Asianet News Hindi

30 साल बाद Pooja Bhatt ने खोला राज, बताया 1st टाइम संजय दत्त को Kiss करने से पहले पापा ने कही थी एक बात

First Published Mar 7, 2021, 12:26 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई. फिल्ममेकर और एक्ट्रेस पूजा भट्ट (pooja bhatt) 8 मार्च को रिलीज होने जा रही वेब शो बॉम्बे बेगम्स से OTT पर डेब्यू करने जा रहीं। इस शो के प्रमोशन के दौरान पूजा ने एक इंटरव्यू में अपने करियर से जुड़ी कई बातें शेयर कीं। उन्होंने अपने किसिंग सीन को लेकर भी खुलकर बात की। पूजा ने 17 साल की उम्र में फिल्म डैडी (daddy) से बॉलीवुड में कदम रखा था। यह फिल्म उनके पिता और डायरेक्टर महेश भट्ट (mahesh bhatt) ने ही बनाई थी। उन्होंने अपने करियर की तीसरी फिल्म सड़क में संजय दत्त (sanjay dutt) के साथ स्क्रीन शेयर की थी। साथ ही इसी फिल्म में उन्होंने संजय के अपना पहला किसिंग सीन भी दिया था। यह फिल्म भी महेश भट्ट ने ही डायरेक्ट की थी। 

फिल्म के प्रमोशन के दौरान पूजा ने बताया- जब मुझे संजय दत्त के साथ किसिंग सीन देना था, तब मैं 18 साल की थी। मुझे उस इंसान को किस करना था, जिसके पोस्टर्स मेरे कमरे में लगे थे। मुझे याद है कि पापा ने मुझे एक तरफ ले जाकर कुछ ऐसा कहा, जो मुझे जिंदगीभर याद रहा। 

फिल्म के प्रमोशन के दौरान पूजा ने बताया- जब मुझे संजय दत्त के साथ किसिंग सीन देना था, तब मैं 18 साल की थी। मुझे उस इंसान को किस करना था, जिसके पोस्टर्स मेरे कमरे में लगे थे। मुझे याद है कि पापा ने मुझे एक तरफ ले जाकर कुछ ऐसा कहा, जो मुझे जिंदगीभर याद रहा। 

पूजा ने बताया- पापा ने कहा था पूजा अगर तुम इसे वल्गर महसूस करोगी तो यह वल्गर ही हो जाएगा। इसलिए तुम्हें किसिंग और लव मेकिंग सीन को बहुत ही मासूमियत, ग्रेस और गरिमा के साथ देना पड़ेगा क्योंकि सीन का कम्युनिकेट होना जरूरी है।

पूजा ने बताया- पापा ने कहा था पूजा अगर तुम इसे वल्गर महसूस करोगी तो यह वल्गर ही हो जाएगा। इसलिए तुम्हें किसिंग और लव मेकिंग सीन को बहुत ही मासूमियत, ग्रेस और गरिमा के साथ देना पड़ेगा क्योंकि सीन का कम्युनिकेट होना जरूरी है।

पूजा ने ये भी बताया कि वो संजय दत्त की बहुत बड़ी फैन थी और उनके साथ फिल्म करने का मौका मिलना उनके लिए किसी सपने से कम नहीं था। उन्होंने अपने रूम में संजय दत्त की फोटोज लगा रखी थीं। जब फिल्म में किसिंग सीन शूट करने के बात आई तो वो बहुत डर गई थीं।

पूजा ने ये भी बताया कि वो संजय दत्त की बहुत बड़ी फैन थी और उनके साथ फिल्म करने का मौका मिलना उनके लिए किसी सपने से कम नहीं था। उन्होंने अपने रूम में संजय दत्त की फोटोज लगा रखी थीं। जब फिल्म में किसिंग सीन शूट करने के बात आई तो वो बहुत डर गई थीं।

उन्होंने इस दौरान OTT रेग्युलेशंस को लेकर अपनी बात कही। उन्होंने कहा कि भारत में नियम-कायदे जैसी कोई नई चीज नहीं हैं। फिल्ममेकर्स इनसे काफी समय जूझते आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह ऐसा ही है कि एक फिल्ममेकर अपनी फिल्म या सीरीज के जरिए अपना संदेश पहुंचाना चाहता है और उसमें अपने नियम-कायदे लगा रहे हैं। हमारे खुद के भीतर दिलों और दिमाग में एक सेंसर बोर्ड होता है, जो बताता है कि क्या सही है जो दिखाया जाना चाहिए।

उन्होंने इस दौरान OTT रेग्युलेशंस को लेकर अपनी बात कही। उन्होंने कहा कि भारत में नियम-कायदे जैसी कोई नई चीज नहीं हैं। फिल्ममेकर्स इनसे काफी समय जूझते आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह ऐसा ही है कि एक फिल्ममेकर अपनी फिल्म या सीरीज के जरिए अपना संदेश पहुंचाना चाहता है और उसमें अपने नियम-कायदे लगा रहे हैं। हमारे खुद के भीतर दिलों और दिमाग में एक सेंसर बोर्ड होता है, जो बताता है कि क्या सही है जो दिखाया जाना चाहिए।

पूजा ने आगे कहा जो भी उन्हें सही लगेगा, वह उसे दिखाएंगी और उसके लिए आखिरी सांस तक लड़ने के लिए तैयार हैं।  उन्हें लगता है कि नए नियम कायदे अपनी कहानी को कहने के नए तरीकों की ओर ले जाएंगे। पूजा को शक है कि सरकार की मंशा केवल नियम-कायदों को लागू करने की नहीं बल्कि उससे कहीं आगे फिल्ममेकर्स को उनकी कहानी को अपने तरीके से बताने से रोकने की है।

पूजा ने आगे कहा जो भी उन्हें सही लगेगा, वह उसे दिखाएंगी और उसके लिए आखिरी सांस तक लड़ने के लिए तैयार हैं।  उन्हें लगता है कि नए नियम कायदे अपनी कहानी को कहने के नए तरीकों की ओर ले जाएंगे। पूजा को शक है कि सरकार की मंशा केवल नियम-कायदों को लागू करने की नहीं बल्कि उससे कहीं आगे फिल्ममेकर्स को उनकी कहानी को अपने तरीके से बताने से रोकने की है।

आपको बता दें कि 8 मार्च को बॉम्बे बेगम्स सीरीज रिलीज हो रही है, जिसमें पांच अलग महिलाओं की कहानी दिखाई जाएगी, जिनका किरदार सुहाना गोस्वामी, अमृता सुभाष, प्लाबिता बोर-ठाकुर, आध्या आनंद और पूजा भट्ट ने निभाया है। सीरीज की निर्देशिका अलंकृता श्रीवास्तव हैं, जो इससे पहले महिलाओं पर आधारित फिल्में लिपस्टिक अंडर माय बुरखा और डोली किट्टी और वो चमकते सितारे निर्देशित कर चुकी हैं।
 

आपको बता दें कि 8 मार्च को बॉम्बे बेगम्स सीरीज रिलीज हो रही है, जिसमें पांच अलग महिलाओं की कहानी दिखाई जाएगी, जिनका किरदार सुहाना गोस्वामी, अमृता सुभाष, प्लाबिता बोर-ठाकुर, आध्या आनंद और पूजा भट्ट ने निभाया है। सीरीज की निर्देशिका अलंकृता श्रीवास्तव हैं, जो इससे पहले महिलाओं पर आधारित फिल्में लिपस्टिक अंडर माय बुरखा और डोली किट्टी और वो चमकते सितारे निर्देशित कर चुकी हैं।
 

बता दें कि पूजा का जन्म मुंबई में हुआ था। उनकी मां का नाम किरण भट्ट है। उन्होंने अपने फिल्मी करियर में कई सुपरहिट फिल्में दी थीं। उनमें सड़क, जूनून, फिर तेरी कहानी याद आई, अंगरक्षक, चाहत, नाराज, दिल है के मानता नहीं जैसी फिल्में शामिल हैं। उनकी आखिरी फिल्म एवरीबडी सेज आई एम फाइन थी। इसके बाद वे फिल्मों के निर्देशन और निर्माण पर अपना फोक्स रखने लगीं। उन्होंने बतौर निर्देशक फिल्म पाप का निर्दशन किया था। 

बता दें कि पूजा का जन्म मुंबई में हुआ था। उनकी मां का नाम किरण भट्ट है। उन्होंने अपने फिल्मी करियर में कई सुपरहिट फिल्में दी थीं। उनमें सड़क, जूनून, फिर तेरी कहानी याद आई, अंगरक्षक, चाहत, नाराज, दिल है के मानता नहीं जैसी फिल्में शामिल हैं। उनकी आखिरी फिल्म एवरीबडी सेज आई एम फाइन थी। इसके बाद वे फिल्मों के निर्देशन और निर्माण पर अपना फोक्स रखने लगीं। उन्होंने बतौर निर्देशक फिल्म पाप का निर्दशन किया था। 

आपको बताते चलें कि पूजा कई बार अपने पिता की वजह से सुर्खियों में रह चुकी हैं। पिता द्वारा मां को छोड़े जाने से खफा हो गई थीं। एक इंटरव्यू में बताया था- मैंने अपने पिता का इस बात का विरोध किया था कि उन्होंने मेरी मां को छोड़ दिया था किसी और औरत के लिए। मैं सोनी से नफरत करती थी क्योंकि उनकी वजह से हम अपने पिता से दूर हो गए थे।
 

आपको बताते चलें कि पूजा कई बार अपने पिता की वजह से सुर्खियों में रह चुकी हैं। पिता द्वारा मां को छोड़े जाने से खफा हो गई थीं। एक इंटरव्यू में बताया था- मैंने अपने पिता का इस बात का विरोध किया था कि उन्होंने मेरी मां को छोड़ दिया था किसी और औरत के लिए। मैं सोनी से नफरत करती थी क्योंकि उनकी वजह से हम अपने पिता से दूर हो गए थे।
 

पूजा ने बताया था कि उनकी मां ने उनसे कहा था कि उनके पिता एक बहुत अच्छे इंसान हैं। सिर्फ रिलेशनशिप नहीं चल पाया तो इस वजह से वह बुरे हो जाएं ये ठीक नहीं है। पूजा ने आगे कहा था कि मां ने कहा कि मैं अपने पिता के इस फैसले का विरोध न करूं। वह एक अच्छे इंसान हैं। फिर बाद में सब ठीक हो गया। 

पूजा ने बताया था कि उनकी मां ने उनसे कहा था कि उनके पिता एक बहुत अच्छे इंसान हैं। सिर्फ रिलेशनशिप नहीं चल पाया तो इस वजह से वह बुरे हो जाएं ये ठीक नहीं है। पूजा ने आगे कहा था कि मां ने कहा कि मैं अपने पिता के इस फैसले का विरोध न करूं। वह एक अच्छे इंसान हैं। फिर बाद में सब ठीक हो गया। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios