Asianet News Hindi

कैंसर के इलाज के लिए संजय दत्त नहीं ले रहे कीमोथेरेपी, ऐसे हो रहा उनका ट्रीटमेंट, इतना कम हुआ वजन

First Published Oct 8, 2020, 11:36 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई. संजय दत्त (sanjay dutt ) इन दिनों लंग्स कैंसर जैसी घातक बीमारी से जूझ रहे हैं। उन्हें चौथे स्टेज का कैंसर है। हाल ही में सोशल मीडिया में उनकी फोटोज वायरल हुई थी, जिसमें वे काफी कमजोर नजर आ रहे थे। इसे लेकर कहा जा रहा था कि कीमोथेरेपी की वजह से उनका वजन काफी कम हो गया है। हालांकि, सच्चाई कुछ और ही है। रिपोर्ट्स के मुताबिक ना तो उनका वजन कम हुआ है और ना ही उनकी कीमोथेरेपी हो रही है। संजय के करीबियों का कहना है कि उनके वजन में मात्र पांच किलो की गिरावट आई है और वो कीमो की बजाए इम्‍युनो‍थेरेपी करवा रहे हैं। करीबियों की मानें तो उनकी बीमारी उतनी गंभीर नहीं है, जितना कि उसे प्रोजेक्‍ट किया जा रहा है।

संजय के करीबियों ने उनकी हेल्‍थ को लेकर भी नई बातें बताई है। उनके मुताबिक संजय कीमो की बजाए इम्‍युनोथेरेपी ले रहे हैं। यह एक नई तकनीक है, जिसमें शरीर की प्रतिरक्षक कोशिकाएं, कैंसर की मेलिनेंट कोशिकाओं से लड़ने में मदद करती हैं।

संजय के करीबियों ने उनकी हेल्‍थ को लेकर भी नई बातें बताई है। उनके मुताबिक संजय कीमो की बजाए इम्‍युनोथेरेपी ले रहे हैं। यह एक नई तकनीक है, जिसमें शरीर की प्रतिरक्षक कोशिकाएं, कैंसर की मेलिनेंट कोशिकाओं से लड़ने में मदद करती हैं।

इम्‍युनोथेरेपी लेने से बीमारी से लड़ने की ताकत इतनी मजबूत हो जाती है कि कैंसर तक का मुकाबला किया जा सकता है। रिपोर्ट में बहुत से लोगों को इम्‍युनो ओंकोलॉजी से फायदा हुआ है। इस तकनीक में हर इंसान की जरूरत को ध्‍यान में रखते हुए इम्‍युन बूस्‍टर थेरेपी दी जाती है। इम्‍युन सेल्‍स खासतौर पर कैंसर की कोशिकाओं पर हमला करती हैं और शरीर की स्‍वस्‍थ कोशिकाओं को कोई नुकसान नहीं पहुंचाती।

इम्‍युनोथेरेपी लेने से बीमारी से लड़ने की ताकत इतनी मजबूत हो जाती है कि कैंसर तक का मुकाबला किया जा सकता है। रिपोर्ट में बहुत से लोगों को इम्‍युनो ओंकोलॉजी से फायदा हुआ है। इस तकनीक में हर इंसान की जरूरत को ध्‍यान में रखते हुए इम्‍युन बूस्‍टर थेरेपी दी जाती है। इम्‍युन सेल्‍स खासतौर पर कैंसर की कोशिकाओं पर हमला करती हैं और शरीर की स्‍वस्‍थ कोशिकाओं को कोई नुकसान नहीं पहुंचाती।

कीमोथेरेपी के दौरान हेल्‍दी सेल्‍स भी इफेक्‍ट होते हैं। इसका नतीजा यह होता है कि कैंसर रोग के दोबारा होने के चांसेस रहते हैं। संजय इम्‍युनोथेरेपी ले रहे हैं। इससे इलाज के साइड इफेक्‍ट ज्यादा नहीं होते हैं।

कीमोथेरेपी के दौरान हेल्‍दी सेल्‍स भी इफेक्‍ट होते हैं। इसका नतीजा यह होता है कि कैंसर रोग के दोबारा होने के चांसेस रहते हैं। संजय इम्‍युनोथेरेपी ले रहे हैं। इससे इलाज के साइड इफेक्‍ट ज्यादा नहीं होते हैं।

संजय के फैमिली के एक मेंबर का कहना है कि सामने आई फोटोज में उनके वजन कम होने का अंदाजा कैसे लगाया जा सकता है। असलियत यह है कि वे रोजाना दो से तीन घंटे जिम में बिता रहे हैं। अपकमिंग फिल्‍मों के लिए उन्‍हें स्लिम लुक में दिखना है।

संजय के फैमिली के एक मेंबर का कहना है कि सामने आई फोटोज में उनके वजन कम होने का अंदाजा कैसे लगाया जा सकता है। असलियत यह है कि वे रोजाना दो से तीन घंटे जिम में बिता रहे हैं। अपकमिंग फिल्‍मों के लिए उन्‍हें स्लिम लुक में दिखना है।

गिरी हुई सेहत दिखने की वजह बताते हुए उनके करीबी ने कहा कि संजय ने पिछले काफी लंबे समय से शेव नहीं की थी। ऐसे में बढ़ी दाढ़ी की वजह से उनके चेहरे और गले की सिलवटें नहीं दिखती थीं और चेहरा भरा हुआ नजर आता था।

गिरी हुई सेहत दिखने की वजह बताते हुए उनके करीबी ने कहा कि संजय ने पिछले काफी लंबे समय से शेव नहीं की थी। ऐसे में बढ़ी दाढ़ी की वजह से उनके चेहरे और गले की सिलवटें नहीं दिखती थीं और चेहरा भरा हुआ नजर आता था।

बच्चों से मिलने दुबई जाने से पहले उन्‍होंने क्‍लीन शेव किया और जब वो वहां से वापस आए तो पतले चेहरे के चलते उन्‍हें ज्यादा बीमार बता दिया गया, जबकि असल में वे फिट हैं। इतना ही नहीं वे रोज नए राइटरों और डायरेक्‍टरों से मिल रहे हैं। पिछले दो दिनों में उन्‍होंने दो-तीन डायरेक्‍टरों से नई कहानियों के नरेशन लिए हैं।

बच्चों से मिलने दुबई जाने से पहले उन्‍होंने क्‍लीन शेव किया और जब वो वहां से वापस आए तो पतले चेहरे के चलते उन्‍हें ज्यादा बीमार बता दिया गया, जबकि असल में वे फिट हैं। इतना ही नहीं वे रोज नए राइटरों और डायरेक्‍टरों से मिल रहे हैं। पिछले दो दिनों में उन्‍होंने दो-तीन डायरेक्‍टरों से नई कहानियों के नरेशन लिए हैं।

संजय के करीबियों की बातों की पुष्टि फिल्म मेकर रवि चड्ढा के करीबियों ने भी की है। रवि चड्ढा उनके साथ 'डम डम डिगा डिगा' फिल्‍म बना रहे हैं। इसमें जैकी श्रॉफ और सुनील शेट्टी भी हैं। इसे यासवी फिल्‍म्‍स प्रोड्यूस कर रहे हैं। जिन्‍होंने हाल ही में श्रेयस तलपड़े और पवन मल्‍होत्रा आदि के साथ ‘सेटर्स बनाई थी।

संजय के करीबियों की बातों की पुष्टि फिल्म मेकर रवि चड्ढा के करीबियों ने भी की है। रवि चड्ढा उनके साथ 'डम डम डिगा डिगा' फिल्‍म बना रहे हैं। इसमें जैकी श्रॉफ और सुनील शेट्टी भी हैं। इसे यासवी फिल्‍म्‍स प्रोड्यूस कर रहे हैं। जिन्‍होंने हाल ही में श्रेयस तलपड़े और पवन मल्‍होत्रा आदि के साथ ‘सेटर्स बनाई थी।

मेकर्स ने संजय की सुविधा का ख्‍याल रखते हुए महबूब स्‍टूडियो में शूटिंग का शेड्यूल रखा है। उनके मुताबिक ये धमाल वाले जोनर वाली फिल्‍म होगी। इस प्रोजेक्‍ट के अलावा संजय शमशेरा की डबिंग और भुज: प्राइड ऑफ इंडिया का बचा हुआ काम भी पूरा करेंगे।

मेकर्स ने संजय की सुविधा का ख्‍याल रखते हुए महबूब स्‍टूडियो में शूटिंग का शेड्यूल रखा है। उनके मुताबिक ये धमाल वाले जोनर वाली फिल्‍म होगी। इस प्रोजेक्‍ट के अलावा संजय शमशेरा की डबिंग और भुज: प्राइड ऑफ इंडिया का बचा हुआ काम भी पूरा करेंगे।

वर्कफ्रंट की बात करें तो संजय की आने वाली फिल्मों में शमशेरा, केजीएफ चैप्टर 2, पृथ्वीराज, भुज : द प्राइड ऑफ इंडिया और तोरबाज शामिल हैं। इनमें से कुछ फिल्में पूरी हो चुकी हैं, जबकि कुछ में थोड़ा बहुत काम बाकी है।

वर्कफ्रंट की बात करें तो संजय की आने वाली फिल्मों में शमशेरा, केजीएफ चैप्टर 2, पृथ्वीराज, भुज : द प्राइड ऑफ इंडिया और तोरबाज शामिल हैं। इनमें से कुछ फिल्में पूरी हो चुकी हैं, जबकि कुछ में थोड़ा बहुत काम बाकी है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios