इस वजह से पाई पाई को मोहताज हुआ अनिल कपूर का हमशक्ल, बताया जेब में बचे हैं कितने रुपए

First Published 13, Apr 2020, 6:44 PM

मुंबई. कोरोना वायरस से बचने के लिए देशभर में 21 दिन का लॉकडाउन चल रहा है। ऐसे में आमजनों से लेकर सेलेब्स तक सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं। इस फ्री टाइम में लोग सोशल मीडिया पर खूब एक्टिव हैं। कोई अपनी कुकिंग हॉबी को टाइम दे रहा है तो कोई घर में रहकर फिटनेस वीडियोज बना रहा है। हालांकि इन सबके बीच कुछ ऐसे भी लोग हैं जिनके पास ये सुविधाएं नहीं है और वे पाई-पाई को मोहताज है। 

बॉलीवुड से लेकर टीवी सेलेब्स तक सभी गरीबों और जरूरतमंदों की मदद के लिए दान कर रहे हैं। हालांकि फिर भी ऐसे कई लोग हैं जो मदद वाली सुविधाओं को नहीं ले पा रहे हैं। सोशल मीडिया के जरिए फेमस हुए अनिल कपूर के हमशक्ल आरिफ खान की बात करें तो वे काफी परेशानी में है। बता दें कि आरीफ ने फिल्म नायक में अनिल कपूर के बॉडीडबल का काम किया था।

बॉलीवुड से लेकर टीवी सेलेब्स तक सभी गरीबों और जरूरतमंदों की मदद के लिए दान कर रहे हैं। हालांकि फिर भी ऐसे कई लोग हैं जो मदद वाली सुविधाओं को नहीं ले पा रहे हैं। सोशल मीडिया के जरिए फेमस हुए अनिल कपूर के हमशक्ल आरिफ खान की बात करें तो वे काफी परेशानी में है। बता दें कि आरीफ ने फिल्म नायक में अनिल कपूर के बॉडीडबल का काम किया था।

आरिफ लॉकडाउन में पैसों की तंगी से गुजर रहे हैं उनके पास घर चलाने के लिए रुपए नहीं बचे हैं। जैसा कि आरिफ एक बड़ी ज्वाइंट फैमिली में रहते हैं। दो भाइयों की मौत के बाद आरिफ ही पूरे परिवार की जिम्मेदारी उठा रहे हैं।

आरिफ लॉकडाउन में पैसों की तंगी से गुजर रहे हैं उनके पास घर चलाने के लिए रुपए नहीं बचे हैं। जैसा कि आरिफ एक बड़ी ज्वाइंट फैमिली में रहते हैं। दो भाइयों की मौत के बाद आरिफ ही पूरे परिवार की जिम्मेदारी उठा रहे हैं।

आरिफ ने स्पॉटब्वॉय से बातचीत में कहा- मेरे पास अब सिर्फ 3200 रुपए रह गए हैं। हालात इतने खराब कभी नहीं थे। मैं ठीक ठाक कमा लेता हूं लेकिन अभी हमारे आगे कई महीने बचे हैं और मैं ज्यादा पैसे नहीं बचा पाया हूं।

आरिफ ने स्पॉटब्वॉय से बातचीत में कहा- मेरे पास अब सिर्फ 3200 रुपए रह गए हैं। हालात इतने खराब कभी नहीं थे। मैं ठीक ठाक कमा लेता हूं लेकिन अभी हमारे आगे कई महीने बचे हैं और मैं ज्यादा पैसे नहीं बचा पाया हूं।

आरिफ ने बताया कि उन्हें अपने परिवार के अलावा दो भाइयों के परिवार की देखभाल करनी होती है। ऐसे में इस समय जब सभी काम ठप हैं, उनको रोजी-रोटी के लिए कमाना मुश्किल हो रहा है।

आरिफ ने बताया कि उन्हें अपने परिवार के अलावा दो भाइयों के परिवार की देखभाल करनी होती है। ऐसे में इस समय जब सभी काम ठप हैं, उनको रोजी-रोटी के लिए कमाना मुश्किल हो रहा है।

आरिफ को लगता है कि काम के जरिए कमाई के मामले में उनके लिए स्थिति और खराब हो जाएगी। इस साल कोरोना के चलते ज्यादा इवेंट्स नहीं होंगे। उन्हें उम्मीद है कि फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिने एम्प्लॉयीज उनकी मदद के लिए आएंगे।

आरिफ को लगता है कि काम के जरिए कमाई के मामले में उनके लिए स्थिति और खराब हो जाएगी। इस साल कोरोना के चलते ज्यादा इवेंट्स नहीं होंगे। उन्हें उम्मीद है कि फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिने एम्प्लॉयीज उनकी मदद के लिए आएंगे।

loader