी थे। 

चिराग पिछले कई दिनों से लगातार पार्टी की राजनीति और पिता के खराब स्वास्थ्य के बीच सामंजस्य बनाए हुए थे। लेकिन आज रामविलास उन्हें अकेला छोड़ गए। अस्पताल में जाने से पहले रामविलास ने बताया था कि कोरोना और लॉकडाउन के दौरान काम की वजह से उन्होंने रूटीन चेकअप अवाइड किया। 

चिराग पिछले कई दिनों से लगातार पार्टी की राजनीति और पिता के खराब स्वास्थ्य के बीच सामंजस्य बनाए हुए थे। लेकिन आज रामविलास उन्हें अकेला छोड़ गए। अस्पताल में जाने से पहले रामविलास ने बताया था कि कोरोना और लॉकडाउन के दौरान काम की वजह से उन्होंने रूटीन चेकअप अवाइड किया। 

हालांकि चिराग उन्हें बार-बार इलाज जाने के लिए कहते रहे। लेकिन लोगों की सेवा करने की वजह से पासवान अस्पताल नहीं गए। पासवान की तबियत बिगड़ती गई। पासवान ने बताया था कि जब मंत्रालय का काम पटरी पर आ गया तब चिराग के बहुत दबाव डालने के बाद असपताल आए।

हालांकि चिराग उन्हें बार-बार इलाज जाने के लिए कहते रहे। लेकिन लोगों की सेवा करने की वजह से पासवान अस्पताल नहीं गए। पासवान की तबियत बिगड़ती गई। पासवान ने बताया था कि जब मंत्रालय का काम पटरी पर आ गया तब चिराग के बहुत दबाव डालने के बाद असपताल आए।

पासवान के अस्पताल आने के बाद पीएम मोदी लगातार उनके स्वास्थ्य का अपडेट लेते रहते थे। खुद चिराग ने भी ट्वीट में ये जानकारी दी थी। चिराग के जाने के बाद मोदी कैबिनेट का एक मजबूत चेहरा चला गया। 

पासवान के अस्पताल आने के बाद पीएम मोदी लगातार उनके स्वास्थ्य का अपडेट लेते रहते थे। खुद चिराग ने भी ट्वीट में ये जानकारी दी थी। चिराग के जाने के बाद मोदी कैबिनेट का एक मजबूत चेहरा चला गया। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios