Asianet News Hindi

निर्भया के दोषियों का तीसरा डेथ वांरट जारी, जानें फांसी मिलने की कितनी है संभावना

First Published Feb 17, 2020, 4:47 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. निर्भया केस में दिल्ली की पटियाला कोर्ट ने तीसरा डेथ वारंट जारी कर दिया। अब 3 मार्च को सुबह 6 बजे दोषियों को फांसी देने की तारीख तय की गई है। इससे पहले कोर्ट ने 22 जनवरी और 1 फरवरी को फांसी की तारीख तय की थी, हालांकि, कानूनी विकल्पों के बाकी रहने के चलते यह टाल दी गई। उधर, अलग अलग फांसी देने की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में भी मामला चल रहा है। निर्भया के साथ 2012 में दक्षिण दिल्ली में एक चलती बस में 6 लोगों ने रेप किया था। 

निर्भया की मां आशा देवी ने कहा, मैं बहुत खुश नहीं हूं, यह तीसरा डेथ वारंट जारी किया गया है। हम बहुत संघर्ष कर रहे हैं। हालांकि, हमें यह संतुष्टि है कि डेथ वारंट जारी किया गया है। मुझे आशा है कि 3 मार्च को फांसी दी जाएगी।

निर्भया की मां आशा देवी ने कहा, मैं बहुत खुश नहीं हूं, यह तीसरा डेथ वारंट जारी किया गया है। हम बहुत संघर्ष कर रहे हैं। हालांकि, हमें यह संतुष्टि है कि डेथ वारंट जारी किया गया है। मुझे आशा है कि 3 मार्च को फांसी दी जाएगी।

वहीं, दोषियों के वकील एपी सिंह ने एक बार फिर संकेत दिए हैं कि वे कानूनी पेंच फंसा सकते हैं। उन्होंने कहा, वे दोषी विनय की दया याचिका फिर से दाखिल करेंगे। इस पर इसमें नए तथ्य रखे जाएंगे। हालांकि, विनय की दया याचिका पहले ही खारिज हो चुकी है।

वहीं, दोषियों के वकील एपी सिंह ने एक बार फिर संकेत दिए हैं कि वे कानूनी पेंच फंसा सकते हैं। उन्होंने कहा, वे दोषी विनय की दया याचिका फिर से दाखिल करेंगे। इस पर इसमें नए तथ्य रखे जाएंगे। हालांकि, विनय की दया याचिका पहले ही खारिज हो चुकी है।

उधर, निर्भया की मां की वकील सीमा कुशवाहा ने कहा, दोषियों के वकील ने हर तरह से कोर्ट को गुमराह किया है। लेकिन अब कानूनी विकल्प नहीं बचे हैं। ऐसे में सुप्रीम कोर्ट का फैसला भी अहम हो सकता है। हमें उम्मीद है कि इस दिन जरूर फांसी होगी।

उधर, निर्भया की मां की वकील सीमा कुशवाहा ने कहा, दोषियों के वकील ने हर तरह से कोर्ट को गुमराह किया है। लेकिन अब कानूनी विकल्प नहीं बचे हैं। ऐसे में सुप्रीम कोर्ट का फैसला भी अहम हो सकता है। हमें उम्मीद है कि इस दिन जरूर फांसी होगी।

किसके पास क्या हैं विकल्प? मुकेश- कोई विकल्प नहीं। विनय की दया याचिका और क्यूरेटिव पिटीशन खारिज हो चुकी है। अक्षय की क्यूरेटिव और दया याचिका खारिज हो चुकी है। वहीं, पवन के पास अभी क्यूरेटिव और दया याचिका के दोनों विकल्प बचे हैं।

किसके पास क्या हैं विकल्प? मुकेश- कोई विकल्प नहीं। विनय की दया याचिका और क्यूरेटिव पिटीशन खारिज हो चुकी है। अक्षय की क्यूरेटिव और दया याचिका खारिज हो चुकी है। वहीं, पवन के पास अभी क्यूरेटिव और दया याचिका के दोनों विकल्प बचे हैं।

16 दिसंबर, 2012 की रात में 23 साल की निर्भया से दक्षिण दिल्ली में चलती बस में 6 लोगों ने दरिंदगी की थी। साथ ही निर्भया के साथ बस में मौजूद दोस्त के साथ भी मारपीट की गई थी। दोनों को चलती बस से फेंक कर दोषी फरार हो गए थे।

16 दिसंबर, 2012 की रात में 23 साल की निर्भया से दक्षिण दिल्ली में चलती बस में 6 लोगों ने दरिंदगी की थी। साथ ही निर्भया के साथ बस में मौजूद दोस्त के साथ भी मारपीट की गई थी। दोनों को चलती बस से फेंक कर दोषी फरार हो गए थे।

इसके बाद निर्भया का दिल्ली के अस्पताल में इलाज चला था। जहां से उसे सिंगापुर के अस्पताल में इलाज के लिए भेजा गया था। 29 दिसंबर को निर्भया ने सिंगापुर के अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था।

इसके बाद निर्भया का दिल्ली के अस्पताल में इलाज चला था। जहां से उसे सिंगापुर के अस्पताल में इलाज के लिए भेजा गया था। 29 दिसंबर को निर्भया ने सिंगापुर के अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios