Asianet News Hindi

बाइक, ट्रक और वैन, ग्रामीण क्षेत्रों में ऐसे में पहुंचाई जा रही वैक्सीन, तस्वीरों में देखें

First Published May 11, 2021, 2:21 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. लोगों के लिए अब अच्छी खबर है कि अब लगातार दूसरे दिन कोरोना की रफ्तार थमी हुई है। जहां पिछले 24 घंटे में 3.29 लाख कोविड-19 के नए मामले सामने आए हैं। जबकि, पिछले 24 घंटे में इसकी रिकवरी के आंकड़े 3.55 लाख हैं। बीते कुछ महीनों से देशभर में वैक्सीनेशन प्रोग्राम चलाया जा रहा है। कोविड की दूसरी लहर को खतरनाक देखते हुए इसके टीके को ग्रामीण क्षेत्रों में भी जैसे-तैसे पहुंचाया जा रहा है। आइए तस्वीरों में देखते हैं कि कोविड-19 वैक्सीन ग्रामीण क्षेत्रों में कैसे पहुंचाई जा रही है।

पड़ोसी की बाइक पर 40 मिनट तक किया सफर

कोरोना वैक्सीन को ग्रामीणों तक पहुंचाने के लिए 40 मिनट तक फ्रंटलाइन वर्कर ने पड़ोसी की बाइक पर 40 मिनट तक सफर किया, जिसकी फोटो सोशल मीडिया पर वायरल है। रीना जानी नाम की 34 साल की महिला ट्राइबल हेल्थ वर्कर मथालपट कम्युनिटी हेल्थ सेंटर उड़ीसा को हेड कर रही हैं। 

पड़ोसी की बाइक पर 40 मिनट तक किया सफर

कोरोना वैक्सीन को ग्रामीणों तक पहुंचाने के लिए 40 मिनट तक फ्रंटलाइन वर्कर ने पड़ोसी की बाइक पर 40 मिनट तक सफर किया, जिसकी फोटो सोशल मीडिया पर वायरल है। रीना जानी नाम की 34 साल की महिला ट्राइबल हेल्थ वर्कर मथालपट कम्युनिटी हेल्थ सेंटर उड़ीसा को हेड कर रही हैं। 

1700किमी सफर के बाद उड़ीसा हेल्थ सेंटर पहुंची वैक्सीन

वैक्सीन ने मथालपट कम्युनिटी हेल्थ सेंटर उड़ीसा तक पहुंचने के लिए 1700 किमी तक का सफर तय किया है। इस 1700 किमी के सफर में वैक्सीन को प्लेन, ट्रक और वैन के जरिए सेंटर तक पहुंचाया गया, जहां रीना जानी कोल्ड स्टोरेज और सारी व्यवस्था के साथ उसका इंतजार कर रही थीं। 

1700किमी सफर के बाद उड़ीसा हेल्थ सेंटर पहुंची वैक्सीन

वैक्सीन ने मथालपट कम्युनिटी हेल्थ सेंटर उड़ीसा तक पहुंचने के लिए 1700 किमी तक का सफर तय किया है। इस 1700 किमी के सफर में वैक्सीन को प्लेन, ट्रक और वैन के जरिए सेंटर तक पहुंचाया गया, जहां रीना जानी कोल्ड स्टोरेज और सारी व्यवस्था के साथ उसका इंतजार कर रही थीं। 

छोटे-छोटे हिस्सों में हो चुकी है वैक्सीन की पैकिंग 

कोरापुट मेन वैक्सीन स्टोर में हेल्थ केयर वर्कर्स ने सावधानी पूर्वक सभी वैक्सीन्स की गिनती कर ली है। इसे छोटे-छोटे हिस्सों में वैक्सीनेशन साइट्स पर भेज दिया गया है। इसमें 30 किमी दूर मथालपट कम्युनिटी हेल्थ सेंटर भी शामिल है।  

छोटे-छोटे हिस्सों में हो चुकी है वैक्सीन की पैकिंग 

कोरापुट मेन वैक्सीन स्टोर में हेल्थ केयर वर्कर्स ने सावधानी पूर्वक सभी वैक्सीन्स की गिनती कर ली है। इसे छोटे-छोटे हिस्सों में वैक्सीनेशन साइट्स पर भेज दिया गया है। इसमें 30 किमी दूर मथालपट कम्युनिटी हेल्थ सेंटर भी शामिल है।  

हेल्थ वर्कर्स ने वैक्सीन्स को कर लिया है पैक

Oxford/Astra Zeneca द्वारा विकसित की गई वैक्सीन को वैक्सीनेशन सेंटर्स पर भेजने से पहले ही हेल्थ वर्कर्स ने इनकी पैकिंग कर ली है। 
 

हेल्थ वर्कर्स ने वैक्सीन्स को कर लिया है पैक

Oxford/Astra Zeneca द्वारा विकसित की गई वैक्सीन को वैक्सीनेशन सेंटर्स पर भेजने से पहले ही हेल्थ वर्कर्स ने इनकी पैकिंग कर ली है। 
 

पैरामिलिट्री और स्पेशल फोर्स दे रही सुरक्षा

वहीं, अन्य पिछड़े इलाकों में वैक्सीन को पूरी सुरक्षा के साथ भेजा रहा है। जो इलाका माओवादियों द्वारा संचालित किया जाता है। वहां चाहे जब विद्रोह हो सकता है। ऐसे में उस जगह पर वैक्सीन और हेल्थ वर्कर्स को सुरक्षा देने के लिए पैरामिलिट्री और स्पेशल फोर्स को साथ में भेजा जा रहा है।  

पैरामिलिट्री और स्पेशल फोर्स दे रही सुरक्षा

वहीं, अन्य पिछड़े इलाकों में वैक्सीन को पूरी सुरक्षा के साथ भेजा रहा है। जो इलाका माओवादियों द्वारा संचालित किया जाता है। वहां चाहे जब विद्रोह हो सकता है। ऐसे में उस जगह पर वैक्सीन और हेल्थ वर्कर्स को सुरक्षा देने के लिए पैरामिलिट्री और स्पेशल फोर्स को साथ में भेजा जा रहा है।  

3 दिन लगातार गाड़ी चलाकर ड्राइवर ने वैक्सीन को पहुंचाया

इसके अलावा पुरीजा नाम के एक ड्राइवर ने बिना किसी चीज की परवाह किए करीब 24 घंटे गाड़ी चलाकर 3 दिन में कोरापुट में वैक्सीन को इकट्ठा किया और उसे वैक्सीनेशन सेंटर्स तक पहुंचाया। 

3 दिन लगातार गाड़ी चलाकर ड्राइवर ने वैक्सीन को पहुंचाया

इसके अलावा पुरीजा नाम के एक ड्राइवर ने बिना किसी चीज की परवाह किए करीब 24 घंटे गाड़ी चलाकर 3 दिन में कोरापुट में वैक्सीन को इकट्ठा किया और उसे वैक्सीनेशन सेंटर्स तक पहुंचाया। 

वैक्सीनेशन सेंटर तक सुरक्षित पहुंचा टीका

हालांकि, अंत में वैक्सीन सुरक्षित अपनी जगह पर पहुंच गया। इसे लोगों तक पहुंचाने के लिए अथोरिटी द्वारा डिटेल प्लानिंग की गई है। 

वैक्सीनेशन सेंटर तक सुरक्षित पहुंचा टीका

हालांकि, अंत में वैक्सीन सुरक्षित अपनी जगह पर पहुंच गया। इसे लोगों तक पहुंचाने के लिए अथोरिटी द्वारा डिटेल प्लानिंग की गई है। 

रेफ्रिजरेटर में रखा जा रहा है वैक्सीन को

मथालपट कम्युनिटी हेल्थ सेंटर उड़ीसा में Oxford/Astra Zeneca द्वारा विकसित की गई वैक्सीन को सुरक्षित रेफ्रिजरेटर में रखा गया है। 
 

रेफ्रिजरेटर में रखा जा रहा है वैक्सीन को

मथालपट कम्युनिटी हेल्थ सेंटर उड़ीसा में Oxford/Astra Zeneca द्वारा विकसित की गई वैक्सीन को सुरक्षित रेफ्रिजरेटर में रखा गया है। 
 

100 हेल्थ वर्कर्स में से एक हैं रीना जानी 

रीना जानी उन 100 हेल्थ वर्कर्स में से एक हैं, जो आगे आकर लोगों की मदद कर रही हैं और वैक्सीनेशन प्रोग्राम से जुड़ी हुई हैं। वो कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में आगे आकर लड़ रही हैं। 

100 हेल्थ वर्कर्स में से एक हैं रीना जानी 

रीना जानी उन 100 हेल्थ वर्कर्स में से एक हैं, जो आगे आकर लोगों की मदद कर रही हैं और वैक्सीनेशन प्रोग्राम से जुड़ी हुई हैं। वो कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में आगे आकर लड़ रही हैं। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios