Asianet News Hindi

Covid 19: जानें Home Isolation में खुद का कैसे रखें ध्यान, कोरोना पॉजिटिव आने पर क्या ना करें

First Published May 7, 2021, 8:23 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

कोरोना वायरस की दूसरी लहर काफी खतरनाक साबित होती जा रही है। हर दिन कोविड 19 के मामले बढ़ते जा रहे हैं। पिछले 24 घंटे में 4.14 लाख नए मामले सामने आए हैं। कोरोना के बढ़ते मामलों की वजह से हॉस्पिटल्स में बेड की कमी हो जा रही है। ऐसे में डॉक्टर्स लोगों को क्वारंटीन की सलाह दे रहे हैं। इसके साथ ही इस महामारी से खुद को सुरक्षित रखने के लिए भी होम आइसोलेशन के लिए कहा जा रहा है। ऐसे में ये तभी सक्सेस है, जब आपको सही इलाज पता हो। आइए जानते हैं...

कोरोना पेशेंट घर पर क्या करें? 

1. कोरोना मरीजों को सबसे ज्यादा मल्टीविटामिन्स और खनिज पदार्थों की जरूरत होती है। इससे आपकी इम्यून सिस्टम बूस्ट होगा और आप जल्द ही रिकवर कर सकेंगे।

2. कोरोना से लड़ने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है कि आपकी इम्युनिटी स्ट्रॉन्ग हो। इसे मजबूत बनाने के लिए कोविड पेशेंट को हर दिन नारियल पानी, अनार या मौसमी का जूस और सूप देना चाहिए।

3. वहीं, कोविड-19 का जो नया वेरिएंट है, उसमें मरीजो कों गले में खराश की भी शिकायत और खाशी बहुत है। ऐसे में इसे ठीक करने का सही तरीका है कि आप हर दिन तीन बार भाप लें। इसके साथ ही नमक के पानी के गरारे भी कर सकते हैं। 

4. इसके अलावा कोरोना के कारण फीवर भी रहता है। ऐसे मे फीवर से राहत पाने के लिए हर 6 घंटे के अंतराल में पैरासेटामोल की गोली जरूर ले लें। इसके साथ ही आप कफ सिरप भी पी सकते हैं, लेकिन डॉक्टर की सलाह पर।  

कोरोना पेशेंट घर पर क्या करें? 

1. कोरोना मरीजों को सबसे ज्यादा मल्टीविटामिन्स और खनिज पदार्थों की जरूरत होती है। इससे आपकी इम्यून सिस्टम बूस्ट होगा और आप जल्द ही रिकवर कर सकेंगे।

2. कोरोना से लड़ने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है कि आपकी इम्युनिटी स्ट्रॉन्ग हो। इसे मजबूत बनाने के लिए कोविड पेशेंट को हर दिन नारियल पानी, अनार या मौसमी का जूस और सूप देना चाहिए।

3. वहीं, कोविड-19 का जो नया वेरिएंट है, उसमें मरीजो कों गले में खराश की भी शिकायत और खाशी बहुत है। ऐसे में इसे ठीक करने का सही तरीका है कि आप हर दिन तीन बार भाप लें। इसके साथ ही नमक के पानी के गरारे भी कर सकते हैं। 

4. इसके अलावा कोरोना के कारण फीवर भी रहता है। ऐसे मे फीवर से राहत पाने के लिए हर 6 घंटे के अंतराल में पैरासेटामोल की गोली जरूर ले लें। इसके साथ ही आप कफ सिरप भी पी सकते हैं, लेकिन डॉक्टर की सलाह पर।  

होम आइसोलेशन में किन बातों का रखें ध्यान? 

होम आइसोलेशन में रह रहे मरीज को हर चार घंटे के भीतर अपना ऑक्सीजन लेवल और बॉडी का टेंपरेचर चेक करते रहें। शरीर का ऑक्सीजन लेवल चेक करने के लिए आप बाजार से पल्स ऑक्सीमीटर और इंफ्रारेड थर्मामीटर अपने पास खरीदकर रख सकते हैं। डॉक्टर्स बताते हैं कि अगर आपका ऑक्सीजन लेवल 94 तक है तो आप अपना इलाज घर में कर सकते हैं। अगर लेवल इससे नीचे आता है तो आपको हॉस्पिटल में एडमिट होना होगा। 

होम आइसोलेशन में किन बातों का रखें ध्यान? 

होम आइसोलेशन में रह रहे मरीज को हर चार घंटे के भीतर अपना ऑक्सीजन लेवल और बॉडी का टेंपरेचर चेक करते रहें। शरीर का ऑक्सीजन लेवल चेक करने के लिए आप बाजार से पल्स ऑक्सीमीटर और इंफ्रारेड थर्मामीटर अपने पास खरीदकर रख सकते हैं। डॉक्टर्स बताते हैं कि अगर आपका ऑक्सीजन लेवल 94 तक है तो आप अपना इलाज घर में कर सकते हैं। अगर लेवल इससे नीचे आता है तो आपको हॉस्पिटल में एडमिट होना होगा। 

डॉक्टर्स की लें सलाह 

1. अगर आप में कोरोना के लक्षण नजर आ रहे हैं तो डॉक्टर की सलाह पर एंटीबायोटिक्स ले सकते हैं। 
2. इसके अलावा आइवरमेक्टिन या हाइड्रोऑक्सीक्लोरोक्वीन का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। 
3. वहीं, अगर कोविड के लक्षण 5 दिनों के बाद भी दिखाई देते हैं तो डॉक्टर की सलाह पर मापिक खुराक इन्हेलर (MDI) से बुडेसोनाईड का उपयोग किया जा सकता है।   
4. इतना ही नहीं कोरोना के लक्षण 7 दिन से ज्यादा दिखाई देते हैं तो डॉक्टर की सलाह पर कम खुराक में स्टीरोइड लिया जा सकता है। 

डॉक्टर्स की लें सलाह 

1. अगर आप में कोरोना के लक्षण नजर आ रहे हैं तो डॉक्टर की सलाह पर एंटीबायोटिक्स ले सकते हैं। 
2. इसके अलावा आइवरमेक्टिन या हाइड्रोऑक्सीक्लोरोक्वीन का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। 
3. वहीं, अगर कोविड के लक्षण 5 दिनों के बाद भी दिखाई देते हैं तो डॉक्टर की सलाह पर मापिक खुराक इन्हेलर (MDI) से बुडेसोनाईड का उपयोग किया जा सकता है।   
4. इतना ही नहीं कोरोना के लक्षण 7 दिन से ज्यादा दिखाई देते हैं तो डॉक्टर की सलाह पर कम खुराक में स्टीरोइड लिया जा सकता है। 

क्या सांस लेने में भी हो रही है तकलीफ? 

अगर आप होम आइसोलेशन में हैं और अपना इलाज कर रहे हैं। इस बीच अगर आपको सांस लेने में ज्यादा तकलीफ हो रही है तो ऐसे में उन्हें प्रोनिंग काफी मददगार साबित हो सकती है। इस प्रक्रिया में पेशेंट को पेट के बल लेटना होता है। ऐसा करने से फेफड़ों तक ऑक्सीजन पहुंचती है और सांस लेने में सुधार होता है। इसी तरह की एक्सरसाइज करते रहना चाहिए। आपकी ब्रीथिंग ठीक रहती है। 
 

क्या सांस लेने में भी हो रही है तकलीफ? 

अगर आप होम आइसोलेशन में हैं और अपना इलाज कर रहे हैं। इस बीच अगर आपको सांस लेने में ज्यादा तकलीफ हो रही है तो ऐसे में उन्हें प्रोनिंग काफी मददगार साबित हो सकती है। इस प्रक्रिया में पेशेंट को पेट के बल लेटना होता है। ऐसा करने से फेफड़ों तक ऑक्सीजन पहुंचती है और सांस लेने में सुधार होता है। इसी तरह की एक्सरसाइज करते रहना चाहिए। आपकी ब्रीथिंग ठीक रहती है। 
 

पॉजिटिव आने के बाद क्या ना करने से बचें? 

अगर आप कोरोना पॉजिटिव हैं और होम आइसोलेशन में घरेलु नुस्खों को अपना रहे हैं तो ऐसी स्थिति में गलती से भी रेमडेसिवीर का उपयोग ना करें। इसके अलावा अगर आपको सांस लेने में भी तकलीफ हो रही है तो खुद का इलाज अपनाने से पहले एक बार डॉक्टर को जरूर दिखा लें। बिना किसी सलाह के ऑक्सीजन सिलेंडर का उपयोग ना करें। क्योंकि ये शरीर के लिए नुकसान देह हो सकता है। नेब्यूलाइजर का भी इस्तेमाल भूलकर ना करें। 

पॉजिटिव आने के बाद क्या ना करने से बचें? 

अगर आप कोरोना पॉजिटिव हैं और होम आइसोलेशन में घरेलु नुस्खों को अपना रहे हैं तो ऐसी स्थिति में गलती से भी रेमडेसिवीर का उपयोग ना करें। इसके अलावा अगर आपको सांस लेने में भी तकलीफ हो रही है तो खुद का इलाज अपनाने से पहले एक बार डॉक्टर को जरूर दिखा लें। बिना किसी सलाह के ऑक्सीजन सिलेंडर का उपयोग ना करें। क्योंकि ये शरीर के लिए नुकसान देह हो सकता है। नेब्यूलाइजर का भी इस्तेमाल भूलकर ना करें। 

क्या कोरोना के संभावित लक्षण? 

कोरोना के संभावित लक्षण सिर में दर्द, बुखार, खांसी, शरीर में दर्द, सांस का फूलना, सूंघने की क्षमता का कम हो जाना, स्वाद ना आना, आंखें लाल होना, पेट से जुड़ी समस्या होना, ज्यादा थकान होना और होंठो का नीला पड़ना आदि जैसी और भी कई समस्याएं हो सकती हैं। हालांकि, ये कोरोना के संभावित लक्षण हैं। अगर इनमें से कोई भी लक्षण किसी में दिखाई दे तो उसे फौरन से कोविड टेस्ट कराने की सलाह दें। सही समय पर पहचान होने से इसका इलाज टाइम से शुरू हो सकेगा। इससे कोविड की रफ्तार पर रोक लगाने में आसानी होगी।  

क्या कोरोना के संभावित लक्षण? 

कोरोना के संभावित लक्षण सिर में दर्द, बुखार, खांसी, शरीर में दर्द, सांस का फूलना, सूंघने की क्षमता का कम हो जाना, स्वाद ना आना, आंखें लाल होना, पेट से जुड़ी समस्या होना, ज्यादा थकान होना और होंठो का नीला पड़ना आदि जैसी और भी कई समस्याएं हो सकती हैं। हालांकि, ये कोरोना के संभावित लक्षण हैं। अगर इनमें से कोई भी लक्षण किसी में दिखाई दे तो उसे फौरन से कोविड टेस्ट कराने की सलाह दें। सही समय पर पहचान होने से इसका इलाज टाइम से शुरू हो सकेगा। इससे कोविड की रफ्तार पर रोक लगाने में आसानी होगी।  

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios