Asianet News Hindi

स्कूल नहीं जा पाने और घर के बाहर मैच न खेल पाने से नाराज 12वीं के स्टूडेंट ने सीएम योगी को दे डाली खौफनाक धमकी

First Published Nov 24, 2020, 11:07 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

लखनऊ (Uttar Pradesh,) । मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को एक बार फिर जान से मारने की धमकी मिली है। यह धमकी भरा संदेश 12वीं के एक स्टूडेंट ने डॉयल 112 के वॉट्सएप नंबर पर दिया, जिसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पूछताछ में आरोपी स्टूडेंट ने बताया कि स्कूल न खुलने और घर के बाहर मैच न खेलने देने के कारण वह नाराज है। इसके चलते गुस्से में आकर उसने मैसेज कर दिया था।

बताते चले कि रविवार की शाम मिले धमकी के बाद पुलिस सक्रिय हो गई थी। सुशांत गोल्फ सिटी थाना में चौकी प्रभारी अहमामऊ ने देर रात मुकदमा दर्ज कराया था। साइबर सेल द्वारा फोन नंबर की जांच में लोकेशन आगरा की मिली। सुशांत गोल्फ सिटी थाना प्रभारी सचिन सिंह के साथ टीम ने ग्राम अकोला थाना मांगरोल आगरा से आरोपी स्टूडेंट को गिरफ्तार कर लिया।

बताते चले कि रविवार की शाम मिले धमकी के बाद पुलिस सक्रिय हो गई थी। सुशांत गोल्फ सिटी थाना में चौकी प्रभारी अहमामऊ ने देर रात मुकदमा दर्ज कराया था। साइबर सेल द्वारा फोन नंबर की जांच में लोकेशन आगरा की मिली। सुशांत गोल्फ सिटी थाना प्रभारी सचिन सिंह के साथ टीम ने ग्राम अकोला थाना मांगरोल आगरा से आरोपी स्टूडेंट को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस के मुताबिक आरोपी ने पूछताछ में उसने बताया कि विद्यालय बंद होने व पुलिस द्वारा घर के बाहर मैच ना खेलने देने से वह नाराज था। जिसके कारण ये मैसेज किया था। पुलिस ने नाबालिग के पास से एक मोबाइल फोन बरामद किया है, जिससे उसने धमकी भरा मैसेज भेजा था। नाबालिग के पिता सरकारी प्राथमिक विद्यालय में मास्टर है।
(फाइल फोटो)

पुलिस के मुताबिक आरोपी ने पूछताछ में उसने बताया कि विद्यालय बंद होने व पुलिस द्वारा घर के बाहर मैच ना खेलने देने से वह नाराज था। जिसके कारण ये मैसेज किया था। पुलिस ने नाबालिग के पास से एक मोबाइल फोन बरामद किया है, जिससे उसने धमकी भरा मैसेज भेजा था। नाबालिग के पिता सरकारी प्राथमिक विद्यालय में मास्टर है।
(फाइल फोटो)

पुलिस की जांच-पड़ताल में यह सामने आया है कि नाबालिग ने मोबाइल फोन से संदेश डिलीट कर दिया था। पुलिस अब फोरेंसिक टीम की मदद से डिलीट किए गए संदेश को रिकवर करने का प्रयास कर रही है। यह पता लगाया जा रहा है कि संदेश भेजने के पीछे नाबालिग के अलावा कोई अन्य तो नहीं था।

(फाइल फोटो)

पुलिस की जांच-पड़ताल में यह सामने आया है कि नाबालिग ने मोबाइल फोन से संदेश डिलीट कर दिया था। पुलिस अब फोरेंसिक टीम की मदद से डिलीट किए गए संदेश को रिकवर करने का प्रयास कर रही है। यह पता लगाया जा रहा है कि संदेश भेजने के पीछे नाबालिग के अलावा कोई अन्य तो नहीं था।

(फाइल फोटो)


बताते चले कि इसके पहले सिंतबर में इटावा के रहने वाले ट्रक ड्राइवर अमरपाल ने डायल 112 के व्हाट्सएप पर धमकी भरा मैसेज भेजा था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक उसने सीएम के प्रति अभद्र बातें करने के साथ ही मुख्तार अंसारी को 24 घंटे के भीतर जेल से बाहर निकालने की बात कही गई थी। मैसेज में लिखा था कि मुख्तार को जेल से नहीं छुड़ाया गया तो 25 तारीख यानी शुक्रवार तक सरकार मिटा दी जाएगी। जिसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था।
 


बताते चले कि इसके पहले सिंतबर में इटावा के रहने वाले ट्रक ड्राइवर अमरपाल ने डायल 112 के व्हाट्सएप पर धमकी भरा मैसेज भेजा था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक उसने सीएम के प्रति अभद्र बातें करने के साथ ही मुख्तार अंसारी को 24 घंटे के भीतर जेल से बाहर निकालने की बात कही गई थी। मैसेज में लिखा था कि मुख्तार को जेल से नहीं छुड़ाया गया तो 25 तारीख यानी शुक्रवार तक सरकार मिटा दी जाएगी। जिसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था।
 

बताते चले कि इसके पहले सात जुलाई को डायल 112 के वाट्सएप नंबर पर मुख्यमंत्री को जान से मारने की धमकी भरा मैसेज मिला था। मैसेज मिलते ही पुलिस महकमा अलर्ट हो गया। छानबीन में पता चला कि धमकी भरा मैसेज कानपुर देहात से भेजा गया है। मामले में 12वीं के छात्र को पकड़ा गया। छात्र को जुवेनाइल कोर्ट के समक्ष पेश किया गया। 
 

बताते चले कि इसके पहले सात जुलाई को डायल 112 के वाट्सएप नंबर पर मुख्यमंत्री को जान से मारने की धमकी भरा मैसेज मिला था। मैसेज मिलते ही पुलिस महकमा अलर्ट हो गया। छानबीन में पता चला कि धमकी भरा मैसेज कानपुर देहात से भेजा गया है। मामले में 12वीं के छात्र को पकड़ा गया। छात्र को जुवेनाइल कोर्ट के समक्ष पेश किया गया। 
 

21 मई की देर रात लगभग साढ़े बारह बजे यूपी पुलिस के 112 मुख्यालय में एक वॉट्सएप मैसेज के जरिए भी धमकी मिली थी। यह मैसेज डायल 112 की सोशल मीडिया डेस्क के वॉट्सएप नंबर पर आया था। मैसेज में लिखा था, 'सीएम योगी को मैं बम से मारने वाला हूं। आरोपी का नाम कामरान था, जिसने पकड़ने जाने पर कहा था कि मुझे ऐसा करने के एवज में एक करोड़ रुपए देने की बात कही गई है।  

21 मई की देर रात लगभग साढ़े बारह बजे यूपी पुलिस के 112 मुख्यालय में एक वॉट्सएप मैसेज के जरिए भी धमकी मिली थी। यह मैसेज डायल 112 की सोशल मीडिया डेस्क के वॉट्सएप नंबर पर आया था। मैसेज में लिखा था, 'सीएम योगी को मैं बम से मारने वाला हूं। आरोपी का नाम कामरान था, जिसने पकड़ने जाने पर कहा था कि मुझे ऐसा करने के एवज में एक करोड़ रुपए देने की बात कही गई है।  

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios