Asianet News Hindi

ठंड से बचने के जुगाड़ में मां-बेटी और बेटे की नींद में मौत, डॉक्टर की सलाह आप भूलकर नहीं करें ऐसी गलती

First Published Jan 18, 2021, 7:19 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp


फिरोजपुर (पंजाब). इस समय दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और उत्तरी राजस्थान में कड़ाके की ठंड के साथ कोहरे का कहर भी लोगों के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है। रात में कई लोग इस सर्दी से बचने के लिए देसी जुगाड़ करते हैं। वह कमरे में अंगीठी जलाकर और दरवाजा बंद करके सो जाते हैं ताकि उनको ठंड ना लगे। लेकिन यह जुगाड़ हादसा का रुप ले लेती है और इससे जान भी जा सकती है। ऐसा ही एक मामला पंजाब के  फिरोजपुर से सामने आया है, जहां दो अलग-अलग हादसों में  पांच लोगों की मौत हो गई। यह सभी ठंड से बचने के लिए अंगीठी जलाकर सोए थे।


एक साथ मां और उसके बेटा और बेटी की मौत
दरअसल, पहला मामला फिरोजपुर में मल्लांवाला थाने इलाके के हामदवाला गांव में हुआ, जहां एक महिला अपने दो बच्चों के साथ कमरे में सोई हुई थी। उसने ठंड से बचने के लिए कमरे में अंगीठी चलाई थी। लेकिन सुबह तक उनकी मौत हो गई, डॉक्टरों ने बताया कि इनकी जान दम घुटने की वजह से हुई है। मृतका की पहचान राजबीर कौर, 12 और 5 साल के बेटों साहिलप्रीत व एकमप्रीत के रूप में हुई है। धुआं निकलने के लिए कोई जगह नहीं बची थी, सभी खिड़कियां और दरवाजे बंद जो थे। जिसकी वजह से यह हादसा हो गया। 


एक साथ मां और उसके बेटा और बेटी की मौत
दरअसल, पहला मामला फिरोजपुर में मल्लांवाला थाने इलाके के हामदवाला गांव में हुआ, जहां एक महिला अपने दो बच्चों के साथ कमरे में सोई हुई थी। उसने ठंड से बचने के लिए कमरे में अंगीठी चलाई थी। लेकिन सुबह तक उनकी मौत हो गई, डॉक्टरों ने बताया कि इनकी जान दम घुटने की वजह से हुई है। मृतका की पहचान राजबीर कौर, 12 और 5 साल के बेटों साहिलप्रीत व एकमप्रीत के रूप में हुई है। धुआं निकलने के लिए कोई जगह नहीं बची थी, सभी खिड़कियां और दरवाजे बंद जो थे। जिसकी वजह से यह हादसा हो गया। 

मां और बेटे की मौत..पति जिंदगी से जूझ रहा
आसपास को लोगों ने बताया कि मृतक महिला राजबीर रोज सुबह उठ कर भैंसों का दूध निकालती थी। लेकिन काफी देर होने के बाद ना तो वह बाहर निकली और ना ही उसके बच्चे दिखे तो हमने कमरे का दरवाजा खोला। जहां अंदर मां राजबीर कौर और बेटे साहिलप्रीत और एकमप्रीत के शव पड़े हुए थे। बताया जाता है कि महिला का पति मलयेशिया गया हुआ है, इसलिए उसकी जान बच गई। मामले की सूचना पुलिस को दी गई, जिसके बाद शवों को कब्जे में ले लिया गया।

मां और बेटे की मौत..पति जिंदगी से जूझ रहा
आसपास को लोगों ने बताया कि मृतक महिला राजबीर रोज सुबह उठ कर भैंसों का दूध निकालती थी। लेकिन काफी देर होने के बाद ना तो वह बाहर निकली और ना ही उसके बच्चे दिखे तो हमने कमरे का दरवाजा खोला। जहां अंदर मां राजबीर कौर और बेटे साहिलप्रीत और एकमप्रीत के शव पड़े हुए थे। बताया जाता है कि महिला का पति मलयेशिया गया हुआ है, इसलिए उसकी जान बच गई। मामले की सूचना पुलिस को दी गई, जिसके बाद शवों को कब्जे में ले लिया गया।


यहां भी मां और बेटे की नींद में ही मौत
वहीं इसी तरह का दूसरा मामला अमृतसर के थाना कोतवाली इलाके में हुआ, जहां पति-पत्नी और बेटा ठंड से बचने के लिए कमरे में अंगीठी जला कर सोए थे। लेकिन सुबह तक मां बेटे की दम घुटने की वजह से मौत हो गई। वहीं पिता अबजल की हालत गंभीर बताई जा रही है, जिसे गुरू नानक अस्पताल में भर्ती काराया गया है। पुलिस ने मृतकों की पहचान रजीना बेगम और उनके बेटे रिजवान के रूप में की है।


यहां भी मां और बेटे की नींद में ही मौत
वहीं इसी तरह का दूसरा मामला अमृतसर के थाना कोतवाली इलाके में हुआ, जहां पति-पत्नी और बेटा ठंड से बचने के लिए कमरे में अंगीठी जला कर सोए थे। लेकिन सुबह तक मां बेटे की दम घुटने की वजह से मौत हो गई। वहीं पिता अबजल की हालत गंभीर बताई जा रही है, जिसे गुरू नानक अस्पताल में भर्ती काराया गया है। पुलिस ने मृतकों की पहचान रजीना बेगम और उनके बेटे रिजवान के रूप में की है।

डॉक्टर दी ये सलाह..भूलकर नहीं करें यह गलती
पंजाब और हरियाणा में ऐसे कई मामले हर साल में आते हैं, लेकिन इसके बावजूद भी लोग इनसे कोई सबक नहीं लेते हैं। डॉक्टरों का भी कहना है कि कोई भी ऐसी गलती नहीं करे, क्योंकि अंगीठी लगाकर अक्सर सभी दरवाजे और खिड़कियां बंद कर लेते हैं। जिससे वहां पर ऑक्‍सीजन की मात्रा खत्म हो जाती है और लोगों की दम घुटने की वजह से नींद में ही मौत हो जाती है। इसलिए ठंड से बचने के लिए लोग कतई भी यह उपाय नहीं अपनाएं।

डॉक्टर दी ये सलाह..भूलकर नहीं करें यह गलती
पंजाब और हरियाणा में ऐसे कई मामले हर साल में आते हैं, लेकिन इसके बावजूद भी लोग इनसे कोई सबक नहीं लेते हैं। डॉक्टरों का भी कहना है कि कोई भी ऐसी गलती नहीं करे, क्योंकि अंगीठी लगाकर अक्सर सभी दरवाजे और खिड़कियां बंद कर लेते हैं। जिससे वहां पर ऑक्‍सीजन की मात्रा खत्म हो जाती है और लोगों की दम घुटने की वजह से नींद में ही मौत हो जाती है। इसलिए ठंड से बचने के लिए लोग कतई भी यह उपाय नहीं अपनाएं।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios