Asianet News Hindi

कोरोना के दूसरी लहर की सबसे डरावनी तस्वीर, श्मशान में नहीं बची जगह, एक चिता पर जलानी पड़ीं 8 लाशें

First Published Apr 7, 2021, 5:03 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp


बीड़. महाराष्ट्र में कोरोना से हालात बिगड़ते जा रहे हैं, जिस रफ्तार से संक्रमण फैला रहा है वह पहले से भी ज्यादा खतरनाक साबित होते दिख रहा है। यहां हर दिन कोरोना के मामले नया रिकॉर्ड बना रहे हैं। शहरों से लेकर गांव तक के हालात खराब हो चुके हैं। एक ऐसी तस्वीर सामने आई ही जो बेहद डरावनी है। जिसे देखकर किसी का भी दिल कांप जाएगा। अब नौबत यहां तक आ गई है कि लोगों का सामूहिक अंतिम संस्कार करना पड़ रहा है। क्योंकि श्मशान घाट में इतनी जगह नहीं बची कि कोई सिंगल डेडबॉडी की चिता जला सके। बीड में ऐसा ही हुआ जब एक ही चिता पर 8 शवों को जलाना पड़ गया।


दरअसल, यह भयावह मंजर बीड जिले की अंबेजोगाई तहसील का है। जहां  8 लोगों ने कोरोना महामारी के चलते दम तोड़ दिया था। जब श्मशान घाट में जगह नहीं बची तो एक साथ 8 चिताओं को आग दी गई। बताी दें कि इन मरने वालों में सिर्फ एक कम उम्र का है, जबकि सभी मृतक 60 साल से ऊपर के हैं।
 


दरअसल, यह भयावह मंजर बीड जिले की अंबेजोगाई तहसील का है। जहां  8 लोगों ने कोरोना महामारी के चलते दम तोड़ दिया था। जब श्मशान घाट में जगह नहीं बची तो एक साथ 8 चिताओं को आग दी गई। बताी दें कि इन मरने वालों में सिर्फ एक कम उम्र का है, जबकि सभी मृतक 60 साल से ऊपर के हैं।
 


जानकारी के मुताबिक, स्थानीय प्रशासन ने कोरोना से मरने वालों का एक ही स्थान पर अंतिम संस्कार करने की अनुमति दी थी। लोगों के विरोध के बाद कोई अन्य वैकल्पिक जगह का इंतज़ाम नहीं किया था। रोज यहां 10 से 15 लोगों की शव आ रहे हैं। ऐसे में मंगलवार को जब ज्यादा शव आ गए तो लोगों को एक साथ अंतिम संस्कार करने पर मजबूर होना पड़ा।


जानकारी के मुताबिक, स्थानीय प्रशासन ने कोरोना से मरने वालों का एक ही स्थान पर अंतिम संस्कार करने की अनुमति दी थी। लोगों के विरोध के बाद कोई अन्य वैकल्पिक जगह का इंतज़ाम नहीं किया था। रोज यहां 10 से 15 लोगों की शव आ रहे हैं। ऐसे में मंगलवार को जब ज्यादा शव आ गए तो लोगों को एक साथ अंतिम संस्कार करने पर मजबूर होना पड़ा।


बता दें कि  जिले में 26 मार्च से लेकर 4 अप्रैल तक लॉकडाउन भी लगाया गया था। बावजूद इसके लापरवाही के चलते कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। श्मशान घाटों पर एक साथ इतनी संख्या में शव आ रहे हैं कि एक चिता के बुझने से पहले ही दूसरी चिताओं को आग लगानी पड़ रही है।


बता दें कि  जिले में 26 मार्च से लेकर 4 अप्रैल तक लॉकडाउन भी लगाया गया था। बावजूद इसके लापरवाही के चलते कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। श्मशान घाटों पर एक साथ इतनी संख्या में शव आ रहे हैं कि एक चिता के बुझने से पहले ही दूसरी चिताओं को आग लगानी पड़ रही है।


बता दें कि मंगलवार के दिन अंबेजोगाई तहसील के स्वाराती अस्पताल में 7 और लोखंडी कोविड केयर अस्पताल में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी।  इस तरह 8 लोगों ने कोरोना महामारी के चलते दम तोड़ दिया था। सभी मृतकों का नगर निगम के तरफ से मांडवा रोड स्थित कब्रिस्तान में एक ही चिता पर अंतिम संस्कार किया गया। 


बता दें कि मंगलवार के दिन अंबेजोगाई तहसील के स्वाराती अस्पताल में 7 और लोखंडी कोविड केयर अस्पताल में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी।  इस तरह 8 लोगों ने कोरोना महामारी के चलते दम तोड़ दिया था। सभी मृतकों का नगर निगम के तरफ से मांडवा रोड स्थित कब्रिस्तान में एक ही चिता पर अंतिम संस्कार किया गया। 


बीड जिले में पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 716 नए मामले सामने आए, अब तक यहां मामलों की कुल संख्या 28,491 हो गई है। वहीं जिले में अब तक 672 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं पॉजिटिविटी रेट इस समय 9.93 प्रतिशत है तो मृत्यु दर 2.35 प्रतिशत बनी हुई है।


बीड जिले में पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 716 नए मामले सामने आए, अब तक यहां मामलों की कुल संख्या 28,491 हो गई है। वहीं जिले में अब तक 672 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं पॉजिटिविटी रेट इस समय 9.93 प्रतिशत है तो मृत्यु दर 2.35 प्रतिशत बनी हुई है।


वहीं महाराष्ट्र जलगांव जिले का हाल तो इससे भी बुरा हो गया है।  भुसावल में मृतकों के अंतिम संस्कार के लिए लकड़ियां कम पड़ गई हैं। क्योंकि तापी नदी के पास मौजूद श्मशान भूमि में हर दिन दस से पंद्रह मृतकों का अंतिम संस्कार किया जा रहा है। लोगों से विनती करने के बाद आस-पास के गांवों से लकड़ियां मंगवाई जा रही हैं। यह संख्या कमने की जगह बढ़ती जा रही है। 


वहीं महाराष्ट्र जलगांव जिले का हाल तो इससे भी बुरा हो गया है।  भुसावल में मृतकों के अंतिम संस्कार के लिए लकड़ियां कम पड़ गई हैं। क्योंकि तापी नदी के पास मौजूद श्मशान भूमि में हर दिन दस से पंद्रह मृतकों का अंतिम संस्कार किया जा रहा है। लोगों से विनती करने के बाद आस-पास के गांवों से लकड़ियां मंगवाई जा रही हैं। यह संख्या कमने की जगह बढ़ती जा रही है। 


कोरोना संक्रमण का नया आंकड़ा 55 हजार के पार पहुंच गया है। यानि 24 घंटे में 55 हजार 469 नए केस सामने आए हैं। सरकार से लेकर जनता में हड़कंप मचा हुआ है। वहीं रिकवरी रेट में घटता जा रहा है। जिसके चलते मरने वालों का आंकड़ा भी बड़ रहा है। सिर्फ एक दिन के अंदर 330 लोगों की मौत हो चुकी है। राज्य में अब तक 31 लाख से ज्यादा लोग इस महामारी की चपेट में आ चुके हैं। वहीं 25.83 लाख ठीक हुए हैं और 56,330 की मौत हुई है। 
 


कोरोना संक्रमण का नया आंकड़ा 55 हजार के पार पहुंच गया है। यानि 24 घंटे में 55 हजार 469 नए केस सामने आए हैं। सरकार से लेकर जनता में हड़कंप मचा हुआ है। वहीं रिकवरी रेट में घटता जा रहा है। जिसके चलते मरने वालों का आंकड़ा भी बड़ रहा है। सिर्फ एक दिन के अंदर 330 लोगों की मौत हो चुकी है। राज्य में अब तक 31 लाख से ज्यादा लोग इस महामारी की चपेट में आ चुके हैं। वहीं 25.83 लाख ठीक हुए हैं और 56,330 की मौत हुई है। 
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios