भारत में कोरोना के मरीजों के लिए वरदान साबित हो रहीं ये 6 दवाएं, जानिए इनकी कीमत

First Published 15, Jul 2020, 10:47 AM

नई दिल्ली. भारत में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। अब तक 9.36 लाख केस सामने आ चुके हैं। 24315 लोगों की मौत हो चुकी हैं। हर रोज 28-29 हजार नए मामले सामने आ रहे हैं। भारत अमेरिका और ब्राजील के बाद तीसरा सबसे संक्रमित देश है। हालांकि, भारत में बड़ी संख्या में मरीज ठीक हो रहे हैं। अब तक 5.93 लाख लोग ठीक हो चुके हैं। यह एक्टिव केसों की 1.8 गुना है। भारत में कोरोना मरीजों के लिए ये 6 दवाइयां वरदान साबित हो रही हैं। 

<p>दुनियाभर में तमाम देश कोरोना की वैक्सीन बनाने में जुटे हैं। हालांकि, अभी तक किसी को कामयाबी नहीं मिली है। लेकिन भारत में सामान्य लक्षणों वाले मरीजों के लिए बाजार में कई दवाएं उपलब्ध हैं। ये असर भी दिखा रही हैं। अच्छी बात ये है कि डीसीजीए की मंजूरी के बाद कई कंपनियां भारत में कोरोना की दवा भी लॉन्च कर चुकी हैं।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

दुनियाभर में तमाम देश कोरोना की वैक्सीन बनाने में जुटे हैं। हालांकि, अभी तक किसी को कामयाबी नहीं मिली है। लेकिन भारत में सामान्य लक्षणों वाले मरीजों के लिए बाजार में कई दवाएं उपलब्ध हैं। ये असर भी दिखा रही हैं। अच्छी बात ये है कि डीसीजीए की मंजूरी के बाद कई कंपनियां भारत में कोरोना की दवा भी लॉन्च कर चुकी हैं। 
 

<p><strong>1- ग्लेन मार्क फार्मा ने बनाई फेबीफ्लू (Fabiflu)-&nbsp;</strong><br />
भारत में Glenmark Pharmaceuticals ने &nbsp;फेबीफ्लू &nbsp;दवा बनाई है। अच्छी बात ये है कि कंपनी ने मांग को देखते हुए इसके दामों में भी कमी कर दी है। पहले एक गोली 103 रुपए की आ रही थी, अब यह 75 रुपए में मिल रही है। इस दवा का इस्तेमाल कोरोना के माइल्ड एंड मॉडरेट मरीजों के इलाज में किया जा रहा है।&nbsp;</p>

1- ग्लेन मार्क फार्मा ने बनाई फेबीफ्लू (Fabiflu)- 
भारत में Glenmark Pharmaceuticals ने  फेबीफ्लू  दवा बनाई है। अच्छी बात ये है कि कंपनी ने मांग को देखते हुए इसके दामों में भी कमी कर दी है। पहले एक गोली 103 रुपए की आ रही थी, अब यह 75 रुपए में मिल रही है। इस दवा का इस्तेमाल कोरोना के माइल्ड एंड मॉडरेट मरीजों के इलाज में किया जा रहा है। 

<p><strong>2- बायोकॉन- दुनिया भर में मिली मंजूरी-&nbsp;</strong><br />
बायोकॉन की दवा Itolizumab को भी कोरोना के इलाज में इस्तेमाल की मंजूरी मिली है। कंपनी का कहना है कि यह पहली दवा है, जिसे दुनियाभर में कोरोना के इलाज के लिए इस्तेमाल की मंजूरी मिली है। Itolizumab के एक इंजेक्शन की कीमत 8 हजार रुपए है। कोरोना के मॉडरेट टू सीवियर मरीजों के इलाज के लिए इसके चार डोज दिए जाते हैं। इनकी कुल कीमत 32 हजार रुपए होती है।&nbsp;</p>

2- बायोकॉन- दुनिया भर में मिली मंजूरी- 
बायोकॉन की दवा Itolizumab को भी कोरोना के इलाज में इस्तेमाल की मंजूरी मिली है। कंपनी का कहना है कि यह पहली दवा है, जिसे दुनियाभर में कोरोना के इलाज के लिए इस्तेमाल की मंजूरी मिली है। Itolizumab के एक इंजेक्शन की कीमत 8 हजार रुपए है। कोरोना के मॉडरेट टू सीवियर मरीजों के इलाज के लिए इसके चार डोज दिए जाते हैं। इनकी कुल कीमत 32 हजार रुपए होती है। 

<p><strong>3- Cipla ने बनाई Cipremi-&nbsp;</strong><br />
पिछले महीने Cipla ने रेमडेसिवीर का जेनरिक वर्जन Cipremi लॉन्च की थी। इस दवा को डीसीजीए ने भी मंजूरी दे दी है। इस दवा का इस्तेमाल इमरजेंसी यानी गंभीर स्थिति में किया जा रहा है। यह एक इंजेक्शन है। इसकी कीमत करीब 4000 रुपए है।&nbsp;</p>

3- Cipla ने बनाई Cipremi- 
पिछले महीने Cipla ने रेमडेसिवीर का जेनरिक वर्जन Cipremi लॉन्च की थी। इस दवा को डीसीजीए ने भी मंजूरी दे दी है। इस दवा का इस्तेमाल इमरजेंसी यानी गंभीर स्थिति में किया जा रहा है। यह एक इंजेक्शन है। इसकी कीमत करीब 4000 रुपए है। 

<p><strong>4- Tocilizumab - सबसे महंगी दवा-</strong><br />
इस कंपनी का निर्माण स्विटजरलैंड की कंपनी Roche Pharma करती है। भारत में इसकी मार्केटिंग Cipla करती है। इस दवा की जबर्दस्त डिमांड है। मुंबई में हाईरिस्क मरीजों पर इसका इस्तेमाल किया जा रहा है। इसके परिणाम काफी सकारात्मक मिले हैं। यही वजह है कि इसकी मांग काफी बढ़ गई है। यह दवा ब्लैक में 45 हजार से 1 लाख तक में बेची जा रही है।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

4- Tocilizumab - सबसे महंगी दवा-
इस कंपनी का निर्माण स्विटजरलैंड की कंपनी Roche Pharma करती है। भारत में इसकी मार्केटिंग Cipla करती है। इस दवा की जबर्दस्त डिमांड है। मुंबई में हाईरिस्क मरीजों पर इसका इस्तेमाल किया जा रहा है। इसके परिणाम काफी सकारात्मक मिले हैं। यही वजह है कि इसकी मांग काफी बढ़ गई है। यह दवा ब्लैक में 45 हजार से 1 लाख तक में बेची जा रही है। 
 

<p><strong>5- Covifor - रेमडेसिवीर का जेनरिक वर्जन-&nbsp;</strong><br />
Hetero Pharma ने भी रेमडेसिवीर का जेनरिक वर्जन लॉन्च किया है। इस इंजेक्शन की कीमत 5400 रुपए है। इसका इस्तेमाल केवल अस्पताल में भर्ती मरीजों पर किया जा रहा है। इस दवा के मरीज को 6 इंजेक्शन दिए जाते हैं। कुल इलाज का खर्च 33 हजार रुपए तक आता है।&nbsp;</p>

5- Covifor - रेमडेसिवीर का जेनरिक वर्जन- 
Hetero Pharma ने भी रेमडेसिवीर का जेनरिक वर्जन लॉन्च किया है। इस इंजेक्शन की कीमत 5400 रुपए है। इसका इस्तेमाल केवल अस्पताल में भर्ती मरीजों पर किया जा रहा है। इस दवा के मरीज को 6 इंजेक्शन दिए जाते हैं। कुल इलाज का खर्च 33 हजार रुपए तक आता है। 

<p><strong>6- Mylan भी जल्द लॉन्च करेगी Desrem-</strong><br />
Mylan NV ने हाल ही में ऐलान किया है कि वह रेमडेसिवीर का जेनरिक वर्जन लॉन्च करेगी। कंपनी ने इसके लिए गिलीड साइंसेज से करार किया है। दवा को डीसीजीआई से मंजूरी भी मिल गई है। इस दवा का इस्तेमाल इमरजेंसी में किया जाएगा। इसकी कीमत 4800 रुपए होगी।&nbsp;</p>

6- Mylan भी जल्द लॉन्च करेगी Desrem-
Mylan NV ने हाल ही में ऐलान किया है कि वह रेमडेसिवीर का जेनरिक वर्जन लॉन्च करेगी। कंपनी ने इसके लिए गिलीड साइंसेज से करार किया है। दवा को डीसीजीआई से मंजूरी भी मिल गई है। इस दवा का इस्तेमाल इमरजेंसी में किया जाएगा। इसकी कीमत 4800 रुपए होगी। 

loader