Asianet News Hindi

ऊंची जाति की लड़की से प्यार करने पर मिली खौफनाक मौत, पहले मुंह पर थूका, फिर दौड़ा-दौड़ाकर मारा

First Published Jun 12, 2020, 12:07 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

पुणे, महाराष्ट्र. एक ऊंची जाति की लड़की से प्रेम करने पर यहां एक दलित लड़के को खौफनाक मौत देने का मामला सामने आया है। ऑनर किलिंग की यह घटना जिले के पिंपरी चिंचवड में 7 जून की रात की है। लेकिन यह मामला मीडिया में अब तेजी से चर्चाओं में आ रहा है। दरअसल, प्रेमी ने मरने से पहले पुलिस को घटनावाले दिन का खौफनाक मंजर बयां किया था। उसने बताया था कि कैसे लड़की के परिजनों ने उसे बेइज्जत किया और फिर हमला किया। लड़के को गंभीर घायल हालत में हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। वहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। 20 साल के युवक विराज जगताप ने पुलिस मरने से पहले बयान दिया कि उसके मुंह पर थूका गया। इससे पहले लड़की के पिता ने ऑटो से उसे टक्कर मारी। इसके बाद 6 लोगों ने घेरकर हमला कर दिया। वो जान बचाने भागता रहा..गिड़गिड़ाता रहा..लेकिन किसी का दिल नहीं पसीजा। घटनावाले दिन वो अपनी बाइक पर था..तभी लड़की के पिता ऑटो से पीछे से टक्कर मार दी थी।

आरोपियों ने विराज को घेरकर उस पर लोहे के रॉड से हमला किया था। इसके बाद उस पर पत्थर पटके गए। पिंपरी चिंचवड पुलिस ने इस मामले में 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। मरने से पहले युवक ने खुद आरोपियों के नाम बताए थे। आरोपियों में से 2 नाबालिग हैं। उन्हें चिल्ड्रेन रिमांड होम में भेज दिया गया है।
 

आरोपियों ने विराज को घेरकर उस पर लोहे के रॉड से हमला किया था। इसके बाद उस पर पत्थर पटके गए। पिंपरी चिंचवड पुलिस ने इस मामले में 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। मरने से पहले युवक ने खुद आरोपियों के नाम बताए थे। आरोपियों में से 2 नाबालिग हैं। उन्हें चिल्ड्रेन रिमांड होम में भेज दिया गया है।
 

मृतक के परिजनों और उसके भाई सागर ने पुलिस को घटना के बारे में विस्तार से बताया। 7 जून की रात करीब 9 बजे लड़की के परिजनों ने विराज को कॉल किया था। वे इस प्रेम संबंध के बारे में पूछताछ करना चाहते थे। विराज उनके बुलाने पर घर चला गया। वहां, लड़की के परिजनों ने विराज की खूब बेइज्जती की। उसे नीची जाति का बताकर अपमानित किया। विराज वहां से चुपचाप निकल आया। लेकिन पीछे से लड़की के परिजन आ गए और विराज की जान ले ली।

मृतक के परिजनों और उसके भाई सागर ने पुलिस को घटना के बारे में विस्तार से बताया। 7 जून की रात करीब 9 बजे लड़की के परिजनों ने विराज को कॉल किया था। वे इस प्रेम संबंध के बारे में पूछताछ करना चाहते थे। विराज उनके बुलाने पर घर चला गया। वहां, लड़की के परिजनों ने विराज की खूब बेइज्जती की। उसे नीची जाति का बताकर अपमानित किया। विराज वहां से चुपचाप निकल आया। लेकिन पीछे से लड़की के परिजन आ गए और विराज की जान ले ली।

एसपी श्रीधर जाधव ने बताया कि जांच में सामने आया है कि जब विराज घायल पड़ा था, तब लड़की के पिता जगदीश काते ने उसके मुंह पर थूक दिया। बताते हैं कि विराज जान बचाने गिड़गिड़ा रहा था, लेकिन आरोपी बार-बार यही कहते रहे कि वो नीची जाति का होकर उनकी बेटी से संबंध कैसे रख सकता है?

एसपी श्रीधर जाधव ने बताया कि जांच में सामने आया है कि जब विराज घायल पड़ा था, तब लड़की के पिता जगदीश काते ने उसके मुंह पर थूक दिया। बताते हैं कि विराज जान बचाने गिड़गिड़ा रहा था, लेकिन आरोपी बार-बार यही कहते रहे कि वो नीची जाति का होकर उनकी बेटी से संबंध कैसे रख सकता है?

विराज ने मरने से पहले पुलिस का बयान दिया था कि प्रेमिका के परिजन उसे मरा समझकर छोड़ गए थे। स्थानीय लोगों ने उसे हॉस्पिटल में भर्ती कराया था।

विराज ने मरने से पहले पुलिस का बयान दिया था कि प्रेमिका के परिजन उसे मरा समझकर छोड़ गए थे। स्थानीय लोगों ने उसे हॉस्पिटल में भर्ती कराया था।

पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ एससी/एसटी एक्ट के तहत भी मामला दर्ज किया है।

पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ एससी/एसटी एक्ट के तहत भी मामला दर्ज किया है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios