Asianet News Hindi

पाई-पाई को मोहताज हुआ 'बालिका वधू' का डायरेक्टर, गली-गली घूम ठेले पर सब्जियां बेच पाल रहा परिवार का पेट

First Published Sep 27, 2020, 2:14 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई. कोरोना ( corona) की वजह से दुनियाभर में दहशत फैली हुई है। रोज हजारों लोग इस वायरस की चपेट में आ रहे हैं। कई तो मौत के मुंह में भी जा चुके है। भारत में पूरी तरह से अनलॉक प्रक्रिया शुरू हो चुकी। आमजनों की तरह बॉलीवुड और टीवी सेलेब्स भी धीरे-धीरे अपने काम पर लौट रहे हैं। ये बात और है कि कोरोना की वजह से लगे लॉकडाउन ने कइयों की आर्थिक स्थिति बहुत खराब कर दी। कई लोगों के पास काम नहीं बचा तो कुछ को रोजी-रोटी की जुगाड़ करने मजदूरी तक करनी पड़ रही है। बता दें कि कई फेमस टीवी शो और फिल्मों का डायरेक्शन करने में मदद करने वाले रामवृक्ष गौड़ (Ram Briksh Gaur) आज पाई-पाई को मोहताज हो गए हैं। उन्हें अपने परिवार का पेट पालने के लिए सब्जियां बेचनी पड़ रही है।

एक से एक फेमस स्टार्स को अपने इशारों पर हंसाने और रुलाने वाले डायरेक्टर आज अपनी आर्थिक स्थिति से लड़ रहे हैं। फिलहाल रामवृक्ष मुंबई छोड़कर उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में अपने घर में रह रहे हैं।

एक से एक फेमस स्टार्स को अपने इशारों पर हंसाने और रुलाने वाले डायरेक्टर आज अपनी आर्थिक स्थिति से लड़ रहे हैं। फिलहाल रामवृक्ष मुंबई छोड़कर उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में अपने घर में रह रहे हैं।

रील लाइफ की चकाचौंध और भागमभाग की जिंदगी जीने वाले डायरेक्टर को अपनी परिस्थितियों से समझौता इस कदर करना पड़ा कि उन्हें परिवार का पेट पालने के लिए सब्जी बेचनी पड़ रही है। वे गली-गली घूमकर सब्जी का ठेला लगा रहे हैं।

रील लाइफ की चकाचौंध और भागमभाग की जिंदगी जीने वाले डायरेक्टर को अपनी परिस्थितियों से समझौता इस कदर करना पड़ा कि उन्हें परिवार का पेट पालने के लिए सब्जी बेचनी पड़ रही है। वे गली-गली घूमकर सब्जी का ठेला लगा रहे हैं।

हालांकि इन परिस्थितियों में भी रामवृक्ष का कहना है कि रियल लाइफ और रील लाइफ दोनों चलती हैं। लॉकडाउन में अपने बच्चे की परीक्षा दिलाने आए रामवृक्ष अब मुंबई का रुख नहीं कर पा रहे हैं। परिवार की जिम्मेदारी और मुंबई में फिल्मी काम बंद होने के कारण मजबूर होकर उन्हें सब्जी बेचना पड़ रहा है।

हालांकि इन परिस्थितियों में भी रामवृक्ष का कहना है कि रियल लाइफ और रील लाइफ दोनों चलती हैं। लॉकडाउन में अपने बच्चे की परीक्षा दिलाने आए रामवृक्ष अब मुंबई का रुख नहीं कर पा रहे हैं। परिवार की जिम्मेदारी और मुंबई में फिल्मी काम बंद होने के कारण मजबूर होकर उन्हें सब्जी बेचना पड़ रहा है।

एक इंटरव्यू में रामवृक्ष और उनके परिवार वालों ने अपनी स्थिति बताई परंतु अभी भी आस यही है कि जब सारी स्थितियां सामान्य हो जाएंगी तो हम भी अपने सामान्य जीवन में लौट जाएंगे।

एक इंटरव्यू में रामवृक्ष और उनके परिवार वालों ने अपनी स्थिति बताई परंतु अभी भी आस यही है कि जब सारी स्थितियां सामान्य हो जाएंगी तो हम भी अपने सामान्य जीवन में लौट जाएंगे।

उनकी पत्नी अनिता गौड़ का कहना है की परिस्थितियां खराब हैं तो कोई गम नहीं, आज नहीं तो कल हालात सुधरेंगे।

उनकी पत्नी अनिता गौड़ का कहना है की परिस्थितियां खराब हैं तो कोई गम नहीं, आज नहीं तो कल हालात सुधरेंगे।

वहीं ,उनकी बेटी नेहा भी यह कहती हैं कि जब स्थिति सही हो जाएगी तो हम फिर मुंबई में अपने दोस्तों के साथ स्कूल में पढ़ाई को कर सकेंगे।

वहीं ,उनकी बेटी नेहा भी यह कहती हैं कि जब स्थिति सही हो जाएगी तो हम फिर मुंबई में अपने दोस्तों के साथ स्कूल में पढ़ाई को कर सकेंगे।

25 से ज्यादा टीवी शो और फिल्मों का डायरेक्शन कर चुके रामवृक्ष ने बताया कि लॉकडाउन की वजह से उनकी जिंदगी पूरी तरह से बदल गई है। 

25 से ज्यादा टीवी शो और फिल्मों का डायरेक्शन कर चुके रामवृक्ष ने बताया कि लॉकडाउन की वजह से उनकी जिंदगी पूरी तरह से बदल गई है। 

वे सीरियल बालिका वधू, ज्योति, कुछ तो लोग कहेंगे, सुजाता जैसे सुपरहिट सीरियल का निर्देशन कर चुके हैं। वे पिछले 22 साल से इसी फील्ड में हैं।

वे सीरियल बालिका वधू, ज्योति, कुछ तो लोग कहेंगे, सुजाता जैसे सुपरहिट सीरियल का निर्देशन कर चुके हैं। वे पिछले 22 साल से इसी फील्ड में हैं।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios