Asianet News Hindi

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही यह तस्वीर, जानें आखिर क्या है सड़क पर रखे एक-एक नोट की वजह

First Published Sep 2, 2020, 1:59 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

भंडारा, महाराष्ट्र. इस तस्वीर के देखकर सबको यही लगेगा कि यह कोई मजाक है, लेकिन यह विडंबना है। महाराष्ट्र का भंडारा जिला बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हुआ है। लोगों की खुशियों पर पानी फिर गया है। घरों में पानी भरा हुआ है और लोग बाहर सुरक्षित जगहों पर जिंदगी गुजारने को मजबूर हैं। यह परिवार मजबूरी में नोट लेकर सड़क पर बैठे दिखा। इस परिवार ने ये पैसे अपनी बेटी की शादी के लिए जुटाए हैं। शादी कुछ दिनों बाद है। अचानक बाढ़ ने सारा सामान खराब कर दिया। नोट गीले हो गए। लिहाजा उन्हें सुखाने परिवार को सड़क पर बैठना पड़ा। यह तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है।

यह एक गरीब फैमिली है, जिसने बेटी की शादी के लिए पाई-पाई पैसा इकट्ठा किया है। लेकिन यह पैसा बाढ़ में बह गया। पहले तो यह परिवार खूब रोया, फिर रुपए सड़क पर सूखने रख दिए। जब नोट सूख गए, तब परिवार के चेहरे पर मुस्कान लौटी।

यह एक गरीब फैमिली है, जिसने बेटी की शादी के लिए पाई-पाई पैसा इकट्ठा किया है। लेकिन यह पैसा बाढ़ में बह गया। पहले तो यह परिवार खूब रोया, फिर रुपए सड़क पर सूखने रख दिए। जब नोट सूख गए, तब परिवार के चेहरे पर मुस्कान लौटी।

बता दें कि वैनगंगा नदी में बाढ़ आने से भंडारा में भारी तबाही हुई है। हालांकि अब पानी उतर रहा है, लेकिन वो अपने पीछे बर्बादी के निशान छोड़ता जा रहा है।

बता दें कि वैनगंगा नदी में बाढ़ आने से भंडारा में भारी तबाही हुई है। हालांकि अब पानी उतर रहा है, लेकिन वो अपने पीछे बर्बादी के निशान छोड़ता जा रहा है।

भंडारा के 60 से ज्यादा गांवों में बाढ़ का बुरा असर दिखाई दिया है। भंडारा और गोंदिया में 1994 के बाद ऐसी बाढ़ आई है।
 

भंडारा के 60 से ज्यादा गांवों में बाढ़ का बुरा असर दिखाई दिया है। भंडारा और गोंदिया में 1994 के बाद ऐसी बाढ़ आई है।
 

शहर में ऐसा पहली बार हुआ है, जब लोगों को नावों का सहारा लेना पड़ रहा है।
 

शहर में ऐसा पहली बार हुआ है, जब लोगों को नावों का सहारा लेना पड़ रहा है।
 

लोगों को घर छोड़कर खुले में रहना पड़ रहा है।

लोगों को घर छोड़कर खुले में रहना पड़ रहा है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios