Asianet News Hindi

पूरा परिवार हुआ आइसोलेट, घर में अकेला रह गया डॉग, मेनका गांधी को लगी खबर, अब खूब हो रही खातिरदारी

First Published Apr 18, 2020, 11:18 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

पटियाला, पंजाब. कोरोना संक्रमण ने क्या इंसान और क्या जानवर, सबके जीवन पर संकट खड़ा कर दिया है। बाजार बंद होने से स्ट्रीट डॉग्स को खाने के लाले पड़े हुए हैं। यह मामला एक पालतू डॉग का है। इसके मालिक का पूरा परिवार आइसोलेशन में है। घर में अकेला डॉग रह गया। डॉगी की फिक्र में मालिक ने एनिमल्स के लिए काम करने वाली एक संस्था से संपर्क किया। बात सांसद मेनका गांधी तक पहुंची। अब नगर निगम डॉग की देखभाल कर रहा है।
 

 पटियाला के सफाबादी गेट के पास रहने वाले एक जूता कारोबारी कोरोना पॉजिटिव निकले थे। इसके बाद उन्हें पूरे परिवार सहित राजिंदरा अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में शिफ्ट किया गया था। घर में अकेला डॉग रह गया था। भूखा-प्यासा बंधा डॉग चिढ़चिढ़ा होने लगा था। इसकी सूचना कंपेशन फॉर एनीमल्स संस्था और एनीमल राइट्स एक्टिविस्ट प्राप्ति बजाज को मिली। उन्होंने पुलिस और नगर निगम प्रशासन को इसकी जानकार दी। लेकिन किसी ने कोई मदद नहीं की। इसके बाद बजाज ने डॉग के मालिक से बात करके सीधे सांसद मेनका गांधी से संपर्क किया। मेनका गांधी ने प्रशासन को कॉल किया। अब नगर निगम डॉग की देखभाल के लिए आगे आया है। वो उसे नहलाने, खाना खिलाने की जिम्मेदारी निभा रहा है। डॉग को सैनिटाइज करके घर में ही आइसोलेशन में रखा गया है।

 पटियाला के सफाबादी गेट के पास रहने वाले एक जूता कारोबारी कोरोना पॉजिटिव निकले थे। इसके बाद उन्हें पूरे परिवार सहित राजिंदरा अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में शिफ्ट किया गया था। घर में अकेला डॉग रह गया था। भूखा-प्यासा बंधा डॉग चिढ़चिढ़ा होने लगा था। इसकी सूचना कंपेशन फॉर एनीमल्स संस्था और एनीमल राइट्स एक्टिविस्ट प्राप्ति बजाज को मिली। उन्होंने पुलिस और नगर निगम प्रशासन को इसकी जानकार दी। लेकिन किसी ने कोई मदद नहीं की। इसके बाद बजाज ने डॉग के मालिक से बात करके सीधे सांसद मेनका गांधी से संपर्क किया। मेनका गांधी ने प्रशासन को कॉल किया। अब नगर निगम डॉग की देखभाल के लिए आगे आया है। वो उसे नहलाने, खाना खिलाने की जिम्मेदारी निभा रहा है। डॉग को सैनिटाइज करके घर में ही आइसोलेशन में रखा गया है।

हालांकि स्ट्रीट डॉग्स की मदद के लिए स्थानीय लोग आगे आए हैं। डॉग्स को खाना खिलाती एक बच्ची

हालांकि स्ट्रीट डॉग्स की मदद के लिए स्थानीय लोग आगे आए हैं। डॉग्स को खाना खिलाती एक बच्ची

गरीब लोग भी अपने आसपास रहने वाले स्ट्रीट डॉग्स का पूरा ध्यान रख रहे हैं।

गरीब लोग भी अपने आसपास रहने वाले स्ट्रीट डॉग्स का पूरा ध्यान रख रहे हैं।

पुलिसवाले सिर्फ लोगों को ही खाना नहीं खिला रहे, जानवरों का भी ख्याल रख रहे हैं।

पुलिसवाले सिर्फ लोगों को ही खाना नहीं खिला रहे, जानवरों का भी ख्याल रख रहे हैं।

दुकानों के आसपास रहने वाले डॉग्स को दुकानदार नियमित कुछ न कुछ खिला रहे हैं।

दुकानों के आसपास रहने वाले डॉग्स को दुकानदार नियमित कुछ न कुछ खिला रहे हैं।

डॉग्स लवर्स भी इस संकट में रोज डॉग्स को खाना खिलाने घरों से निकल रहे हैं।

डॉग्स लवर्स भी इस संकट में रोज डॉग्स को खाना खिलाने घरों से निकल रहे हैं।

स्ट्रीट डॉग्स के लिए इस समय सबसे बड़ा संकट है।

स्ट्रीट डॉग्स के लिए इस समय सबसे बड़ा संकट है।

प्रशासन भी अपील करता रहा है कि लोग इन डॉग्स को भी खाने के लिए देते रहें।

प्रशासन भी अपील करता रहा है कि लोग इन डॉग्स को भी खाने के लिए देते रहें।

विभिन्न शहरों में नगर निगम भी डॉग्स के खाने के लिए प्रबंध कर रहा है।

विभिन्न शहरों में नगर निगम भी डॉग्स के खाने के लिए प्रबंध कर रहा है।

लॉकडाउन के कारण बाजारों में सन्नाटा पसरा हुआ है, लिहाजा डॉग्स भूखे भटक रहे हैं।

लॉकडाउन के कारण बाजारों में सन्नाटा पसरा हुआ है, लिहाजा डॉग्स भूखे भटक रहे हैं।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios