Asianet News Hindi

एक चिंता पूरे परिवार को मौत तक ले गई, बाप-बेटे फंदे से लटके मिले, मां और जवान 2 बेटियां जली मिलीं

First Published Mar 7, 2021, 12:40 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

भिलाई (chhattisgarh).छत्तीसगढ़ के भिलाई से एक ऐसी दिल को झकझोर देने वाली घटना सामने आई है, जिसको जानकर हर कोई हैरान रह गया। यहां एक पूरा परिवार अपनी जिंदगी से इतना दुखी हो गया है कि उसे आत्महत्या करने के अलावा और कुछ नहीं दिखा। परिवार के 5 सदस्यों में से पिता-पुत्र के शव घर में ही लटके मिले, जबकि पत्नी और दो बेटियों की लाश मकान से 50 मीटर की दूरी पर पर जली मिलीं। इस घटना के बाद से पूरे इलाके में सनसनी मच गई।

होश उड़ा देने वाली यह घटना पाटन पाटन थाना क्षेत्र के बठेना गांव की है। जहां घर के मुखिया राम बृज गायकवाड़ ने अपने बेटे संजू (24), पत्नी जानकी बाई (47), बेटी दुर्गा (28) और ज्योति (21) आत्महत्या की। पुलिस को घटनास्थल पर एक सुसाइड नोट भी मिला है। मामले की जानकारी मिलते ही जिले के आला अफसर मौके पर पहुंचकर चांच शुरू करने के आदेश दे दिए हैं। दुर्ग रेंज के आइजी विवेकानंद सिन्हा ने कहा कि मामले की छानबीन की जा रही है और पता लगाया जा रहा है कि आखिर सामूहिक आत्महत्या के पीछे की वजह क्या है।

होश उड़ा देने वाली यह घटना पाटन पाटन थाना क्षेत्र के बठेना गांव की है। जहां घर के मुखिया राम बृज गायकवाड़ ने अपने बेटे संजू (24), पत्नी जानकी बाई (47), बेटी दुर्गा (28) और ज्योति (21) आत्महत्या की। पुलिस को घटनास्थल पर एक सुसाइड नोट भी मिला है। मामले की जानकारी मिलते ही जिले के आला अफसर मौके पर पहुंचकर चांच शुरू करने के आदेश दे दिए हैं। दुर्ग रेंज के आइजी विवेकानंद सिन्हा ने कहा कि मामले की छानबीन की जा रही है और पता लगाया जा रहा है कि आखिर सामूहिक आत्महत्या के पीछे की वजह क्या है।


सुसाइड नोट के मताबिक, शरूआती जांच में सामने आया है कि मृतक रामबृज गायकवाड़ का परिवार लंबे समय से कर्ज और आर्थिक तंगी से जूझ रहा था। जिसके चलते उन्होंने अपनी ग्यारह एकड़ जमीन भी बेच दी थी। लेकिन इसके बाद भी उनका कर्ज नहीं उतरा। जब समस्या ज्यादा बढ़ गई तो  रामबृज ने परिवार के साथ खुद को खत्म करने का फैसला कर लिया।
 


सुसाइड नोट के मताबिक, शरूआती जांच में सामने आया है कि मृतक रामबृज गायकवाड़ का परिवार लंबे समय से कर्ज और आर्थिक तंगी से जूझ रहा था। जिसके चलते उन्होंने अपनी ग्यारह एकड़ जमीन भी बेच दी थी। लेकिन इसके बाद भी उनका कर्ज नहीं उतरा। जब समस्या ज्यादा बढ़ गई तो  रामबृज ने परिवार के साथ खुद को खत्म करने का फैसला कर लिया।
 


 सुसाइड नोट के मुताबिक कुछ लोग परिवार पर कर्ज लौटाने के लिए लगातार दबाव बना रहे थे। जिसमें लिखा था कि उनपर करीब 18 से 20 लाख का कर्ज था। रामबृज गायकवाड़ ने खत की आखिरी लाइन में सबसे माफी मांगते हुए लिखा कि ''हम लोगों का इस दुनिया से जाने का वक्त आ गया है। परिवार के लिए कहा कि आप लोग हमेशा खुश रहना। जिसको मुझे जितना पैसा देना है वह मेरी बाकी की बची हुई संपत्ति बेचकर उसे दे देना।''
 


 सुसाइड नोट के मुताबिक कुछ लोग परिवार पर कर्ज लौटाने के लिए लगातार दबाव बना रहे थे। जिसमें लिखा था कि उनपर करीब 18 से 20 लाख का कर्ज था। रामबृज गायकवाड़ ने खत की आखिरी लाइन में सबसे माफी मांगते हुए लिखा कि ''हम लोगों का इस दुनिया से जाने का वक्त आ गया है। परिवार के लिए कहा कि आप लोग हमेशा खुश रहना। जिसको मुझे जितना पैसा देना है वह मेरी बाकी की बची हुई संपत्ति बेचकर उसे दे देना।''
 


आइजी विवेकानंद सिन्हा ने बताया कि इस घटना की सबसे पहले जानकारी किसान रामबृज गायकवाड़ के छोटे भाई के हवाले से पता चली। क्योंकि उसने अपने बड़े भाई को  फोन पर संपर्क करने का प्रयास किया तो मोबाइल फोन स्विच ऑफ आया। जिसके बाद भाई ने पड़ोस के लोगों को घर जाकर पता लगाने को कहा। गांव के लोगों ने जब राम बृज के घर जाकर देखा तो वह चीखने लगा और कई लोग वहां जमा हो गए। जिसके बाद देखा कि घर में दोनों पिता-पुत्र फांसी के फंदे पर लटके हुए थे। वहीं पास में  राम बृज की पत्नी और दोनों बेटियों के शव जली हुई अवस्था में मिलीं।
 


आइजी विवेकानंद सिन्हा ने बताया कि इस घटना की सबसे पहले जानकारी किसान रामबृज गायकवाड़ के छोटे भाई के हवाले से पता चली। क्योंकि उसने अपने बड़े भाई को  फोन पर संपर्क करने का प्रयास किया तो मोबाइल फोन स्विच ऑफ आया। जिसके बाद भाई ने पड़ोस के लोगों को घर जाकर पता लगाने को कहा। गांव के लोगों ने जब राम बृज के घर जाकर देखा तो वह चीखने लगा और कई लोग वहां जमा हो गए। जिसके बाद देखा कि घर में दोनों पिता-पुत्र फांसी के फंदे पर लटके हुए थे। वहीं पास में  राम बृज की पत्नी और दोनों बेटियों के शव जली हुई अवस्था में मिलीं।
 


पुलिस ने घटनास्थल से जो सुसाइड नोट बरामद किया है, उसमें मौत के लिए किसी और जिम्मेदार नहीं बताया है। फिलहाल पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और जांच शुरू कर दी है। घटना की जानकारी मिलने के बाद इस मामले की जांच के लिए एक अलग से टीम बनाने का निर्देश भी राज्य गृह मंत्रालय की ओर से दिया गया है।


पुलिस ने घटनास्थल से जो सुसाइड नोट बरामद किया है, उसमें मौत के लिए किसी और जिम्मेदार नहीं बताया है। फिलहाल पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और जांच शुरू कर दी है। घटना की जानकारी मिलने के बाद इस मामले की जांच के लिए एक अलग से टीम बनाने का निर्देश भी राज्य गृह मंत्रालय की ओर से दिया गया है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios