Asianet News Hindi

मौत के वक्त 2 महीने की प्रेग्नेंट थी अमिताभ बच्चन की एक्ट्रेस, हादसे के बाद फैमिली को नहीं मिली डेड बॉडी

First Published Apr 17, 2021, 10:35 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई. साउथ इंडस्ट्री की ऐसी कई एक्ट्रेसेस हैं जिन्होंने बॉलीवुड फिल्मों में भी काम किया। हालांकि, इनमें से कम ही हीरोइनों को सफलता मिल पाई। इन्हीं में से एक हीरोइन है जिसने बॉलीवुड की एक मात्र फिल्म 'सूर्यवंशम' (Sooryavansham) में काम किया था और वह है सौंद्रर्या (Soundarya)। इस फिल्म में अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) ने डबल रोल प्ले किया था। सौंदर्या की आज 17वीं डेथ एनिवर्सरी है। बता दें कि 17 अप्रैल, 2004 को प्लेन क्रैश में उनकी मौत हो गई थी। उस वक्त वे मात्र 31 साल की थी और 2 महीने प्रेग्नेंट थी। सौंदर्या का असली नाम सौम्या सत्यनारायण था। उनका जन्म 18 जुलाई 1972 को कर्नाटक के कोलार में इंडस्ट्रीयलिस्ट और कन्नड़ फिल्मों के राइटर के. एस. नारायण के यहां हुआ था। सौंद्रर्या ने कई अवॉर्ड्स भी अपने नाम किए थे।
 

फिल्म 'सूर्यवंशम' रिलीज के वक्त भले ही फ्लॉप हो गई थी, लेकिन आज सबसे चर्चित फिल्मों में से एक है। एक मूवी चैनल पर हर दो-तीन दिन में यह फिल्म देखी जा सकती है। फिल्म में अमिताभ बच्चन के अपोजिट साउथ फिल्मों की एक्ट्रेस सौंदर्या रघु नजर आई थीं। फिल्म रिलीज के 5 साल बाद सौंदर्या की मौत हो गई। जब उनकी मौत हुई, तब वे प्रेग्नेंट थीं। लेकिन घरवालों को उनकी डेड बॉडी भी नहीं मिली।

फिल्म 'सूर्यवंशम' रिलीज के वक्त भले ही फ्लॉप हो गई थी, लेकिन आज सबसे चर्चित फिल्मों में से एक है। एक मूवी चैनल पर हर दो-तीन दिन में यह फिल्म देखी जा सकती है। फिल्म में अमिताभ बच्चन के अपोजिट साउथ फिल्मों की एक्ट्रेस सौंदर्या रघु नजर आई थीं। फिल्म रिलीज के 5 साल बाद सौंदर्या की मौत हो गई। जब उनकी मौत हुई, तब वे प्रेग्नेंट थीं। लेकिन घरवालों को उनकी डेड बॉडी भी नहीं मिली।

17 अप्रैल, 2004 को सौंदर्या भारतीय जनता पार्टी और तेलुगु देशम पार्टी के उम्मीदवार के चुनाव प्रचार के लिए करीमनगर जा रही थीं। सुबह 11.05 बजे फोर सीटर प्राइवेट एयरक्राफ्ट ने बेंगलुरु के जक्कुर एयरफील्ड से उड़ान भरी और करीब 100 फीट ऊपर जाते ही क्रैश हो गया। एयरक्राफ्ट में सौंदर्या के अलावा, उनके भाई अमरनाथ, हिंदू जागरण समिति के सेक्रेटरी रमेश कदम और पायलट जॉय फिलिप मौजूद थे। चारों की मौत इस क्रैश में हुई।

17 अप्रैल, 2004 को सौंदर्या भारतीय जनता पार्टी और तेलुगु देशम पार्टी के उम्मीदवार के चुनाव प्रचार के लिए करीमनगर जा रही थीं। सुबह 11.05 बजे फोर सीटर प्राइवेट एयरक्राफ्ट ने बेंगलुरु के जक्कुर एयरफील्ड से उड़ान भरी और करीब 100 फीट ऊपर जाते ही क्रैश हो गया। एयरक्राफ्ट में सौंदर्या के अलावा, उनके भाई अमरनाथ, हिंदू जागरण समिति के सेक्रेटरी रमेश कदम और पायलट जॉय फिलिप मौजूद थे। चारों की मौत इस क्रैश में हुई।

मौत से करीब एक साल पहले ही 2003 में सौंदर्या ने सॉफ्टवेयर इंजीनियर जीएस. रघु से शादी की थी। रिपोर्ट्स के मुताबिक, 2010 में जीएस. रघु ने अर्पिता नाम की लड़की से दूसरी शादी कर ली।

मौत से करीब एक साल पहले ही 2003 में सौंदर्या ने सॉफ्टवेयर इंजीनियर जीएस. रघु से शादी की थी। रिपोर्ट्स के मुताबिक, 2010 में जीएस. रघु ने अर्पिता नाम की लड़की से दूसरी शादी कर ली।

1998 में जब एक इंटरव्यू में सौंदर्या ने कहा था- फिल्में मेरे दिमाग में आखिरी चीज थीं। मेरे पापा फिल्ममेकर थे और मैं उनके साथ अक्सर सेट्स पर जाया करती थी। मैं एमबीए कम्प्लीट कर बिजनेस लाइन में जाना चाहती थी। लेकिन जब पापा के दोस्त ने मुझे इंटरेस्टिंग रोल के लिए अप्रोच किया तो मैंने एक्टिंग में आने का फैसला किया।

1998 में जब एक इंटरव्यू में सौंदर्या ने कहा था- फिल्में मेरे दिमाग में आखिरी चीज थीं। मेरे पापा फिल्ममेकर थे और मैं उनके साथ अक्सर सेट्स पर जाया करती थी। मैं एमबीए कम्प्लीट कर बिजनेस लाइन में जाना चाहती थी। लेकिन जब पापा के दोस्त ने मुझे इंटरेस्टिंग रोल के लिए अप्रोच किया तो मैंने एक्टिंग में आने का फैसला किया।

सौंदर्या ने कहा था कि जब वे फिल्मों में एंटर हुईं तो प्रोड्यूसर्स के सामने उनकी पहली कंडीशन थी कि वे एक्सपोज नहीं करेंगी। 1992 में कन्नड़ फिल्म 'गंधर्व' से सौंदर्या ने बड़े पर्दे पर डेब्यू किया। इसी साल उन्होंने तेलुगु भाषा की फिल्म 'Raithu Bharatham' भी की। 12 साल के फिल्मी करियर में सौंदर्या ने 114 फिल्मों में काम किया था। मौत के बाद अगस्त 2004 में उनकी आखिरी फिल्म 'Apthamitra' रिलीज हुई थी, जो कन्नड़ में बनी थी।

सौंदर्या ने कहा था कि जब वे फिल्मों में एंटर हुईं तो प्रोड्यूसर्स के सामने उनकी पहली कंडीशन थी कि वे एक्सपोज नहीं करेंगी। 1992 में कन्नड़ फिल्म 'गंधर्व' से सौंदर्या ने बड़े पर्दे पर डेब्यू किया। इसी साल उन्होंने तेलुगु भाषा की फिल्म 'Raithu Bharatham' भी की। 12 साल के फिल्मी करियर में सौंदर्या ने 114 फिल्मों में काम किया था। मौत के बाद अगस्त 2004 में उनकी आखिरी फिल्म 'Apthamitra' रिलीज हुई थी, जो कन्नड़ में बनी थी।

पूरे करियर में सौंदर्या ने हिंदी में सिर्फ एक फिल्म 'सूर्यवंशम' की थी। डायरेक्टर ईवीवी सत्यनारायण की इस फिल्म में अमिताभ बच्चन का डबल रोल था। साउथ सिनेमा के स्टार्स की बात करें तो सौंदर्या ने रजनीकांत के साथ 'अरुणाचलम', 'पदयप्पा', वेंकटेश के साथ 'राजा', 'पवित्र बंधन' और चिरंजीवी के साथ 'Choodalani Vundi' जैसी फिल्में की थीं।

पूरे करियर में सौंदर्या ने हिंदी में सिर्फ एक फिल्म 'सूर्यवंशम' की थी। डायरेक्टर ईवीवी सत्यनारायण की इस फिल्म में अमिताभ बच्चन का डबल रोल था। साउथ सिनेमा के स्टार्स की बात करें तो सौंदर्या ने रजनीकांत के साथ 'अरुणाचलम', 'पदयप्पा', वेंकटेश के साथ 'राजा', 'पवित्र बंधन' और चिरंजीवी के साथ 'Choodalani Vundi' जैसी फिल्में की थीं।

2004 में मौत के बाद रिलीज हुई कन्नड़ फिल्म 'Apthamitra' के लिए सौंदर्या को फिल्मफेयर (साउथ) का बेस्ट एक्ट्रेस अवॉर्ड मिला था। इसके पहले वे पांच बार यह अवॉर्ड अपने नाम कर चुकी थीं। 1988 के एक इंटरव्यू में सौंदर्या ने बताया था कि सूर्यवंशम से पहले उन्हें कई बॉलीवुड फिल्मों के ऑफर मिले थे। लेकिन स्क्रिप्ट पसंद न आने की वजह से रिजेक्ट कर दिए। उन्होंने बताया था- सूर्यवंशम में मुझे रोल बहुत पसंद आया और मैंने तुरंत हां कर दी।

2004 में मौत के बाद रिलीज हुई कन्नड़ फिल्म 'Apthamitra' के लिए सौंदर्या को फिल्मफेयर (साउथ) का बेस्ट एक्ट्रेस अवॉर्ड मिला था। इसके पहले वे पांच बार यह अवॉर्ड अपने नाम कर चुकी थीं। 1988 के एक इंटरव्यू में सौंदर्या ने बताया था कि सूर्यवंशम से पहले उन्हें कई बॉलीवुड फिल्मों के ऑफर मिले थे। लेकिन स्क्रिप्ट पसंद न आने की वजह से रिजेक्ट कर दिए। उन्होंने बताया था- सूर्यवंशम में मुझे रोल बहुत पसंद आया और मैंने तुरंत हां कर दी।

इस दौरान सौंदर्या ने यह भी बताया था कि वे अमिताभ बच्चन की बहुत बड़ी फैन थीं। मुझे अमिताभ बच्चन की फिल्में देखना बहुत पसंद है और 'अभिमान' मेरी फेवरेट है। मैं 'सूर्यवंशम' की शूटिंग का बेसब्री से इंतजार कर रही थी। क्योंकि मुझे यकीन था कि उन्हें परफॉर्म करते देखने से बहुत कुछ सीखने को मिलेगा।

इस दौरान सौंदर्या ने यह भी बताया था कि वे अमिताभ बच्चन की बहुत बड़ी फैन थीं। मुझे अमिताभ बच्चन की फिल्में देखना बहुत पसंद है और 'अभिमान' मेरी फेवरेट है। मैं 'सूर्यवंशम' की शूटिंग का बेसब्री से इंतजार कर रही थी। क्योंकि मुझे यकीन था कि उन्हें परफॉर्म करते देखने से बहुत कुछ सीखने को मिलेगा।

बता दें कि टीवी पर सूर्यवंशम के बार-बार दिखाए जाने की जो वजह सामने आई वो ये है कि यह फिल्म 21 मई 1999 को रिलीज हुई थी और उसी साल सोनी टीवी के मैक्स चैनल को लॉन्च किया गया था। मतलब फिल्म और चैनल दोनों सेम ईयर में ही आए थे।

बता दें कि टीवी पर सूर्यवंशम के बार-बार दिखाए जाने की जो वजह सामने आई वो ये है कि यह फिल्म 21 मई 1999 को रिलीज हुई थी और उसी साल सोनी टीवी के मैक्स चैनल को लॉन्च किया गया था। मतलब फिल्म और चैनल दोनों सेम ईयर में ही आए थे।

इसे दिखाने की एक वजह ये भी सामने आई थी कि जिस चैनल पर यह फिल्म आती है उसने इसके 100 साल के राइट्स खरीद रखे हैं। इसी वजह से यह फिल्म बार-बार दिखाई जाती है। सूर्यवंशम इंडियन मूवी चैनल पर सबसे ज्यादा टेलीकास्ट होने वाली फिल्म है। 

इसे दिखाने की एक वजह ये भी सामने आई थी कि जिस चैनल पर यह फिल्म आती है उसने इसके 100 साल के राइट्स खरीद रखे हैं। इसी वजह से यह फिल्म बार-बार दिखाई जाती है। सूर्यवंशम इंडियन मूवी चैनल पर सबसे ज्यादा टेलीकास्ट होने वाली फिल्म है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios