IRCTC वेबसाइट हैंग, 6 बजे से शुरू हुई बुकिंग, यात्रा में नहीं मिलेगा कंबल, करना होगा इन नियमों का पालन

First Published 11, May 2020, 7:42 AM

नई दिल्ली. देश में जारी कोरोना वायरस संकट और लॉकडाउन के बीच रेल मंत्रालय ने 12 मई से यात्री ट्रेन की सेवा शुरू करने का निर्णय लिया है। जिसके लिए आज यानी 11 मई शाम 4 बजे से बुकिंग शुरू हो गई। टिकटों की बुकिंग शुरू होते ही  IRCTC की वेबसाइट हैंग हो गई। जिसके बाद टिकट की बुकिंग शाम 6 बजे शुरू की जाएगी। वहीं, रेलवे ने यात्रियों के लिए दिशा-निर्देश भी जारी किए हैं। इस दौरान रेलवे ने साफ कर दिया है कि यात्रियों को ट्रेन में खाना खुद लेकर जाना होगा। साथ ही डेस्टिनेशन पर पहुंचने पर यात्रियों को राज्य सरकार द्वारा बनाए गए हेल्थ प्रोटोकॉल को मानना होगा। इसके अलावा रेलवे ट्रेन में यात्रियों को कंबल नहीं देगा। साथ ही रेलवे ने कहा है कि यात्रा से 24 घंटे पहले टिकट कैंसिल करा सकेंगे और यात्रा से 7 दिन पहले टिकट बुकिंग होगी।

<p style="text-align: justify;"><strong>दिल्ली से यहां के लिए चलेंगी ट्रेनें</strong><br />
ट्रेनों की शुरुआत सबसे पहले नई दिल्ली से होगी। नई दिल्ली से स्पेशल ट्रेन डिब्रूगढ़, अगरतला, हावड़ा, पटना, बिलासपुर, रांची, भुवनेश्वर, सिकंदराबाद, बेंगलुरु, चेन्नई, तिरुवनंतपुरम, मड़गांव, मुबंई सेंट्रल, अहमदाबाद और जम्मू तवी के लिए चलेंगी। </p>

दिल्ली से यहां के लिए चलेंगी ट्रेनें
ट्रेनों की शुरुआत सबसे पहले नई दिल्ली से होगी। नई दिल्ली से स्पेशल ट्रेन डिब्रूगढ़, अगरतला, हावड़ा, पटना, बिलासपुर, रांची, भुवनेश्वर, सिकंदराबाद, बेंगलुरु, चेन्नई, तिरुवनंतपुरम, मड़गांव, मुबंई सेंट्रल, अहमदाबाद और जम्मू तवी के लिए चलेंगी। 

<p style="text-align: justify;"><strong>11 मई से ऑनलाइन रिजर्व कराएं टिकट</strong><br />
इन ट्रेनों के लिए रिजर्वेशन शाम 4 बजे से शुरु किया गया। ट्रेन टिकट केवल आईआरसीटीसी की वेबसाइट www.irctc.co.in पर उपलब्ध होंगे। रेलवे स्टेशन पर टिकट बुकिंग काउंटर बंद रखे जाएंगे। टिकट काउंटर से कोई भी टिकट नहीं जारी किया जाएगा। मतलब साफ है कि यात्री सिर्फ ऑनलाइन ही टिकट खरीद सकते हैं। </p>

11 मई से ऑनलाइन रिजर्व कराएं टिकट
इन ट्रेनों के लिए रिजर्वेशन शाम 4 बजे से शुरु किया गया। ट्रेन टिकट केवल आईआरसीटीसी की वेबसाइट www.irctc.co.in पर उपलब्ध होंगे। रेलवे स्टेशन पर टिकट बुकिंग काउंटर बंद रखे जाएंगे। टिकट काउंटर से कोई भी टिकट नहीं जारी किया जाएगा। मतलब साफ है कि यात्री सिर्फ ऑनलाइन ही टिकट खरीद सकते हैं। 

<p style="text-align: justify;"><strong>सिर्फ एसी कोच ही होंगे</strong><br />
रेलवे द्वारा चलाई जा रही स्पेशल ट्रेनों में सिर्फ एसी कोच होंगे। इनमें अन्य कोई दूसरे कोच नहीं होंगे। इसके अलावा रेलवे ने साफ कर दिया है कि मजदूरों के लिए चलाई जाने वालीं श्रमिक ट्रेनें चलती रहेंगी। अभी रेलवे हर रोज करीब 300 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चला रहा है।</p>

सिर्फ एसी कोच ही होंगे
रेलवे द्वारा चलाई जा रही स्पेशल ट्रेनों में सिर्फ एसी कोच होंगे। इनमें अन्य कोई दूसरे कोच नहीं होंगे। इसके अलावा रेलवे ने साफ कर दिया है कि मजदूरों के लिए चलाई जाने वालीं श्रमिक ट्रेनें चलती रहेंगी। अभी रेलवे हर रोज करीब 300 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चला रहा है।

<p style="text-align: justify;"><strong>अलग शेड्यूल होगा जारी </strong><br />
रेलवे 12 मई से पैसेंजर ट्रेन की सेवा शुरू कर रहा है। हालांकि इस दौरान सभी ट्रेनें नहीं चलेंगी। शुरू में 15 जोड़ी ट्रेनें चलाने की योजना है। बाद में इसे और बढ़ाने की तैयारी है। ये सभी ट्रेन स्पेशल ट्रेन होंगी जिन्हें नई दिल्ली से देश के अलग-अलग 15 हिस्सों में भेजा जाएगा। बताया जा रहा है कि रेलवे ट्रेनों का शेड्यूल तय करेगा। </p>

अलग शेड्यूल होगा जारी 
रेलवे 12 मई से पैसेंजर ट्रेन की सेवा शुरू कर रहा है। हालांकि इस दौरान सभी ट्रेनें नहीं चलेंगी। शुरू में 15 जोड़ी ट्रेनें चलाने की योजना है। बाद में इसे और बढ़ाने की तैयारी है। ये सभी ट्रेन स्पेशल ट्रेन होंगी जिन्हें नई दिल्ली से देश के अलग-अलग 15 हिस्सों में भेजा जाएगा। बताया जा रहा है कि रेलवे ट्रेनों का शेड्यूल तय करेगा। 

<p style="text-align: justify;"><strong>स्पेशल रूट पर भी चलाई जाएंगी ट्रेनें</strong><br />
भारतीय रेलवे नए रूट पर भी स्पेशल ट्रेन चलाने की तैयारी कर रहा है। फिलहाल 20,000 कोच कोविड-19 केयर सेंटर के तौर पर बनाई गई हैं। लॉकडाउन में फंसे प्रवासी मजदूरों की वापसी के लिए 300 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें पहले से ही चलाई जा रही हैं। </p>

स्पेशल रूट पर भी चलाई जाएंगी ट्रेनें
भारतीय रेलवे नए रूट पर भी स्पेशल ट्रेन चलाने की तैयारी कर रहा है। फिलहाल 20,000 कोच कोविड-19 केयर सेंटर के तौर पर बनाई गई हैं। लॉकडाउन में फंसे प्रवासी मजदूरों की वापसी के लिए 300 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें पहले से ही चलाई जा रही हैं। 

<p style="text-align: justify;"><strong>फ्लू के लक्षण दिखे तो नहीं मिलेगी एंट्री</strong><br />
केवल उन्हीं यात्रियों को ट्रेन में चढ़ने की इजाजत दी जाएगी जिनका टिकट कन्फर्म है। रेलवे स्टेशन के भीतर भी केवल ऐसे ही यात्रियों को आने की अनुमति दी जाएगी। हर यात्री के लिए डिपार्चर पर जाने से पहले चेहरे को ढकना अनिवार्य होगा। ऐसे ही यात्रियों को कोच में जाने की इजाजत मिलेगी जिनमें फ्लू के कोई लक्षण न दिखें। </p>

फ्लू के लक्षण दिखे तो नहीं मिलेगी एंट्री
केवल उन्हीं यात्रियों को ट्रेन में चढ़ने की इजाजत दी जाएगी जिनका टिकट कन्फर्म है। रेलवे स्टेशन के भीतर भी केवल ऐसे ही यात्रियों को आने की अनुमति दी जाएगी। हर यात्री के लिए डिपार्चर पर जाने से पहले चेहरे को ढकना अनिवार्य होगा। ऐसे ही यात्रियों को कोच में जाने की इजाजत मिलेगी जिनमें फ्लू के कोई लक्षण न दिखें। 

<p style="text-align: justify;"><strong>25 मई से बंद है ट्रेनों का संचालन </strong><br />
भारत में कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए 25 मार्च को लॉकडाउन लगाया गया था। जिसके बाद से ही यात्री ट्रेनों का संचालन बंद है। हालांकि रेलवे समय-समय पर जरूरी सेवाओं के लिए ट्रेनों का संचालन करता रहा है। इसके साथ ही रेलवे ने लॉकडाउन में सिर्फ पार्सल ट्रेनों को संचालन की अनुमति दी थी। </p>

25 मई से बंद है ट्रेनों का संचालन 
भारत में कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए 25 मार्च को लॉकडाउन लगाया गया था। जिसके बाद से ही यात्री ट्रेनों का संचालन बंद है। हालांकि रेलवे समय-समय पर जरूरी सेवाओं के लिए ट्रेनों का संचालन करता रहा है। इसके साथ ही रेलवे ने लॉकडाउन में सिर्फ पार्सल ट्रेनों को संचालन की अनुमति दी थी। 

loader