Asianet News Hindi

कोरोना का खौफ: सुहागरात वाली नाइट पति ने बनाई सोशल डिस्टेंसिंग, देना पड़ा पत्नी को मर्द होने का सबूत

First Published Dec 6, 2020, 4:45 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

भोपाल. एक साल  होने के बाद भी कोरोना वायरस ने अभी भी पूरी दुनिया में कोहराम मचाकर रखा है। इस महामारी की वजह से लोगों ने अपनों से दूरी बना ली है। फिलहाल इससे निपटने के लिए कोई वैक्सीन नहीं बनी है। सरकार और प्रशासन की गाइडलाइन है कि सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क ही इसकी एक मात्र दवा है। राजधानी भोपाल में एक दिलचस्प मामला सामने आया है। जहां एक युवक को इस कदर कोरोना फोबिया हुआ कि उसने अपनी नई-नवेली पत्नी से सोशल डिस्टेंसिंग बना ली। लेकिन उसको यह दूरी इतनी महंगी पड़ेगी उसने कभी नहीं सोचा था।
 


दरअसल, अलग तरह का यह मामला भोपाल के लॉ ट्रिब्यूनल (विधिक प्राधिकरण) में सामने आया है। जहां के अधिकारी इस दंपति की काउंसलिंग कर रहे हैं। बता दें कि कुछ दिन पहले भोपाल के रहने वाले एक शख्स की इसी साल शादी हुई थी। लेकिन उसमें कोरोना का खौफ इस तरह से बैठ गया कि वह अपनी पत्नी से दूर रहने लगा। यहां तक कि दूसरे कमरे में सोने लगा। पति की इन्हीं हरकतों और डिस्टेंसिंग की वजह से नई-नवेली पत्नी रूठकर मायके चली गई। 
 


दरअसल, अलग तरह का यह मामला भोपाल के लॉ ट्रिब्यूनल (विधिक प्राधिकरण) में सामने आया है। जहां के अधिकारी इस दंपति की काउंसलिंग कर रहे हैं। बता दें कि कुछ दिन पहले भोपाल के रहने वाले एक शख्स की इसी साल शादी हुई थी। लेकिन उसमें कोरोना का खौफ इस तरह से बैठ गया कि वह अपनी पत्नी से दूर रहने लगा। यहां तक कि दूसरे कमरे में सोने लगा। पति की इन्हीं हरकतों और डिस्टेंसिंग की वजह से नई-नवेली पत्नी रूठकर मायके चली गई। 
 

अब 5 महीने बाद महिला ने भरण-पोषण के लिए प्राधिकरण में दर्ज कराया है। जहां युवक की काउंसलिंग करने पर पता चला कि पति ने अपना दांम्पत्य जीवन को सही तरह से नहीं निभा रहा था। वहीं पति ने बताया कि शादी के बाद ही पत्नी के परिवार वाले पॉजिटिव हो गए थे। पत्नी में भी कोरोना के लक्षण दिखाई देने लगे थे, इसलिए मैंने कुछ दिनों के लिए दूरी बना ली थी।
 

अब 5 महीने बाद महिला ने भरण-पोषण के लिए प्राधिकरण में दर्ज कराया है। जहां युवक की काउंसलिंग करने पर पता चला कि पति ने अपना दांम्पत्य जीवन को सही तरह से नहीं निभा रहा था। वहीं पति ने बताया कि शादी के बाद ही पत्नी के परिवार वाले पॉजिटिव हो गए थे। पत्नी में भी कोरोना के लक्षण दिखाई देने लगे थे, इसलिए मैंने कुछ दिनों के लिए दूरी बना ली थी।
 


बता दें कि दोनों की शादी  29 जून को हुई थी। काउंसलिंग के दौरान महिला ने पति पर आरोप लगाया कि पति शारीरिक संबंध रखने लायक नहीं है। पहली ही रात से उसने मुझसे दूरी बना ली थी। जब अदालत की दवाब पड़ा तो पति को अपना मेडिकल टेस्ट कराना पड़ा और प्रमाण दिखाकर मर्दानगी का सबूत देना पड़ा। 


बता दें कि दोनों की शादी  29 जून को हुई थी। काउंसलिंग के दौरान महिला ने पति पर आरोप लगाया कि पति शारीरिक संबंध रखने लायक नहीं है। पहली ही रात से उसने मुझसे दूरी बना ली थी। जब अदालत की दवाब पड़ा तो पति को अपना मेडिकल टेस्ट कराना पड़ा और प्रमाण दिखाकर मर्दानगी का सबूत देना पड़ा। 


महिला ने कहा कि ऐसा कैसा पति की जिससे  उसने जीवनभर का रिश्ता जोड़ा, वही दूरी बना रहा था। वह मेरे पास तक नहीं आता था, जब किसी ना किसी बाहने से उसको पास बुलाती तो वह दूर चला जाता था। यही बात मैंने अपने माता-पिता को बताई। तो  मायके वालों ने पति से बात करना चाही, लेकिन उसने उनसे भी ठीक से बात नहीं की।
 


महिला ने कहा कि ऐसा कैसा पति की जिससे  उसने जीवनभर का रिश्ता जोड़ा, वही दूरी बना रहा था। वह मेरे पास तक नहीं आता था, जब किसी ना किसी बाहने से उसको पास बुलाती तो वह दूर चला जाता था। यही बात मैंने अपने माता-पिता को बताई। तो  मायके वालों ने पति से बात करना चाही, लेकिन उसने उनसे भी ठीक से बात नहीं की।
 


प्राधिकरण के अधिकारियों ने शुक्रवार को आखिरी काउंसिलंग में दोनों के बीच की गलतफहमी को दूर दिया। दोनों को पति दांम्पत्य संबंध निभाने के लिए समझाया। फिर दोनों साथ रहने के लिए तैयार हुए। इसके बाद पति ने प्राधिकरण के सामने मेडिकल रिपोर्ट रखी, जिसमें वह फिट था। सके बाद महिला अपने पति के साथ ससुराल जाने को तैयार हो गई। 


प्राधिकरण के अधिकारियों ने शुक्रवार को आखिरी काउंसिलंग में दोनों के बीच की गलतफहमी को दूर दिया। दोनों को पति दांम्पत्य संबंध निभाने के लिए समझाया। फिर दोनों साथ रहने के लिए तैयार हुए। इसके बाद पति ने प्राधिकरण के सामने मेडिकल रिपोर्ट रखी, जिसमें वह फिट था। सके बाद महिला अपने पति के साथ ससुराल जाने को तैयार हो गई। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios