Asianet News Hindi

जब 3 ओवर में इस क्रिकेटर ने जड़ दिया था शतक, तूफानी पारी देख खुद खिलाड़ी था हैरान

First Published Feb 25, 2021, 8:02 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

स्पोर्ट्स डेस्क : क्रिकेट की दुनिया में आए दिन कोई न कोई रिकॉर्ड बनते और टूटते हैं। आज हम जिस खिलाड़ी की बात करने जा रहे हैं, उनके रिकॉर्ड्स देखकर आप दंग रह जाएंगे। 3 ओवर तक तो बैट्समैन सेट ही हो पाता है, लेकिन इस खिलाड़ी ने 3 ओवर में अपना शतक जड़ दिया था। जी हां, ये कारनामा करके दिखाया था ऑस्ट्रेलिया के सर डॉन ब्रैडमैन (Don Bradman) ने, जिन्हें आज भी क्रिकेट की दुनिया का सबसे टॉप बल्लेबाज माना जाता है। लेकिन 25 फरवरी का दिन उनके चाहने वालों के लिए बहुद दुखद था, क्योंकि आज के दिन वो हम सबको छोड़कर चले गए थे। तो चलिए आज हम आपको बताते हैं, सर डॉन के कुछ बेहतरीन रिकॉर्ड्स, जिनमें से आजतक 1 रिकॉर्ड कोई भी खिलाड़ी नहीं तो पाया है।

कहते है इंसान चला जाता है, लेकिन उनके किये गए काम हमेशा याद किए जाते हैं। 92 साल की उम्र में दुनिया छोड़कर गए इस खिलाड़ी के आंकडे भी कुछ ऐसे है, कि आज भी लोग उन्हें याद करने से पहले उनके नाम के आगे सर लगाते हैं।

कहते है इंसान चला जाता है, लेकिन उनके किये गए काम हमेशा याद किए जाते हैं। 92 साल की उम्र में दुनिया छोड़कर गए इस खिलाड़ी के आंकडे भी कुछ ऐसे है, कि आज भी लोग उन्हें याद करने से पहले उनके नाम के आगे सर लगाते हैं।

जी हां हम बात कर रहे हैं, ऑस्ट्रेलिया के बेहतरीन बल्लेबाज सर डोनाल्ड ब्रैडमैन की। जिनका जन्म 27 अगस्त 1908 को ऑस्ट्रेलिया के न्यू साउथ वेल्स में हुआ था। लेकिन आज के दिन 25 फरवरी 2001 में वह दुनिया छोड़कर चले गए थे।

जी हां हम बात कर रहे हैं, ऑस्ट्रेलिया के बेहतरीन बल्लेबाज सर डोनाल्ड ब्रैडमैन की। जिनका जन्म 27 अगस्त 1908 को ऑस्ट्रेलिया के न्यू साउथ वेल्स में हुआ था। लेकिन आज के दिन 25 फरवरी 2001 में वह दुनिया छोड़कर चले गए थे।

वो भले ही दुनिया छोड़कर चले गए हो, लेकिन उनके रिकॉर्ड आज भी कायम है। सर डोनाल्ड ब्रैडमैन ने अपना टेस्ट करियर 30 नवंबर 1928 को इंग्लैंड में खिलाफ शुरू किया था। लेकिन ब्रैडमैन के टेस्ट करियर का आगाज निराशाजनक था उन्होंने पहली पारी में 18 और दूसरी पारी में केवल 1 रन बनाया था और इंग्लैंड ने यह टेस्ट मैच 675 रन से जीता था।

वो भले ही दुनिया छोड़कर चले गए हो, लेकिन उनके रिकॉर्ड आज भी कायम है। सर डोनाल्ड ब्रैडमैन ने अपना टेस्ट करियर 30 नवंबर 1928 को इंग्लैंड में खिलाफ शुरू किया था। लेकिन ब्रैडमैन के टेस्ट करियर का आगाज निराशाजनक था उन्होंने पहली पारी में 18 और दूसरी पारी में केवल 1 रन बनाया था और इंग्लैंड ने यह टेस्ट मैच 675 रन से जीता था।

हालांकि 2 नवंबर 1931 को उन्होंने वो कारनामा करके दिखाया, जो बड़े से बड़ा क्रिकेटर नहीं कर पाता है। दरअसल, उस समय ब्लैकलीथ XI और लीथगो XI के बीच फर्स्ट क्लास क्रिकेट मैच हो रहा था और सर डॉन ब्रैडमैन ओपनिंग करने उतरे। 

हालांकि 2 नवंबर 1931 को उन्होंने वो कारनामा करके दिखाया, जो बड़े से बड़ा क्रिकेटर नहीं कर पाता है। दरअसल, उस समय ब्लैकलीथ XI और लीथगो XI के बीच फर्स्ट क्लास क्रिकेट मैच हो रहा था और सर डॉन ब्रैडमैन ओपनिंग करने उतरे। 

क्रीज पर मौजूद डॉन ब्रैडमैन ने पहली ही बॉल पर छक्का जड़ दिया। उसके बाद उन्होंने महज 3 ओवर में ही शतक जड़ दिया। बता दें कि उस दौर में एक ओवर में 8 बॉल डाली जाती थी। उन्होंने अपना शतक पूरा करने के लिए 10 छक्के और 9 चौके लगाए थे। उस मैच में डॉन ब्रैडमैन ने कुल 256 रन बनाए थे, जिसमें 4 छक्के और 29 चौके शामिल है।

क्रीज पर मौजूद डॉन ब्रैडमैन ने पहली ही बॉल पर छक्का जड़ दिया। उसके बाद उन्होंने महज 3 ओवर में ही शतक जड़ दिया। बता दें कि उस दौर में एक ओवर में 8 बॉल डाली जाती थी। उन्होंने अपना शतक पूरा करने के लिए 10 छक्के और 9 चौके लगाए थे। उस मैच में डॉन ब्रैडमैन ने कुल 256 रन बनाए थे, जिसमें 4 छक्के और 29 चौके शामिल है।

टेस्ट क्रिकेट में अमूमन खिलाड़ी धीमी गति से बल्लेबाजी करते है, लेकिन सर डॉन ब्रैडमैन जिस स्पीड में रन बनाते थे, उनका रिकॉर्ड आज तक कोई नहीं तोड़ पाआ है। टेस्ट मैचों में उनका एवरेज 99.94 का था, जो आज तक एक रिकॉर्ड ही है।

टेस्ट क्रिकेट में अमूमन खिलाड़ी धीमी गति से बल्लेबाजी करते है, लेकिन सर डॉन ब्रैडमैन जिस स्पीड में रन बनाते थे, उनका रिकॉर्ड आज तक कोई नहीं तोड़ पाआ है। टेस्ट मैचों में उनका एवरेज 99.94 का था, जो आज तक एक रिकॉर्ड ही है।

बता दें कि ब्रैडमैन ने अपने करियर का आखिरी टेस्ट मैच 14 अगस्त 1948 को इंग्लैंड के खिलाफ ही खेला था। इस टेस्ट की पहली पारी में ब्रैडमैन जीरो पर आउट हो गये थे इसलिए उनका औसत 100 ना होकर 99.94 ही रह गया था। 

बता दें कि ब्रैडमैन ने अपने करियर का आखिरी टेस्ट मैच 14 अगस्त 1948 को इंग्लैंड के खिलाफ ही खेला था। इस टेस्ट की पहली पारी में ब्रैडमैन जीरो पर आउट हो गये थे इसलिए उनका औसत 100 ना होकर 99.94 ही रह गया था। 

सर डॉन ने अपने क्रिकेट करियर में कुल 234 फर्स्ट क्लास और 52 टेस्ट मैच खेले थे। 52 टेस्ट मैच की 80 पारियों में उन्होंने 6,996 और 234 फर्स्ट क्लास मैच की 338 पारियों में 28 हाजर 67 रन बनाए थे, जिसमें 146 सेंचुरी और 82 हाफ-सेंचुरी शामिल है। उन्होंने 38 विकेट भी चटकाए थे।

सर डॉन ने अपने क्रिकेट करियर में कुल 234 फर्स्ट क्लास और 52 टेस्ट मैच खेले थे। 52 टेस्ट मैच की 80 पारियों में उन्होंने 6,996 और 234 फर्स्ट क्लास मैच की 338 पारियों में 28 हाजर 67 रन बनाए थे, जिसमें 146 सेंचुरी और 82 हाफ-सेंचुरी शामिल है। उन्होंने 38 विकेट भी चटकाए थे।

हालांकि वह अपनी जिंदगी में 1 भी वनडे मैच नहीं खेल पाए थे, क्योंकि पहला एक दिवसीय मैच 5 जनवरी 1971 में खेला गया था और डोनाल्ड ब्रैडमैन ने सिर्फ 1928 से 1948 बीच क्रिकेट खेला था। 

हालांकि वह अपनी जिंदगी में 1 भी वनडे मैच नहीं खेल पाए थे, क्योंकि पहला एक दिवसीय मैच 5 जनवरी 1971 में खेला गया था और डोनाल्ड ब्रैडमैन ने सिर्फ 1928 से 1948 बीच क्रिकेट खेला था। 

25 फरवरी 2001 को निमोनिया की वजह से उनका निधन हो गया था। लेकिन उनकी मौत के बाद उनकी महानता को मानते हुए 27 अगस्त 2008 को उनकी जन्मशती पर ऑस्ट्रेलिया में 5 डॉलर की सोने की मुद्राएं और डाक टिकट भी जारी की गई थी। वहीं, 19 नवम्बर 2009 को आईसीसी हाल ऑफ फेम में उन्हें शामिल किया गया था। 

25 फरवरी 2001 को निमोनिया की वजह से उनका निधन हो गया था। लेकिन उनकी मौत के बाद उनकी महानता को मानते हुए 27 अगस्त 2008 को उनकी जन्मशती पर ऑस्ट्रेलिया में 5 डॉलर की सोने की मुद्राएं और डाक टिकट भी जारी की गई थी। वहीं, 19 नवम्बर 2009 को आईसीसी हाल ऑफ फेम में उन्हें शामिल किया गया था। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios